UPTET Exam 2022 : (बाल विकास) विविध पृष्ठभूमि से आए अपवंचित बालक एवं समावेशी शिक्षा पर आधारित 15 महत्वपूर्ण प्रश्न

UPTET Exam 2021/22 : Deprived children from diverse backgrounds and inclusive education Based 15 Questions : उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा 28 नवंबर को आयोजित होने वाली थी लेकिन पेपर लीक होने के कारण परीक्षा को रद्द कर दिया गया। अब इसकी परीक्षा 23 जनवरी को राज्य के विभिन्न परीक्षा केंद्रों पर आयोजित की जाएगी, इसके लिए एडमिट कार्ड भी जारी हो चुका है।

ऐसे में इस लेख में आज हम विविध पृष्ठभूमि से आए अपवंचित बालक एवं समावेशी शिक्षा पर आधारित कुछ संभावित प्रश्न आपके सामने ला रहे हैं जो UPTET परीक्षा में पूछे जा सकते हैं। ऐसे में यदि आप UPTET परीक्षा में शामिल होने वाले हैं तो नीचे दिए गए इन प्रश्नों को जरूर पढ़ लें।

UPTET Exam 2021/22 : Deprived children from diverse backgrounds and inclusive education Based 15 Questions
UPTET Exam 2021/22 : Deprived children from diverse backgrounds and inclusive education Based 15 Questions

UPTET Exam 2021/22 : Deprived children from diverse backgrounds and inclusive education Based 15 Questions

प्रश्न : विविध शिक्षार्थियों वाली एक समावेशी कक्षा में सहयोगी अधिगम और समवयस्कों से सीखना

  • सक्रिय रूप से निरुत्साहित किया जाना चाहिए और प्रतियोगिता को बढ़ावा देना चाहिए।
  • केवल कभी-कभी ही प्रयोग किया जाना चाहिए, क्योंकि यह सहपाठियों से तुलना को बढ़ावा देता है।
  • सक्रिय रूप से प्रोत्साहित किया जाना चाहिए जिससे समवस्यकों की स्वीकार्यता बढे।
  • कार्यान्वित नहीं किया जाना चाहिए और विद्यार्थियों को क्षमताओं के अनुसार अलग-अलग किया जाना चाहिए।

उत्तर : 3

प्रश्न : एक 40 मिनट की कक्षा में सभी विद्यार्थियों व मुख्यतः विशेष आवश्यकता वाले विद्यार्थियों की माँग को पूरा करते हुए आप किस प्रकार पढाएँगे?

  • वैयक्तिक पर ध्यान देकर
  • कक्षा में संमांगी समूह बनाकर
  • सभी विद्यार्थियों के लिए क्रियाकलाप आयोजित कराकर परन्तु विशेष आवश्यकता वाले विद्यार्थियों पर ध्यान केन्द्रित करते हुए
  • कक्षा के किसी योग्य विद्यार्थी को जिम्मेदारी सौंपते हुए

उत्तर : 3

प्रश्न : सामाजार्थिक मुद्दों से जूझ रहे उन बच्चों को जिनकी प्रतिभा प्रभावित हो सकती है को ……. सहायता करता है

  • स्वअधिगम मॉडल
  • विभेदित निर्देश
  • पाठ्यचर्या का विस्तार
  • संज्ञानात्मक वर्गीकरण

उत्तर : 1

प्रश्न : समेकित शिक्षा इंगित करती है।

  • सभी बच्चों के लिए एकसमान शिक्षण विधि
  • सामान्य बच्चों एवं भिन्न रूप से योग्य बच्चो के लिए एक ही स्कूल
  • सामान्य बच्चों एवं भिन्न रूप से योग्य बच्चों के लिए पृथक् स्कूल
  • सामान्य बच्चों एवं भिन्न रूप से योग्य बच्चों के लिए एकसमान सुविधा

उत्तर : 2

प्रश्न : विविध शिक्षार्थियों वाली एक समावेशी कक्षा में सहयोगी अधिगम और समवयस्कों से सीखना

  • कार्यान्वित नहीं किया जाना चाहिए और विद्यार्थियों को क्षमताओं के अनुसार अलग-अलग किया जाना चाहिए
  • केवल कभी-कभी ही प्रयोग किया जाना चाहिए क्योंकि यह सहपाठियों से तुलना को बढ़ावा देता है
  • सक्रिय रूप से निरुत्साहित किया जाना चाहिए और प्रतियोगिता को बढ़ावा देना चाहिए
  • सक्रिय रूप से प्रोत्साहित किया जाना चाहिए जिससे समवयस्कों की स्वीकार्यता बढ़े

उत्तर : 4

प्रश्न : ‘कमजोर वर्ग के बालक’ से तात्पर्य है

  • ऐसे अभिभावकों के बालक से जिनकी वार्षिक आय कम है
  • ऐसे अभिभावकों के बालक से जो वंचित वर्ग में आते हैं
  • ऐसे अभिभावकों के बालक से जो गरीबों रेखा से नीचे की सीमा में आते हैं
  • ऐसे अभिभावकों के बालकों से जो सरकार द्वारा निर्धारित न्यूनतम सीमा की वार्षिक आय की सीमा से नीचे के वर्ग में आते है।

उत्तर : 4

प्रश्न : जब एक निर्योग्य बच्चा पहली बार विद्यालय आता है तो शिक्षक को क्या करना चाहिए?

  • बच्चे की निर्योग्यता के अनुसार उसे विशेष विद्यालय में भेजने का प्रस्ताव देना चाहिए
  • उसे अन्य विद्यार्थियों से अलग करना चाहिए
  • सहकारी योजना विकसित करने के लिए बच्चे को माता-पिता के साथ चर्चा करनी चाहिए
  • प्रवेश परीक्षा लेनी चाहिए

उत्तर : 3

प्रश्न : निःशुल्क एवं अनिवार्य शिक्षा के अधिकार 2009 में अनिवार्य शब्द का अर्थ है

  • उचित सरकारें दाखिले, उपस्थिति और प्रारम्भिक शिक्षा की पूर्णता को सुनरिचित करेंगी।
  • दण्डात्मक कार्य से बचने से लिए अपने बच्चें को विद्यालय भेजने के लिए अभिभावकों पर अनिवार्य रूप से जोर डाला गया है।
  • अनिवार्य शिक्षा सतत् परीक्षण के माध्यम प्रदान की जाएगी
  • केन्द्र सरकार दाखिले, उपस्थिति और प्रारम्भिक शिक्षा की पूर्णता को सुनिश्चित करेगी।

उत्तर : 1

प्रश्न : एक शिक्षक को स्कूल में प्रथम बार आए विशेष आवश्यकता वाले बच्चे के साथ करना चाहिए

  • उसकी विशेष आवश्यकता के अनुसार विशेष स्कूल. में जाने की सलाह
  • अन्य बच्चों से अलग करना
  • बच्चे के अभिभावक से सहयोगी योजना की चर्चा
  • बच्चे की विशेष आवश्यकता के स्तर की जाँच के लिए प्रवेश परीक्षा

उत्तर : 3

प्रश्न : आर टी ई ऐक्ट 2009 के अनुसार, प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षकों को प्रति सप्ताह कुल कितने घण्टे की योजना बनाकर कार्य करना है?

  • 30 घण्टे
  • 45 घण्टे
  • 42 घण्टे
  • 50 घण्टे

उत्तर : 2

प्रश्न : शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 के क्रियान्वयन के बाद कक्षा- कक्ष

  • जेण्डर के अनुसार अधिक समजातीय है
  • आयु के अनुसार अधिक समजातीय हैं
  • आयु के अनुसार अधिक विषमजातीय हैं
  • अप्रभावित हैं, क्योंकि शिक्षा का अधिकार विद्यालय में कक्षा की औसत आयु को प्रभावित नहीं करता

उत्तर : 2

प्रश्न : भारत के संविधान में किसके लिए निःशुल्क अनिवार्य शिक्षा है?

  • सभी छात्रों के लिए
  • 14 वर्ष तक के सभी छात्रों के लिए
  • सभी छात्रों और प्रौढ़ों के लिए
  • सभी नागरिकों के लिए

उत्तर : 2

प्रश्न : सांस्कृतिक तथा भाषिक रूप से वैविध्यपूर्ण कक्षा में यह निश्चित करने से पहले कि शिक्षार्थी विशिष्ट शिक्षा वर्ग में आता है या नहीं, एक शिक्षक को करना चाहिए

  • अक्षमता स्थापित करने से पहले शिक्षार्थी की मातृभाषा का मूल्यांकन करना चाहिए।
  • पारंगत मनोविज्ञानियों का उपयोग।
  • वातावरणीय कारकों को अप्रभावी बनाने के लिए बच्चे को अलग कर देना चाहिए।
  • माता-पिता को इसमें सम्मिलित नहीं करना चाहिए क्योंकि उनके पास अपना कार्य होता है।

उत्तर : 1

प्रश्न : भारत के शैक्षिक इतिहास में किसने प्राथमिक
शिक्षा का मौलिक अधिकार सम्बन्धी बिल, धारा सभा/इम्पीरियल काउन्सिल में प्रस्तुत किया था।

  • कपित सिब्बल
  • जवाहर लाल नेहरू
  • गोपालकृष्ण गोखले
  • अब्दुल कलाम आजाद

उत्तर : 3

प्रश्न : निःशक्त बच्चों के लिए समेकित शिक्षा की केन्द्रीय प्रायोजित योजना का उद्देश्य है …….. में निःशक्त बच्चों को शैक्षिक अवसर उपलब्ध कराना।

  • मुक्त विद्यालयो
  • ब्लाइण्ड रिलीफ एसोसिएशन’ के विद्यालयों
  • नियमित विद्यालयों
  • विशेष विद्यालयों

उत्तर : ??

उत्तर : ?

इस प्रश्न का सही उत्तर क्या होगा? हमें अपना जवाब कमेंट सेक्शन में जरूर दें।

कमेन्ट करें