Advertisements

UKPSC RO ARO Syllabus 2024 In Hindi

उत्तराखंड लोक सेवा आयोग द्वारा (UKPSC) समीक्षा अधिकारी तथा सहायक समीक्षा आधिकारिक के लिए अधिसूचना को जारी कर दिया गया है, ऐसे में जो भी अभ्यर्थी इस परीक्षा में सम्मिलित होना चाहते हैं, वे आधिकारिक वेबसाइट या फिर नीचे दिए गए लिंक के जरूर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

मैं आपको नीचे UKPSC RO ARO Syllabus In Hindi तथा इसके परीक्षा पैटर्न के बारे में विस्तार से बताऊंगा ताकि आपको उत्तराखंड RO ARO पाठ्यक्रम 2024 में किसी भी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े और आप इसी के अनुसार अपनी तैयारी को कर सकें।

उत्तराखंड RO ARO भर्ती के बारे में संक्षिप्त विवरण

भर्ती का नामउत्तराखंड आर.ओ, ए.आर.ओ भर्ती 2023
भर्ती बोर्ड का नामउत्तराखंड लोक सेवा आयोग (UKPSC)
पद का नामसमीक्षा अधिकारी (आरओ) और सहायक समीक्षा अधिकारी (एआरओ)
आवेदन की प्रक्रियाऑनलाइन
विज्ञापन संख्याA-1/E-3/DR(RO/ARO)/2023
पदों की संख्या137 पद
आधिकारिक वेबसाइटhttps://www.psc.uk.gov.in/

उत्तराखंड आर.ओ, ए.आर.ओ भर्ती का परीक्षा पैटर्न

इसका परीक्षा पैटर्न निम्नलिखित है –

प्रारंभिक परीक्षा

  1. इसमें भर्ती तीन परीक्षा होगी, जिसमें की पहली परीक्षा प्रारंभिक परीक्षा होगी, इसमें प्रश्नों का प्रकार बहुविकल्पीय या वस्तुनिष्ठ होगा।
  2. इस परीक्षा में सामान्य अध्ययन एवम सामान्य बुद्धि परीक्षण से प्रश्न पूछे जायेंगे।
  3. प्रारंभिक परीक्षा में कुल 150 प्रश्न 150 अंकों के लिए पूछा जाएगा।
  4. वहीं समयावधि की बात करें तो इसकी समयावधि कुल 2 घंटे यानी की 120 मिनट की होगी।
क्रमांकप्रश्न पत्रपरीक्षा का स्वरूपप्रश्न संख्याअधिकतम अंकसमयावधि
1सामान्य अध्ययन एवम् सामान्य बुद्धि परीक्षणवस्तुनिष्ठ प्रकृति150 प्रश्न।150 अंक।2 घंटे।

मुख्य परीक्षा

  1. मुख्य परीक्षा में तीन तरह के प्रश्न पूछे जायेंगे।
  2. सामान्य अध्ययन के 200 प्रश्न 200 अंकों के लिए पूछे जायेंगे, और जिसके लिए आपको 03 घंटे का समय प्रदान किया जाएगा, ये सब प्रश्न वस्तुनिष्ठ प्रकृति के होंगें।
  3. हिंदी संरचना के 05 प्रश्न 100 अंकों के लिए पूछे जायेंगे, यह सब प्रश्न परम्परागत प्रकृति के होंगें, जिसके लिए आपको कुल 03 घंटे का समय प्रदान किया जाएगा।
  4. निबंध में 03 प्रश्न 100 अंकों के लिए पूछे जायेंगे, इन सब परीक्षा का स्वरूप परम्परागत प्रकृति का होगा, जिसके लिए आपको कुल 03 घंटे का समय प्रदान किया जाएगा।
क्रमांकप्रश्न पत्रपरीक्षा का स्वरूपप्रश्न संख्याअधिकतम अंकसमयावधि
1सामान्य अध्ययनवस्तुनिष्ठ प्रकृति200 प्रश्न।200 अंक।03 घंटे।
2हिंदी संरचनापरम्परागत प्रकृति05 प्रश्न100 अंक03 घंटे।
3निबंधपरम्परागत प्रकृति03 प्रश्न100 अंक03 घंटे।
कुल400 अंक।

प्रयोगात्मक परीक्षा

क्रम संख्याप्रश्न पत्रपरीक्षा का स्वरूपअधिकतम अंकसमयावधि
1कम्प्यूटर का आधारभूत ज्ञान परीक्षाअर्हकारी प्रकृति10001 घंटे।
2टंकण परीक्षाअर्हकारी प्रकृति10 मिनट
  1. इस परीक्षा में आपको केवल पास या उत्तीर्ण होना है, यदि आप ऐसा नहीं कर पाते हैं तो आपका नाम अंतिम मेघा सूची में नहीं रहेगा।
  2. कम्प्यूटर का आधारभूत ज्ञान परीक्षा में आपको कम्प्यूटर विषय से 100 अंकों के लिए प्रश्न पूछे जायेंगे, जिसमें आपको 40 अंक पाना अनिवार्य है।
नोट – वस्तुनिष्ठ प्रकृति की परीक्षाओं में ऋणात्मक मूल्यांकन ( Negative marking) पद्धति अपनाई जायेगी। अभ्यर्थी द्वारा प्रत्येक प्रश्न के लिए दिये गये गलत उत्तर के लिए या अभ्यर्थी द्वारा एक ही प्रश्न के एक से अधिक उत्तर देने के लिए (चाहे दिये गये उत्तर में से एक सही ही क्यों न हो, उस प्रश्न के लिए दिये जाने वाले अंकों का एक चौथाई दण्ड के रूप में काटा जायेगा । दण्ड स्वरूप प्राप्त अंकों के योग को कुल प्राप्तांकों में से घटाया जायेगा ।

UKPSC RO ARO Syllabus 2024 In Hindi

यदि आप समीक्षा अधिकारी और सहायक समीक्षा अधिकारी के फॉर्म को भरकर परीक्षा देने के बारें में सोच रहे हैं तो आपको UKPSC RO ARO Syllabus Hindi के बारें में सम्पूर्ण ज्ञान होना आवश्यक है नहीं तो आप इसकी परीक्षा में शानदार प्रदर्शन नहीं कर पाएंगे, और अब मै आपको इस परीक्षा हेतु टॉपिक के अनुसार आपको पाठ्यक्रम के बारें में जानकारी देने वाला हूँ, जिससे की आप परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन करके इस पद के लिए चयनित हो सकेंगे-

प्रारंभिक परीक्षा – सामान्य अध्ययन एवम् सामान्य बुद्धि परीक्षण

सामान्य अध्ययन – 100 अंक

हिंदी मेंअंग्रेजी में
सामान्य विज्ञान एवं कंप्यूटर से संबंधित आधारभूत जानकारी : सामान्य विज्ञान एवं कंप्यूटर संचालन की आधारभूत जानकारी सम्बन्धी प्रश्न विज्ञान एवं कंप्यूटर की सामान्य समझ एवं दैनिक जीवन में इनके अनुप्रयोग, प्रेक्षण एवं अनुभव पर आधारित होंगे, जो कि ऐसे शिक्षित व्यक्ति से अपेक्षित हैं जिसका विज्ञान या कंप्यूटर की किसी भी शाखा में विशेष अध्ययन न हो ।General Science and Knowledge of Computer Operation: Questions on General Science and Computer operation will cover general understating and application of science and Computers including matters of day to day observation and experience as may be expected from an educated person who has not made a special study of any scientific or computer discipline.
भारत का इतिहास तथा भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन : भारत का इतिहास तथा भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन के अन्तर्गत प्रश्न; प्राचीन, मध्यकालीन एवं आधुनिक भारतीय इतिहास के राजनैतिक, सामाजिक, आर्थिक एवं सांस्कृतिक पहलुओं की व्यापक जानकारी तथा भारत के स्वतंत्रता आन्दोलन, राष्ट्रवाद के विकास एवं स्वतंत्रता प्राप्ति पर आधारित होंगे।History of India and Indian National Movement: Questions on history of India and Indian National Movement will be based on broad understanding of ancient, mediaeval and modern India’s political, social, economic, and cultural aspects and India’s Freedom movement,growth of nationalism,and attainment of Independence.
भारतीय राज्य व्यवस्था एवं अर्थव्यवस्था : भारतीय राज्य व्यवस्था एवं अर्थव्यवस्था के अन्तर्गत प्रश्न; भारतीय राज्यव्यवस्था, संविधान, पंचायती राज और सामुदायिक विकास तथा भारतीय अर्थव्यवस्था एवं नियोजन की व्यापक विशेषताओं की समझ पर आधारित होंगे।Indian polity and Economy: Questions on Indian polity and economy will be based on Indian polity, Constitution, Panchayati raj and Community development, broad features of Indian economy and planning.
भारत का भूगोल एवं जनांकिकी : इसके अन्तर्गत प्रश्न भारत के भौगोलिक पारस्थितिकीय और सामाजिक-आर्थिक जनांकिकीय पक्षों की व्यापक समझ पर आधारित होंगे ।Geography and Demography of India: Questions will be based on a broad understanding of geographical, ecological and socio-economic aspects and demography of India
सम-सामयिक घटनाएं : इसके अन्तर्गत प्रश्न समसामयिक उत्तराखण्ड राज्यीय तथा राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय महत्व की घटनाओं खेलकूद सहित की समझ पर आधारित होंगे।Current Events: Questions will be based on important Uttarakhand State, National and International current events including games
उत्तराखण्ड का इतिहास : उत्तराखण्ड की ऐतिहासिक पृष्ठभूमिः प्राचीनकाल (आरम्भ से 1200 ई0 तक): मध्यकाल (1200 से 1815 ई0 तक): प्रभावशाली राजवंश एवं उनकी उपलब्धियाँ, गोरखा आक्रमण एवं शासन, ब्रिटिश शासन, टिहरी रियासत एवं उसकी शासन व्यवस्था, स्वतंत्रता आन्दोलन में उत्तराखण्ड की भूमिका और इससे सम्बन्धित प्रमुख विभूतियाँ, प्रमुख ऐतिहासिक स्थल एवं स्मारक, उत्तराखण्ड राज्य निर्माण आन्दोलन, उत्तराखण्ड के लोगों का राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय क्षेत्रों में; विशेष रूप से सशस्त्र बलों में योगदान; विभिन्न समाज सुधार आन्दोलन तथा अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, बच्चों, दलितों एवं महिलाओं हेतु उत्तराखण्ड शासन के विभिन्न कल्याणकारी कार्यक्रम।History of Uttarakand: Historical background of Uttarakhand: Ancient period (from earliest to 1200 AD); Mediaeval period (from 1200 to 1815 AD): Important dynasties and their achievements; Gorkha invasion and administration, British rule, Tehri State and its administration, role of Uttarakhand in the Freedom Movement of India and related eminent personalities, historical sites and monuments; movements for the formation of Uttarakhand, contribution of people of Uttarakhand in National and International fields, especially in Armed forces; different social reform movements, and different welfare programmes of Uttarakhand for SC, ST, children, minorities and women.
उत्तराखण्ड की संस्कृति : जातियां एवं जनजातियां, धर्म एवं लोक विश्वास, साहित्य, लोक साहित्य, परम्पराएं एवं रीति-रिवाज, वेश-भूषा एवं आभूषण, मेले एवं त्यौहार, खान-पान, कला शिल्प ; नृत्य, गायन एवं वाद्य यंत्र, प्रमुख पर्यटन – स्थल, महत्वपूर्ण खेलकूद, प्रतियोगिताएं एवं पुरस्कार, उत्तराखण्ड के प्रसिद्ध लेखक एवं कवि तथा उनका हिन्दी – साहित्य एवं लोक-साहित्य में योगदान, उत्तराखण्ड शासन द्वारा संस्कृति के विकास हेतु उठाए गए कदम।Culture of Uttarakand: Castes and tribes, religious and folk beliefs, literature and folk literature, traditions and customs, costumes and ornaments; Fairs and Festiveals, food habits, art and Crafts, dances, songs, musical instruments, major tourist places, important sports, tournaments and awards, famous authors and poets of Uttarakhand and their contribution in the field of Hindi literature and folk literature, State steps taken by Uttarakhand for the development of culture
उत्तराखण्ड का भूगोल एवं जनांकिकीः भौगोलिक स्थिति । उत्तराखण्ड हिमालय की प्रमुख विशेषताएं। उत्तराखण्ड में नदियां, पर्वत, जलवायु, वन संसाधन एवं बागवानी। प्रमुख फसलें एवं फसल चक्र । सिंचाई के साधन । कृषि जोतें । प्राकृतिक एंव मानव जनित आपदायें एवं आपदा प्रबन्धन । जल संकट और जलागम प्रबन्धन । दूरस्थ क्षेत्रों की समस्याऐं । पर्यावरण एवं पर्यावरणीय आन्दोलन । जैव विविधता एवं इसका संरक्षण । उत्तराखण्ड की जनसंख्या: वर्गीकरण, धनत्व, लिंगानुपात, साक्षरता एवं जनसंख्या पलायन ।Geography and Demography of Uttarakhand: Geographical Setup. Salient features of Uttarakhand Himalaya. Rivers and streams, mountains, climate, forest resources and horticulture. Major crops and crop rotation. Means of irrigation. Agricultural holdings. Natural and man-made calamities and Disaster management. Water crises and watershed management. Problems of remote areas. Environment and environmental movements. Biodiversity and its preservation. Population of Uttarakhand: Classification, density, sex ratio, literacy and out-migration
उत्तराखण्ड का आर्थिक, राजनीतिक व प्रशासनिक परिवेश
राजनीतिक एवं प्रशासनिक परिवेशः- उत्तराखण्ड में गठित सरकारें एवं उनकी नीतियाँ, राज्य की विभिन्न प्रकार की सेवाएं प्रदेश की राजनैतिक एवं प्रशासनिक व्यवस्था, पंचायती राज, सामुदायिक विकास तथा सहकारिता । प्रशासनिक व्यवस्था की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि गोरखा एवं ब्रिटिश शासन काल में भूमि – सम्बन्धी व्यवस्थाएँ– जिला भूमि प्रबन्धन (थोकदारी, वन पंचायतें, सिविल एवं सोयम वन केशर हिन्द (बेनाप भूमि) नजूल, नयाबाद बन्दोबस्त ) । आधुनिक काल— उत्तर प्रदेश एवं कुमाऊँ–उत्तराखण्ड जमींदारी विनाश एवं भूमि व्यवस्था अधिनियम लागू होने के बाद भूमि-सुधार, लैंड टैन्योर में परिर्वतन, लगान वसूली व्यवस्था । राजस्व पुलिस – व्यवस्था ।
आर्थिक परिवेशः– सीमान्त जनपदों का प्राचीन काल में तिब्बत से व्यापार एवं व्यापार की वर्तमान स्थिति, स्थानीय कृषि, पशुपालन, कृषि जोतों की अलाभकर स्थिति व चकबंदी की आवश्यकता, बेगार तथा डडवार प्रथा ।
Economic, Political and Administrative Background of Uttarakhand:
Political and Administrative Background- Elected governments in Uttarakhand and their policies, different services in the State, the political and administrative systems, Panchayti raj,Community development and Co-operatives.
The historical background of the adminstrative system in Uttarakhand – Land management system under Gorkhas rule and British rule, district land management (Thokdari, van panchayat, civil and soyam forest, Kesar-i-hind(benap land)Nazul, nayabad settlements) Modern period Uttar Pradesh and Uttarakhand-Kumaun land reforms, changes in land tenures and collection of land revenue after the enforcement of Zamidari Abolition Act, revenue police system.
Economic background – Indo-Tibetan trade from border districts, the present position, local agriculture and animal husbandry, the uneconomic condition of land holdings and need for consoldation of holdings, Begar and Dadwar systems.
आर्थिक व प्राकृतिक संसाधनः- मानव संसाधन, प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था एवम् प्रमुख शिक्षण संस्थान; वन, जल, जडी-बूटी, कृषि, पशुधन, जल-विद्युत, खनिज, पर्यटन, उद्योग (लघु व ग्रामीण) संसाधनों के उपयोग की स्थिति, उत्तराखण्ड में गरीबी व बेरोजगारी, उन्मूलन व आर्थिक विकास की दिशा में चलाई जा रही विभिन्न योजनाएँ / आर्थिक क्रियायें एवं इनका राज्य जी० डी० पी० में योगदान, उत्तराखण्ड में विकास की प्राथमिकतायें व नियोजन की नवीन रणनीति तथा समस्याएँ। उत्तराखण्ड में विपणन की सुविधाएं तथा कृषि मन्डियां, उत्तराखण्ड के बजट की प्रमुख विशेषताएँ ।Economic and natural resoures: Human resources, Education system of the State and important educational institutes; forest, water, herbs, agriculture, animals, hydro electricity, minerals, tourism, industries (Small and Village), the position of utiliszation of resources.
Various schemes being implemented in Uttarakhand for the eradication of poverty and unemployment and for economic development. Economic activities and their contribution in the State GDP. The priorities of development in Uttarakhand and new strategies of planning and its problems. Marketing facilities in Uttarakhand and agriculture mandis. The salient features of the budget of Uttarakhand State.

सामान्य बुद्धि परीक्षण – 50 अंक

हिंदी मेंअंग्रेजी में
सामान्य बुद्धिमता : इसके अन्तर्गत प्रश्न सामान्य बुद्धिमता से संबंधित जैसे शाब्दिक और गैर-शाब्दिक दोनों प्रकार के प्रश्न होंगे और इसमें सादृश्यों, समानताओं तथा अंतरों, स्थानिक कल्पना, समस्या, समाधान, विश्लेषण, निर्णय लेना, दृश्य स्मृति, विभेद, अवलोकन, संबंध अवधारणा, अंकगणितीय तर्क, शाब्दिक एवं चित्रात्मक वर्गीकरण, अंकगणितीय संख्या श्रृंखला आदि सम्मिलित होंगे। इसमें अभ्यर्थी की योग्यता का सामान्य विचार और संकेत और उनके संबंध, अंकगणितीय गणना तथा अन्य विश्लेषणात्मक कार्य आदि के प्रश्न भी शामिल होंगे।General Intelligence: The questions on general intelligence will cover, both, verbal and non verbal types, including questions on analogies, similarities, differences, space visualization, problem solving, analysis, judgement, decision making, visual memory, discrimination, observation, relationship concepts, arithmetical reasoning, verbal and figure classification and arithmetical number series. The test will also include questions designed to test the candidate’s abilitiy to deal with abstract ideas, symbols and their relationships, arithmetical computations and other analytical functions.

मुख्य परीक्षा

प्रथम प्रश्न पत्र – सामान्य अध्ययन (वस्तुनिष्ठ प्रकार ) — 200 अंक

हिंदी मेंअंग्रेजी में
सामान्य विज्ञान एवं प्रौद्यौगिकी : सामान्य विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, खोज, अविष्कार, सूचना प्रौद्योगिकी, जैव प्रौद्योगिकी, सौर प्रौद्योगिकी एवं अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी, कृत्रिम बुद्धिमत्ता, स्वास्थ्य और औषधि के लिए नई प्रौद्योगिकी का अनुप्रयोग, पर्यावरणीय जागरूकता, प्राकृतिक जैव संसाधन, इलैक्ट्रनिक मीडिया के क्षेत्र में विकास, साइबर अपराध आदि के सम्बन्ध में प्रश्न दैनिक अनुभव तथा प्रेक्षण से संबंधित विषयों सहित विज्ञान के सामान्य परिबोध एवं जानकारी पर होंगे जिसकी किसी भी सुशिक्षित व्यक्ति से अपेक्षा की जाती है जिसने वैज्ञानिक विषयों का विशेष अध्ययन नहीं किया है।General Science and Technology : Questions on General Science and technology, Discoveries, Inventions, information, Bio technology, Solar technology and space technology, Artificial Intelligence, Application of new technology for health and medicines, Environmental Awareness, Natural Bio resources, electronic media, cyber crime and understanding of Science including matters of every day observation and experience, as may be expected of a well educated person, who has not made a special study of any scientific discipline.
विकास की दृष्टि से कम्प्यूटर का प्रारम्भिक ज्ञान एवं उसके अनुप्रयोग : अभ्यर्थीगण से विकास की दृष्टि से कम्प्यूटर का प्रारम्भिक ज्ञान एवं उसके अनुप्रयोग, इन्टरनेट, संचार पर आधारित ज्ञान अपेक्षित होगा ।Basic knowledge of computer and its application in the development : Candidates are required to have Basic knowledge of computer and Internet and Communication its application in the development.
भारत एवं उत्तराखण्ड का इतिहास एवं संस्कृति : भारत एवं उत्तराखण्ड के इतिहास के अंतर्गत आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक एवं राजनैतिक पहलुओं का व्यापक अंतर्समझ के परीक्षण पर बल दिया जायेगा ।History and Culture of India and Uttarakhand : In History of India and Uttarakhand emphasis should be on broad understanding of economic, social, Cultural and political aspects of Indian history.
भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन, स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद विश्व के अन्य देशों (विशेषकर पड़ोसी देश ) से सम्बन्ध के सन्दर्भ में : भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन पर अभ्यर्थियों से स्वतन्त्रता आन्दोलन की प्रकृति तथा विशेषता, राष्ट्रवाद का अभ्युदय एवं विकास तथा स्वतन्त्रता प्राप्ति के पश्चात् विश्व के अन्य देशों (विशेषकर पड़ोसी देश) से सम्बन्धों के बारे में सामान्य ज्ञान अपेक्षित है।Indian National Movement, Relation with other Countries (Specially neighboring Countries) after Independence: In Indian National movement, the candidates are expected to have a synoptic view of the nature and character of the Indian freedom movement, growth of Nationalism and knowledge of relation with other Countries (Specially neighboring Countries) after Independence
भारत एवं उत्तराखण्ड का भूगोल एवं जनसंख्या : भारत तथा उत्तराखण्ड का भूगोल के अन्तर्गत भौतिक, राजनैतिक, सामाजिक एवं आर्थिक भूगोल एवं जनसंख्या, महत्वपूर्ण राष्ट्रीय / अन्तर्राष्ट्रीय संगठन एवं समझौते से सम्बन्धित प्रश्न होंगे।Geography and Population of India and Uttarakhand: Geography of India and Uttarakhand Questions will relate to physical, political, social and economic, population, Important National/International Orgnisation and agreements.
आपदा प्रबन्धन एवं न्यूनीकरण (पारिस्थितिकी तन्त्र, पर्यावरण, प्राकृतिक आपदायें) : प्राकृतिक एवं मानव जनित आपदायें तथा आपदा प्रबन्धन एवं न्यूनीकरण, पर्यावरणीय समस्यायें एवं समाधान, ग्लोबल वार्मिंग, ओजोन-क्षरण, जैव विविधताएं एवं इनका संरक्षण आधारित ज्ञान अपेक्षित है।Disaster management and mitigation (ecosystem, environment and natural calamities) : Candidates are required to have knowledge of Natural and man made calamities and Disaster management and mitigation, Global Warming, Ozone Depletion, Biodiversity and its preservation, environmental problems and solutions
भारतीय राजव्यवस्था एवं अर्थव्यवस्था : भारतीय राजव्यवस्था एवं अर्थव्यवस्था के अन्तर्गत प्रश्न; संविधान, पंचायती राज और सामुदायिक विकास तथा भारतीय अर्थव्यवस्था एवं नियोजन की व्यापक विशेषताओं की समझ पर आधारित प्रश्न होंगे ।Indian Polity and Economy : Questions on Indian polity and economy will be based on Constitution, Panchayati raj and Community development, broad features of Indian economy and planning.
उत्तराखण्ड की राजव्यवस्था, पंचायती राज अधिनियम : राज्यपाल, विधायिका, मुख्यमंत्री, मंत्रिपरिषद, लोक सेवाएं, लोक सेवा आयोग, उच्च न्यायालय एवं उसका अधिकार क्षेत्र, अल्पसंख्यक, अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजातियों से सम्बन्धित प्राविधान, राज भाषा, विशेष राज्य के चयन के मापदण्ड, राजनैतिक दल एवं निर्वाचन, स्थानीय शासन एवं पंचायती राज, सामुदायिक विकास, लोकनीति, अधिकार सम्बन्धी मुद्दे (शिक्षा, रोजगार, विकास आदि), सुशासन (भ्रष्टाचार निवारण, लोकायुक्त, सिटीजन चार्टर, ई-गवर्नेस सूचना का अधिकार, समाधान योजना, सेवा का अधिकार आदि) और सम्बन्धित अन्य पहलू ।Polity of Uttarakhand, Panchayati raj Act.: Governor, Legislation, Chief Minister, Council of Ministers, Public Services, Public Service Commission, High Court and it’s Jurisdicition, Provision for minorities, Schedule Caste/Tribes, Special State Selection Criteria, Official Language, Political Parties and Election, Local Government and Panchayati Raj, Community Development, Public Policy, Right Related Issues (Education, Employment, Development etc.) Governance (Prevention of Corruption, Lok Ayukt, Citizen charter, E-Governance, Right to Information, Samadhan Yojna, Right to Service etc.) and other related aspects,
उत्तराखण्ड की अर्थव्यवस्था : स्थानीय कृषि, पशुपालन, कृषि जोतों की स्थिति व चकबन्दी की आवश्यकताएं, वन संसाधन एवं बागवानी प्रमुख फसलें एवं फसल चक्र और सिंचाई के साधनEconomy of Uttarakhand: local agriculture and animal husbandry, condition of land holdings and need for consoldation of holdings, forest resources and horticulture, Major crops and crop rotation, Means of irrigation.
राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय महत्व की समसामयिक घटनाएं : राष्ट्रीय तथा अन्तर्राष्ट्रीय महत्व की सम–सामयिक घटनाओं एवं खेलकूद पर अभ्यर्थियों से जानकारी अपेक्षित होगी।Current events of National and International importance : On Current Events of National and International Importance, Sports, candidates will be expected to have knowledge about them.

द्वितीय प्रश्न पत्र – हिंदी संरचना (परम्परागत प्रकृति ) — 100 अंक

हिन्दी संरचना : (Hindi Composition) इस प्रश्न-पत्र में कुल 5 प्रश्न और उनका अंक वितरण इस प्रकार होगा –

(1) किसी दिये गये गद्यांश का (क) उचित शीर्षक (ख) सारांश (मूल गद्यांश का एक तिहाई) तथा गद्यांश के रेखांकित अंशों की व्याख्या ।(4+10+6 अंक)

(2) किसी दिये हुए सरकारी पत्र का सारिणीरूप (Tabular Form) में सार लेखन। (15 अंक)

(3) पत्राचार – (15+15+15 अंक)
(क) शासकीय/अर्द्धशासकीय पत्र
(ख) कार्यालय आदेश/कार्यालय ज्ञाप
(ग) विज्ञप्ति, परिपत्र एवं टिप्पणी

(4) पारिभाषिक शब्दावली रूपान्तरण: 12 शब्द दिये जाने है, जिसमें से कोई 10 करने हैं
10 शब्द अंग्रेजी से हिन्दी (10 अंक)

(5) रूपान्तरण : 12 दिये गये शब्दों में से कोई 10 करने हैं। 10 शब्द हिन्दी से अंग्रेजी (10 अंक)

तृतीय प्रश्न पत्र – निबंध (परम्परागत प्रकृति ) — 100 अंक

इस प्रश्नपत्र के अन्तर्गत क, ख और ग तीन खण्ड होंगे। प्रत्येक खण्ड से एक-एक शीर्षक का चयन करते हुये ( दी गयी शब्द सीमा में) कुल तीन निबन्ध हिन्दी अथवा अंग्रेजी भाषा में लिखने होंगे :-

खण्ड (क) 1. साहित्य और संस्कृति 2. सामाजिक क्षेत्र 3. राजनीतिक क्षेत्र ( शब्द सीमा 600, अंक 35 )

खण्ड (ख) 1. विज्ञान, पर्यावरण एवं प्रौद्योगिकी 2. आर्थिक क्षेत्र 3. कृषि एवं व्यापार ( शब्द सीमा 600, अंक 35 )

खण्ड (ग) 1. राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय घटना क्रम 2. प्राकृतिक आपदायें : भू-स्खलन, चक्रवात भूकम्प, बाढ़, सूखा आदि 3. राष्ट्रीय विकास योजनायें ( शब्द सीमा 600, अंक 30 )

प्रयोगात्मक परीक्षा –

कम्प्यूटर का आधारभूत ज्ञान परीक्षा और टंकण परीक्षा – अर्हकारी प्रकृति

कम्प्यूटर का आधारभूत ज्ञान परीक्षाटंकण परीक्षा – 10 मिनट
Microsoft Windows Operating system and Microsoft Office (Maximum Marks – 100; Minimum Qualifying Marks to be obtained – 40; Time allowed: One Hour)

The paper shall be set from the given syllabus broadly taking one question from each i.e. – (1) Windows and internet (2) M.S. – word (3) M.S. – Access (4) M.S. – Excel and (5) M.S. – Power Point

Note -1- Each question shall have one action to be performed on the system each having 20 marks

Note -2 – Printout of the output shall be taken and given for evaluation

Note- 3 – उक्त परीक्षा अर्हकारी प्रकृति (Qualifying Nature) की होगी, जिसमें न्यूनतम 40 प्रतिशत अंक प्राप्त करना अनिवार्य होगा। उक्त परीक्षा में प्राप्त अंकों को अन्तिम चयन परिणाम में सम्मिलित नहीं किया जायेगा ।
अनिवार्य – हिन्दी टंकण (अनिवार्य) के परीक्षण हेतु 10 मिनट की अवधि में करने हेतु एक प्रश्न-पत्र दिया जायेगा। हिन्दी टंकण में कम्प्यूटर पर 4000 की – डिप्रेशन प्रति घण्टा की गति होना आवश्यक है।

वैकल्पिक – अंग्रेजी टंकण (वैकल्पिक) के परीक्षण हेतु 10 मिनट की अवधि में करने हेतु एक प्रश्न-पत्र दिया जायेगा । समीक्षा अधिकारी पद हेतु कम्प्यूटर पर न्यूनतम 8000 की–डिप्रेशन प्रति घण्टा तथा सहायक समीक्षा अधिकारी पद हेतु कम्प्यूटर पर न्यूनतम 9000 की – डिप्रेशन प्रति घण्टा की गति होना अनिवार्य है ।

नोट – कम्प्यूटर पर अंग्रेजी टंकण कर सकने वाले अभ्यर्थियों को अधिमान दिया जाएगा.

Uttarakhand RO ARO Syllabus PDF Download

यदि आप भी पीडीएफ को डाउनलोड करना चाहते हैं तो आपको UKPSC की आधिकारिक वेबसाइट या फिर उपर दिए गए लिंक के जरिए भी डाउनलोड कर सकते हैं.

कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न

क्या इस परीक्षा में नकारात्मक अंकन का प्रावधान है?

हां, जितने भी प्रश्न पत्र बहुविकल्पीय प्रकार के या प्रश्नों पत्रों की प्रकृति वस्तुनिष्ठ प्रकार की है, उसमें नकारात्मक अंकन 1/4 या एक चौथाई का प्रावधान है।

क्या कम्प्यूटर का आधारभूत ज्ञान परीक्षा और टंकण परीक्षा में पास होना अनिवार्य है?

हां, कम्प्यूटर का आधारभूत ज्ञान परीक्षा और टंकण परीक्षा में पास होना अनिवार्य है नहीं तो आप अंतिम मेधा सूची में अपना नाम नहीं देख पाएंगे।

उत्तराखंड की समीक्षा आधिकारिक तथा सहायक समीक्षा अधिकारी की प्रारंभिक परीक्षा कितने अंकों के लिए आयोजित की जाएगी?

उत्तराखंड की समीक्षा आधिकारिक तथा सहायक समीक्षा अधिकारी की प्रारंभिक परीक्षा 150 अंकों के लिए 150 प्रश्न पूछे जायेंगे।

Advertisements