UPTET 2021 हिंदी भाषा प्रैक्टिस सेट 2 : परीक्षा में शामिल होने से पहले, इन 30 प्रश्नों को जरूर पढ़ें

UPTET Hindi Language Questions : उत्तर प्रदेश प्रशिक्षण परीक्षा नियामक जल्द ही UPTET की परीक्षा आयोजित करने वाला है, ऐसे में इसके लिए आयोग ने 19 नवंबर 2021 को एडमिट कार्ड भी जारी कर दिया है। इस परीक्षा में सफल होने के लिए उम्मीदवार तैयारियों में जुटे हैं।

ऐसे में आज हम इस लेख के जरिए आपको हिंदी भाषा विषय से जुड़े 30 महत्वपूर्ण प्रश्नों से अवगत कराएंगे, जो इस साल यूपीटीईटी की परीक्षा के लिहाज से बेहद ही जरूरी हैं।

UPTET Hindi Language Questions
UPTET Hindi Language Questions

UPTET 2021 हिंदी भाषा प्रैक्टिस सेट 2

प्रश्न 1. भाषा सीखने का उद्देश्य है

  • प्रत्येक स्थिति में भाषा का प्रयोग कर पाना
  • आदेश-निर्देश दे पाना और सुन पाना
  • दूसरों की बातों को समझ पाना
  • अपने मन की बात कह पाना

उत्तर : 1

प्रश्न 2. “बच्चों के भाषायी” विकास में समाज की महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है।” यह विचार किसका है?

  • पियाजे
  • स्किनर
  • चॉम्स्की
  • वाइगोत्स्की

उत्तर : 4

प्रश्न 3. विद्यार्थियों का भाषायी विकास समग्रता से हो सके, इसके लिए सबसे उपयुक्त अनुशंसा होगी

  • शब्दकोष एवं विश्वकोष के प्रयोग की
  • भाषा प्रयोग के विविध अवसरों की
  • सतत एवं व्यापक आकलन की
  • सर्वोत्कृष्ठ पाठ्य-पुस्तकों की

उत्तर : 3

प्रश्न 4. लिखित भाषा का प्रयोग

  • केवल प्रतिवेदन-लेखन के लिए किया
  • कार्यालयी कार्यों के लिए ही किया जाता है
  • अपनी अभिव्यक्ति के लिए किया जाता है
  • केवल साहित्य सृजन के लिए किया जाता है

उत्तर : 3

प्रश्न 5. भाषा की कक्षा में भाषायी खेलों का आयोजन मुख्यतः

  • भाषा सीखने की प्रक्रिया में स्वाभाविकता लाता है
  • आकलन का काम करता है
  • रोचकता और जोश लाता है
  • अध्यापक के काम को सरल बनाता है।

उत्तर : 3

प्रश्न 6. कविता-कहानियों पर चर्चा करने एवं प्रश्न पूछने
का उद्देश्य

  • भाषा की विभिन्न छटाओं का अनुभव कराना है
  • कल्पनाशीलता का पोषण करना मात्र है
  • भाषा सीखने का आकलन करना मात्र है
  • साहित्य के प्रति बच्चों की रुचि जाग्रत

उत्तर : 2

प्रश्न 7. भाषा का अस्तित्व एवं विकास _ _के बाहर नहीं हो सकता।

  • परिवार
  • साहित्य
  • समाज
  • विद्यालय

उत्तर : 3

प्रश्न 8. किसी समावेशी कक्षा में कौन-सा कथन भाषा-शिक्षण के सिद्धान्तों के अनुकूल है?

  • प्रिन्ट-समृद्ध माहौल भाषा सीखने में मदद करता है
  • बच्चे अपने अनुभवों के आधार पर भाषा के नियम नहीं बना पाते
  • भाषा विद्यालय में रहकर अर्जित की जाती है
  • व्याकरण के नियमों का ज्ञान भाषा-विकास की गति त्वरित करता है

उत्तर : 1

प्रश्न 9. प्राथमिक स्तर पर विद्यार्थियों के भाषा – शिक्षण के संदर्भ में कौन सा कथन सही है।

  • सतत् रूप से की जाने वाली टिप्पणियाँ एवं अनवरत अभ्यास भाषा सीखने में रुचि उत्पन्न करते हैं
  • बच्चे समृद्ध भाषिक परिवेश में सहज रूप से स्वतः भाषा में सुधार कर सकते हैं
  • बच्चों की भाषाई संकल्पनाओं और विद्यालय के भाषाई परिवेश में विरोधाभासी भाषा सीखने में मदद करता है
  • बच्चे भाषा की जटिल और समृद्ध संरचनाओं का ज्ञान विद्यालय में ही अर्जित करते हैं

उत्तर : 4

प्रश्न 10. प्राथमिक स्तर की कक्षा में भिन्न-भिन्न प्रान्तों के अलग-अलग भाषा बोलने वाले बच्चों का नामांकन हुआ है। ऐसी स्थिति में भाषा की कक्षा बच्चों के भाषायी विकास के सन्दर्भ में

  • जटिल चुनौती के रूप में सामने आती है
  • अवरोध ही प्रस्तुत करती है
  • बहुत बड़ी समस्या बन जाती है।
  • अनमोल संसाधन के रूप में कार्य करती है

उत्तर : 1

प्रश्न 11. पहली कक्षा की भाषा अध्यापिका अपने एक विद्यार्थी के भाषायी विकास के सम्बन्ध में चिन्तित है, क्योंकि

  • विद्यार्थी पठन-पाठन में रुचि प्रदर्शित नहीं करता है।
  • विद्यार्थी को घर पर बात करने के बहुत कम अवसर मिलते हैं
  • विद्यार्थी के माता और पिता की मातृभाषा अलग-अलग है।
  • विद्यार्थी अपने साथियों से बहुत झगड़ता है

उत्तर : 1

प्रश्न 12. बच्चों के बोलना सीखने के सन्दर्भ में कौन-सा कथन सही है?

  • सभी बच्चों की ‘बोलना’ सीखने की गति एक समान होती है
  • बड़े परिवार में बच्चों की ‘बोलना’ सीखने की गति तेज होती है
  • निर्धन परिवारों से आए बच्चों की ‘बोलने’ सीखने की गति धीमी होती है
  • कहने सुनने के अधिक से अधिक अवसर मिलने पर बच्चे बोलना सरलता से सीखते हैं

उत्तर : 4

प्रश्न 13. विद्यालय/कक्षा में समृद्ध भाषायी परिवेश से तात्पर्य है

  • मुख्य धारा की भाषा सुनने के अधिक-से अधिक अवसर
  • बोलने-सुनने, पढ़ने-लिखने के अधिक-से अधिक अवसर
  • एक से अधिक भाषाओं के शब्दकोष की उपलब्धता
  • अध्यापक को एक से अधिक भाषाओं की जानकारी

उत्तर : 2

प्रश्न 14. अपने विद्यार्थियों के भाषा सम्बन्धी क्रमिक विकास का आकलन करने के लिए आपकी निर्भरता मुख्य रूप से किस पर है?

  • पोर्टफोलियों के अवलोकन पर
  • मौखिक कार्य करवाने पर
  • गृहकार्य की उत्तर-पुस्तिकाओं के अवलोकन पर
  • कक्षाकार्य के अवलोकन पर

उत्तर : 1

प्रश्न 15. आपके विद्यार्थी पाठ में आए नवीन/अपरिचित शब्दों के अर्थ जान सकें, इसके लिए आप देखने के

  • पाठ के अन्त में दिए गए ‘शब्दार्थ’ लिए कहेंगी
  • शब्दकोष देखना सिखाएँगी
  • शब्द का अर्थ लिखकर बताएँगी
  • पाठ के सन्दर्भ में अर्थ समझने की स्थिति पैदा करेंगी

उत्तर : 3

प्रश्न 16. निम्न में कौन-सा शब्द विशेषण है?

  • सौंदर्य
  • बेकारी
  • वृक्ष
  • फुफेरा

उत्तर : 4

प्रश्न 17. किस वाक्य में ‘अच्छा’ शब्द का प्रयोग विशेषण के रूप में हुआ है?

  • तुमने अच्छा किया जो आ गए।
  • यह स्थान बहुत अच्छा है।
  • अच्छा, तुम घर जाओ।
  • अच्छा है वह अभी आ जाए।

उत्तर : 2

प्रश्न 18. इनमें से एक क्रिया-विशेषण है

  • वह धीरे से बोलता है।
  • वह काला कुत्ता है।
  • रमेश तेज धावक है
  • सत्य वाणी सुंदर होती है।

उत्तर : 1

प्रश्न 19. निम्नांकित में विशेषण है

  • सुलेख
  • आकर्षक
  • हव्य
  • पौरुष

उत्तर : 2

प्रश्न 20. पशु शब्द का विशेषण क्या है?

  • पार्श्विक
  • पशुत्व
  • पशुपति
  • पशुता

उत्तर : 1

प्रश्न 21. ‘संस्कृति’ का विशेषण है

  • सांस्कृतिक
  • संस्कृतिक
  • संस्कृत
  • सांस्कृति

उत्तर : 1

प्रश्न 22. निम्नलिखित संज्ञा-विशेषण जोड़ी में कौन-सा सही नहीं है?

  • विष-विषैला
  • पिता-पैतृक
  • उन्नति-उन्नत
  • प्रांत-प्रांतिक

उत्तर : 4

प्रश्न 23. ‘निश्चित’ शब्द क्रिया-विशेषण के किस भेद के अन्तर्गत आता है?

  • परिमाणवाचक
  • प्रश्नवाचक
  • हेतुबोधक
  • रीतिवाचक

उत्तर : 1

प्रश्न 24. जिस विशेषण मे संज्ञा या सर्वनाम की संख्या का बोध हो, उसे कहते हैं-

  • परिणामवाचक विशेषण
  • प्रश्नवाचक विशेषण
  • हेतुबोधक विशेषण
  • संख्यात्मक विशेषण

उत्तर : 4

प्रश्न 25. जो विशेषण किसी वस्तु की विशेषताएँ दूसरी वस्तु के सम्बन्ध में बताता है, उसे कहते हैं

  • परिणामवाचक विशेषण
  • प्रश्नवाचक विशेषण
  • हेतुबोधक विशेषण
  • संबंधवाचक विशेषण

उत्तर : 4

नोट : गद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों के सबसे उचित विकल्प का चयन कीजिये.

जीवन के इस मोड़ पर, कुछ भी कहा जाता नहीं। अधरों को डयोढ़ी पर, शब्दों के पहरे हैं। हँसने को हँसते हैं, जीने को जीते हैं साधन-सुभीतों में ज्यादा ही रीते है। बाहर से हरे-भरे, भीतर घाव मरार गहरे सलिए है, अपने लिए बहरे हैं।

प्रश्न 1. ‘कुछ भी कहा जाता नहीं ऐसा क्यों?

  • साधन सुविधाओं के अभाव के कारण
  • बन्धन और बेबसी के कारण
  • गूँगा होने के कारण
  • भीतर के घावों के कारण

उत्तर : 2

प्रश्न 2. कविता की पंक्तियों में मुख्यतः बात की गई है

  • कुछ भी न कह पाने की विवशता की
  • घावों के हरे-भरे होने की
  • गूँगा-बहरा होने की
  • साधन-सुभीतों की

उत्तर : 1

प्रश्न 3. ‘रीतें’ शब्द से भाव है

  • अपनेपन का
  • खालीपन का
  • परायेपन का
  • खोखलेपन का

उत्तर : 3

प्रश्न 4. कविता की पंक्तियों के आधार पर कहा जा सकता है कि

  • कवि कुछ भी कहने या सुन पाने की स्थिति में नहीं है
  • कवि घावों के गहरे होने से दुःखी है।
  • कवि के जीवन में बहुत अभाव है
  • कवि कुछ भी करने की स्थिति में नहीं है

उत्तर : 2

प्रश्न 5. ‘डयोढ़ी’ का अर्थ है

  • घर
  • देहरी
  • दरवाजा
  • चौखट

उत्तर : 3

आशा है आपको हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी पसंद आई होगी, यूपीटीईटी परीक्षा से जुड़ी हर जानकरियों हेतु सरकारी अलर्ट को बुकमार्क जरूर करें।

    • निश्चित परिमाणवाचक होगा. त्रुटी सुधार कर दी गयी है.

      Reply
Leave a Comment