What Is DAF In UPSC? यूपीएससी की तैयारी करने से पहले DAF के बारे में जान लें

What is DAF in UPSC? : भारत में संघ लोक सेवा आयोग के द्वारा सिविल सर्विस परीक्षा (CSE) आयोजित की जाती है, जिसके तहत भारत के युवा आईएएस, आईपीएस, आईएफएस आदि उच्च पदों के लिए चयनित होते हैं। यह परीक्षा साल में एक बार आयोजित की जाती है, इसकी प्रारंभिक परीक्षा (प्रिलिम्स) सितम्बर या अक्टूबर माह में और मुख्य परीक्षा (मेंस) दिसम्बर या जनवरी माह में तथा साक्षात्कार मार्च-अप्रैल माह में आयोजित की जाती है।

WHAT IS DAF IN UPSC
WHAT IS DAF IN UPSC

संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा परीक्षा (UPSC) – संक्षिप्त विवरण

  • भर्ती का नाम : संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा परीक्षा
  • भर्ती बोर्ड का नाम : संघ लोक सेवा आयोग (UPSC)
  • चयन प्रकिया : प्रारंभिक परीक्षा (प्रिलिम्स), मुख्य परीक्षा (मेंस), साक्षात्कार
  • परीक्षा का माध्यम : ऑफ़लाइन
  • आधिकारिक वेबसाइट : https://www.upsc.gov.in

DAF Full Form – DAF का फुल फॉर्म

DAF का फूल फॉर्म Detailed Application Form होता है, DAF को मुख्य परीक्षा के लिए आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों को यूपीएससी की आधिकारिक वेबसाइट पर ऑनलाइन भरना और अपलोड करना होता है। DAF भरने के तरीके को जानने से पहले आइए DAF भरते समय पालन किए जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण दिशानिर्देशों पर एक नज़र डालें।

What Is UPSC DAF

अभ्यर्थी मुख्य परीक्षा (मेंस) को उत्तीर्ण कर लेने के बाद आयोग द्वारा डिटेल्ड एप्लीकेशन फॉर्म (DAF) का ऑनलाइन आवेदन फॉर्म जारी किया जाता है, जिसमें आयोग द्वारा उम्मीदवार से उसके बारे में पूरी जानकारी मांगी जाती है। DAF फॉर्म में निम्नलिखित प्रकार की सूचनाएं उम्मीदवार को देनी पड़ती है जैसे –

  • उम्मीदवार किस कैडर में जाना चाहते है।
  • अभ्यर्थी की योग्यता क्या है।
  • उम्मीदवार कार्यरत है या नही, अगर हां तो किस क्षेत्र में कार्यरत है तथा उसके अनुभव के बारे में बताना आवश्यक है।
  • उम्मीदवार के पसन्द के बारे में तथा उसकी या उसके रुचि के बारे में जानकारी देनी पड़ती है।
  • उम्मीदवार के परिवार तथा आय के बारे में जानकरी देनी पड़ती है।
  • उम्मीदवार कौन से खेल में रुचि रखता है तथा आदि जानकरी इस फॉर्म के माध्यम से आयोग को देनी पड़ती है।

अगर कोई उम्मीदवार इस फॉर्म के लिए आवेदन कर तथा वह अपना कार्य अनुभव की सूचना देता तो उस अभ्यर्थी को जिस भी प्राइवेट या सरकारी संस्थान में कार्यरत है या भूतकाल में कार्यरत था उसके सबूत के तौर पर आयोग को प्रमाण पत्र देना पड़ता है और भूल कर भी कोई गलत सूचना इस फॉर्म नही देनी चाहिए अन्यथा आयोग द्वारा उम्मीदवार का फॉर्म रद्द भी किया जा सकते है और अभ्यर्थी परीक्षा से बाहर भी हो सकता है।

लगभग हर साल 12000 से 15000 उम्मीदवार इस फॉर्म के लिए आवेदन करते है तथा कुछ गलतियों के कारण उनका फॉर्म रदद् भी हो जाता है तो उम्मीदवार DAF फॉर्म का ऑनलाइन आवेदन करते समय कैडर तथा अपने पद का चयन सावधनीपूर्वक करें। DAF फॉर्म में उम्मीदवार द्वारा जो भी सूचना दी गयी है अगर उससे सम्बंधित उनके पास प्रमाणपत्र हो तो आवेदन करते समय इसे जरूर संलग्न करें।

DAF के भाग

DAF में 8 भाग होते हैं, और प्रत्येक भाग को भरना होता है, डीएएफ भरना आसान बनाने के लिए और डीएएफ भरने के लिए उम्मीदवारों को एक स्पष्ट तस्वीर देने के लिए, डीएएफ की सैंपल छवियां नीचे दी गई हैं और हाइलाइट किए गए महत्वपूर्ण क्षेत्र हैं जहां उम्मीदवारों को इसे भरने और जमा करने के दौरान सावधान रहना होगा, उम्मीदवारों को बाद में इसे बदलने का मौका नहीं मिल सकता है।

UPSC DAF : Service Preference & Cadre Preferences

Service Preference & Cadre Preferences डीएएफ में भरे जाने वाले बहुत महत्वपूर्ण क्षेत्रों में से हैं। उम्मीदवारों को सलाह दी जाती है कि वे सेवा वरीयताएँ और संवर्ग वरीयताएँ भरने से पहले ध्यान से सोचें क्योंकि एक बार भरने और जमा करने के बाद, वे इसे बदल नहीं सकते हैं।

नीचे Service Preference & Cadre Preferences की सूची दी गई है –

Service Preference – सेवा वरीयता

  • IAS
  • IFS
  • IPS

(Above Three Are Interchangeable)

  • IRS (IT)
  • IRS (Customs)
  • IAAS
  • Indian Railway Traffic Service (King of Railways)
  • Indian Railways Accounts Service
  • Indian Defence Estate
  • Indian Defence Accounts
  • Indian P & T Accounts & Finance
  • Indian Railway Personnel Service
  • Indian Ordnance Factories Service
  • Indian Civil Accounts Service
  • Indian Postal Service
  • Indian Information Service
  • Indian Trade Service
  • Indian Corporate Law Service
  • DANICS
  • DANIPS
  • Armed Force HQ
  • Pondicherry Civil Service

Cadre Preferences – उत्तर भारतीय उम्मीदवारों के लिए

  • राजस्थान
  • बिहार
  • उत्तर प्रदेश
  • AGMUT
  • मध्य प्रदेश
  • पंजाब
  • गुजरात
  • झारखंड
  • हिमाचल प्रदेश
  • उत्तराखंड
  • हरियाणा
  • महाराष्ट्र
  • छत्तीसगढ
  • कर्नाटक
  • आंध्र प्रदेश
  • तमिलनाडु
  • तेलंगाना
  • उड़ीसा
  • केरल
  • पश्चिम बंगाल
  • असम, मेघालय
  • जम्मू और कश्मीर
  • सिक्किम
  • त्रिपुरा
  • नगालैंड
  • मणिपुर

Cadre Preferences – दक्षिण भारतीय उम्मीदवारों के लिए

  • कर्नाटक
  • आंध्र प्रदेश
  • तमिलनाडु
  • तेलंगाना
  • उड़ीसा
  • महाराष्ट्र
  • केरल
  • राजस्थान
  • बिहार
  • उत्तरप्रदेश
  • एजीएमयूटी
  • मध्य प्रदेश
  • पंजाब
  • गुजरात
  • पश्चिम बंगाल
  • झारखंड
  • छत्तीसगढ
  • हिमाचल प्रदेश
  • उत्तराखंड
  • हरियाणा
  • असम, मेघालय
  • जम्मू और कश्मीर
  • सिक्किम
  • त्रिपुरा
  • नगालैंड
  • मणिपुर

Cadre Preferences – उत्तर पूर्व उम्मीदवारों के लिए

  • असम, मेघालय
  • सिक्किम
  • त्रिपुरा
  • नगालैंड
  • मणिपुर
  • पश्चिम बंगाल
  • हिमाचल प्रदेश
  • उत्तराखंड
  • जम्मू और कश्मीर
  • राजस्थान
  • उड़ीसा
  • आंध्र प्रदेश
  • तमिलनाडु
  • कर्नाटक
  • तेलंगाना
  • केरल
  • महाराष्ट्र
  • बिहार
  • उत्तर प्रदेश
  • झारखंड
  • मध्य प्रदेश
  • गुजरात
  • पंजाब
  • मध्य प्रदेश
  • हरियाणा
  • छत्तीसगढ़

अधिक सटीक जनकरियों के लिए, यूपीएससी सिविल सेवा मेन्स परीक्षा में अर्हता प्राप्त करने वाले उम्मीदवारों को सलाह दी जाती है कि वे सिविल सेवा परीक्षा के नियम देखें, जो यूपीएससी की आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध है।

आशा है आपको हमारे द्वारा दी गई DAF फॉर्म से जुड़ी जानकारी पसंद आई होगी, सरकारी परीक्षाओं से जुड़े ऐसे ही लेटेस्ट अपडेट्स हेतु सरकारी अलर्ट को बुकमार्क करें।

Leave a Comment