UPTET / CTET बाल विकास प्रैक्टिस सेट 14 : परीक्षा में जानें से पहले इन 30 प्रश्नों का जरूर करें अध्ययन

विज्ञापन

CTET / UPTET Child Development Practice Set : UPTET की परीक्षाएं जल्द ही एवं CTET की परीक्षाएं 16 दिसम्बर से आयोजित होने वाली हैं जिसके लिए परीक्षार्थी कई महीनों से अपनी तैयारियों में जुटे हुए हैं। फ़िलहाल तैयारी का आखिरी पड़ाव चल रहा है, ऐसे में परीक्षार्थियों को नीचे दिए गए UPTET / CTET Child Development Practice Set 14 को अवश्य हल करना चाहिए, जिससे वे अपनी तैयारी को और भी सुनिश्चित कर सकते हैं.

विज्ञापन

बाल विकास के इस प्रैक्टिस सेट में 30 महत्वपूर्ण प्रश्नों का चयन किया गया है, जो इस साल होने वाली CTET / UPTET परीक्षा में भी आ सकते हैं। इसलिए आप इन प्रश्नों का अभ्यास अच्छी तरह से करें और अपनी तैयारी को और भी मजबूती प्रदान करें.

uptet ctet child development practice set
UPTET / CTET Child Development Practice Set

UPTET / CTET बाल विकास प्रैक्टिस सेट 14

प्रश्न: आगमनात्मक तर्क के स्तरों में कौन-सी शामिल नहीं है?

  • अवलोकन
  • प्रयोग
  • सामान्यीकरण
  • कल्पना

उत्तर: 4

विज्ञापन

प्रश्न: मान लीजिए आप विद्यालय शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष हैं, आप अपने अधिकार क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले विद्यालयों की शिक्षा की संपूर्ण गुणवत्ता को सुधारने के लिए क्या योजना बनाएंगे। इस प्रकार का प्रश्न ………. का एक उदाहरण है।

  • निम्न स्तरीय अपसारी
  • उच्च स्तरीय अभिसारी
  • उच्च स्तरीय अपसारी
  • निम्न स्तरीय अभिसारी

उत्तर: 3

प्रश्न: चिंतन अनिवार्य रूप से है एक

  • संज्ञानात्मक गतिविधि
  • मनोगतिक प्रक्रिया
  • मनोवैज्ञानिक परिघटना
  • भावात्मक व्यवहार

उत्तर: 1

प्रश्न: कृतिका अक्सर घर में ज्यादा बात नहीं करती, लेकिन विद्यालय में वह काफी बात करती है। यह दर्शाता है कि

  • विद्यायल हर समय बच्चों को खूब बात करने का अवसर देता है।
  • शिक्षकों की यह माँग होती है कि बच्चे विद्यालय में खूब बात करें
  • कृतिका को अपना घर बिल्कुल पसन्द नहीं है।
  • उसके विचारों को विद्यायल में मान्यता मिलती है

उत्तर: 4

प्रश्न: बालक का चिन्तन किसके द्वारा प्रदर्शित नहीं होता?

  • आत्मकेन्द्रिता
  • सजीवतावाद
  • यथार्थवाद
  • वैयक्तिवाद

उत्तर: 4

विज्ञापन

प्रश्न: प्रत्ययों का बनते रहना एक….. प्रक्रिया है

  • विषम
  • सामयिक
  • अनियमित
  • संवयी

उत्तर: 4

प्रश्न: कृतिका अक्सर घर में ज्यादा बात नहीं करती, लेकिन विद्यालय में वह काफी बात करती है। यह दर्शाता है कि

  • शिक्षकों की माँग हाती है कि बच्चे विद्यायल में खूब बात करें
  • कृतिका को अपना घर बिल्कुल पसंद नहीं है
  • उसके विचारों को विद्यालय में मान्यता मिलती है
  • विद्यायल हर समय बच्चों को खूब बात करने का अवसर देता है

उत्तर: 3

प्रश्न: “मैडम चाय खाती है” वाक्य

  • अर्थ-विज्ञान एवं वाक्य-विन्यास दोनों की दृष्टि से सही है
  • अर्थ-विज्ञान एवं वाक्य विन्यास दोनों की दृष्टि से गलत है
  • वाक्य-विन्यास की दृष्टि से सही है लेकिन अर्थ-विज्ञान की दृष्टि से गलत है
  • अर्थ-विज्ञान की दृष्टि से सही है लेकिन वाक्य-विन्यास की दृष्टि से गलत है।

उत्तर: 3

प्रश्न: मान लीजिए आप विद्यालय शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष हैं, आप अपने अधिकार क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले विद्यालयों की शिक्षा की संपूर्ण गुणवत्ता को सुधारने के लिए क्या योजना बनाएँगे? इस प्रकार का प्रश्नका एक उदाहरण है।

  • निम्न स्तरीय अभिसारी
  • निम्न स्तरीय अपसारी
  • उच्च स्तरीय अभिसारी
  • उच्च स्तरीय अपसारी

उत्तर: 4

प्रश्न: चिंतन के सूचना प्रक्रमण सिद्धान्त में निम्नलिखित चरण आते हैं

(क) प्रतिक्रिया क्रियान्वयन
(ख) प्रतिक्रिया चयन
(ग) श्रेणीकरण
(घ) पूर्व-प्रक्रमण

इन चरणों का सही क्रम है

  • ग, घ, ख, क,
  • ख, घ, ग, क
  • ग, क, घ, ख
  • घ, ग, ख, क

उत्तर: 4

विज्ञापन

प्रश्न: निम्नलिखित में से कौन-से युग्म के सही होने की संभावना सबसे कम है?

  • भाषा और विचार प्रारम्भ में दो भिन्न गतिविधियाँ हैं- वाइगोत्स्की
  • भाषा विचार पर आधारित हैं। पियाजे –
  • भाषा वातावरण में एक उद्दीपक है। बी. एफ. स्कीनर
  • बच्चे भाषा के बारे में निश्चित ज्ञान के साथ प्रवेश करते हैं। चॉम्स्की

उत्तर: 3

प्रश्न: भाषा- विकास के सन्दर्भ में निम्नलिखित में से कौन-सा क्षेत्र पियाजे के द्वारा कम कर आँका गया ?

  • आनुवंशिकता
  • सामाजिक अंतःक्रिया
  • अहं केंद्रित भाषा
  • विद्यार्थी द्वारा सक्रियात्मक रचना

उत्तर: 2

प्रश्न: भाषा-अवबोधन से सम्बद्ध विकार है

  • चलाघात
  • पठन-वैकल्य
  • वाक-सम्बद्ध रोग
  • भाषाघात

उत्तर: 4

प्रश्न: निगमनात्मक तर्कणा में शामिल है/हैं

  • विशिष्ट से सामान्य की ओर तर्कणा
  • ज्ञान का सक्रिय निर्माण और पुनर्निर्माण
  • अन्वेषणपरक सीखना और स्वतः खोजपरक सम्बन्धी पद्धतियाँ
  • सामान्य से विशिष्ट की ओर तर्कणा

उत्तर: 4

प्रश्न: निम्न में से कौन-सा सीखने की शैली का एक उदाहरण है?

  • संग्रहण
  • तथ्यात्मक
  • स्पर्श-सम्बन्धी
  • चाक्षुष

उत्तर: 4

प्रश्न: एक विद्यार्थी एक प्रकरण में मुख्य बिन्दुओं को में रेखांकित करती हैं, उसका एक दृश्यात्मक प्रस्तुतीकरण बनाती है तथा प्रकरण की समाप्ति पर अपने दिमाग में उत्पन्न होने वाले प्रश्नों को प्रस्तुत करती है। वह

  • विचारों के संघटन के द्वारा चिन्तन को निर्देशित करेन की कोशिश कर रही है।
  • अनुरक्षण पूर्वाभ्यास की रणनीति का प्रयोग करने की कोशिश कर रही है।
  • प्रेक्षण अधिगम सुनिश्चित कर रही है।
  • केन्द्र-बिन्दु की विधि का प्रयोग करने की कोशिश कर रही है।

उत्तर: 1

विज्ञापन

प्रश्न: ‘ऑउट ऑफ-द-बॉक्स’ चिन्तन किससे सम्बन्धित है?

  • अनुकूल चिंतन
  • स्मृति आधारित चिंतन
  • अपसारी चिंतन
  • अभिसारी चिंतन

उत्तर: 3

प्रश्न: विभिन्न मुद्दों और विमर्शों पर उनके लिए कारण प्रस्तुत करते हुए बच्चों को अपनी व्यक्तिगत राय को व्यक्त करने के लिए प्रोत्साहित करने वाले प्रश्न किसको बढ़ावा देते है?

  • बच्चों का मानकीकृत आकलन
  • विश्लेषणात्मक और आलोचनात्मक चिंतन
  • अभिसारी चिंतन
  • जानकारी का पुनः स्मरण

उत्तर: 2

प्रश्न: वाइगोत्स्की के अनुसार बच्चे स्वयं से क्यों बोलते हें ?

  • बच्चे अपने प्रति वयस्कों का ध्यान आकर्षित करने के लिए बोलते हैं।
  • बच्चे स्वभाव से बहुत बातूनी होते हैं।
  • बच्चे अहंकेंद्रित होते हैं।
  • बच्चे अपने कार्य को दिशा देने के लिए बोलते हैं।

उत्तर: 4

प्रश्न: निम्नलिखित में से कौन-सा सृजनात्मक से सम्बन्धित है?

  • अपसारी चिन्तन
  • अभिसारी चिन्तन
  • सांवेगिक चिन्तन
  • अहंवादी चिन्तन

उत्तर: 1

प्रश्न: मध्य बाल्यावस्था में भाषा…..….. के बजाय ………. अधिक है

  • अहंकेंद्रित, समाजीकृत
  • समाजीकृत, अहंकेंद्रित
  • जीववादी, समाजीकृत
  • परिपक्व, अपरिपक्व

उत्तर: 2

प्रश्न: “चिन्तन मानसिक क्रिया का ज्ञानात्मक पहलू है।” चिन्तन की यह परिभाषा किसने दी?

  • वॉरेन
  • रॉस
  • वेलेण्टाइन
  • स्किनर

उत्तर: 2

विज्ञापन

प्रश्न: कल्पना के विकास के लिए

  • ज्ञानेन्द्रियों को प्रशिक्षित करना चाहिए
  • कहानी सुनना चाहिए
  • रचनात्मक प्रवृत्ति के विकास पर ध्यान देना चाहिए
  • उपरोक्त सभी क्रियाएँ करनी चाहिए

उत्तर: 4

प्रश्न: भाषा विकास का सिद्धान्त नहीं है

  • अनुबंधन का सिद्धान्त
  • अनुकरण का सिद्धान्त
  • अतिरिक्त शक्ति का सिद्धान्त
  • परिपक्वता का सिद्धान्त

उत्तर: 3

प्रश्न: वाणी दोष नहीं है

  • ध्वनि परिवर्तन और अस्पष्ट उच्चारण
  • धीमी या तेज गति से बोलना
  • हकलाना और तुतलाना
  • तीव्र अस्पष्ट वाणी

उत्तर: 2

प्रश्न: ‘चिन्तन’ संज्ञानात्मक पक्ष में एक मानसिक क्रिया है। यह कथन दिया गया है।

  • डिवी द्वारा
  • गिल्फर्ड द्वारा
  • क्रूज द्वारा
  • रॉस द्वारा

उत्तर: 4

प्रश्न: किस मनोवैज्ञानिक ने सीखने की सामग्री के रूप में निरर्थक शब्दों का प्रयोग किया?

  • विलियम जेम्स
  • स्किनर
  • बार्टलेट
  • एबिंगहॉस

उत्तर: 4

विज्ञापन

प्रश्न: किस व्यवहारवादी का मानना है कि अन्य व्यवहारों की भाँति भाषा भी क्रिया-प्रसूत अनुबन्धन द्वारा सीखी जाती है?

  • वाटसन
  • गुथरी
  • स्किनर
  • थॉर्नडाइक

उत्तर: 3

प्रश्न: ‘चिन्तनशील सोच’ की चर्चा इनमें से किसने की है

  • ड्यूबी
  • वुडवर्थ
  • रॉस
  • ड्रेवर

उत्तर: 1

प्रश्न: भाषा

  • हमारी विचार प्रक्रिया को पूरी तरह से नियंत्रित करती है
  • हमारी विचार प्रक्रिया को प्रभावित करती है
  • हमारी विचार प्रक्रिया का निर्धारण नहीं कर सकती
  • विचार प्रक्रिया को प्रभावित नहीं करती

उत्तर: ??

इस प्रश्न का सही उत्तर क्या होगा? हमें अपना जवाब कमेंट सेक्शन में जरूर दें।

आशा है आपको बाल विकास का यह प्रैक्टिस सेट पसंद आया होगा, UPTET परीक्षा से जुड़ी हर जानकरियों हेतु सरकारी अलर्ट को बुकमार्क जरूर करें।

विज्ञापन
Leave a Comment

100 thoughts on “UPTET / CTET बाल विकास प्रैक्टिस सेट 14 : परीक्षा में जानें से पहले इन 30 प्रश्नों का जरूर करें अध्ययन”