UPTET/CTET बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र प्रैक्टिस सेट 56 : परीक्षा में शामिल होने से पहले इन 30 महत्वपूर्ण प्रश्नों का कर लें अध्ययन

UPTET/CTET Child Development And Pedagogy Practice Set 56 : CTET की परीक्षा शुरू हो चुकी है और यह परीक्षा 13 जनवरी 2022 तक चलने वाली है। इस परीक्षा की तैयारी के लिए अभ्यर्थियों नें बहुत ही मेहनत किया था और अभी जिनकी परीक्षा बाकी है वो इसकी तैयारी के लिए अपने पूरे जी जान से लगे हुए हैं। UPTET की परीक्षा 28 नवंबर को आयोजित होनी थी लेकिन पेपर लीक हो जाने के वजह से पूरी परीक्षा प्रक्रिया को बीच मे ही रद्द करना पड़ा, अब इसकी परीक्षा 23 जनवरी 2022 को आयोजित कराई जानी है।

ऐसे में इस लेख के जरिये हम आपको UPTET/CTET के परीक्षा में पूछे गए विगत वर्षों के बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र के 30 महत्वपूर्ण प्रश्नों से अवगत कराएंगे, जिसका अध्ययन कर के आप अपनी तैयारी को और भी मजबूती प्रदान कर सकतें हैं।

UPTET/CTET Child Development And Pedagogy Practice Set 56
UPTET/CTET Child Development And Pedagogy Practice Set 56

UPTET/CTET Child Development And Pedagogy Practice Set 56

प्रश्न : बालक की विवेचना (तर्क) तार्किक नहीं है और यह अन्तर्ज्ञान (अन्तर्बोध) पर आधारित है न कि व्यवस्थित तर्क पर।’ पियाजे के अनुसार संज्ञानात्मक विकास की यह अवस्था कहलाती है

  • संवेदी गामक काल
  • पूर्व क्रियात्मक काल
  • मूर्त क्रियात्मक काल
  • औपचारिक क्रियात्मक काल

उत्तर : 2

प्रश्न : अधिगमकर्ताओं की व्यक्तिगत विभिन्नताओं की पूर्ति के लिए निम्नलिखित में से कौन-सा चरण (पद) वांछनीय नहीं है?

  • व्यक्तियों की योग्यताओं का सही आकलन करना
  • व्यक्तिपरक अनुदेशन देना
  • सामाजिक आर्थिक स्तर की पहचान करना
  • विशिष्ट प्रतिभाओं की पहचान करना

उत्तर : 3

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन सा कथन चिन्तन के विषय में गलत है?

  • चिन्तन में प्रतिमाएँ और भाषा प्रयुक्त होती हैं
  • चिन्तन एक प्रकार की सूचना प्रक्रमण (प्रक्रिया) है
  • चिन्तन संज्ञानात्मक प्रक्रिया का समुच्चय (सेट) है
  • चिन्तन और भाषा असम्बन्धित हैं।

उत्तर : 4

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सा प्रश्न चिन्तन की गहन प्रकार की शैली को प्रोत्साहित करता है?

  • आधा का प्रतिलोम क्या होता है?
  • न्यूनतम (छोटी-से-छोटी) अभाज्य संख्या क्या है?
  • आघी मात्रा में चाय बनाने के लिए कितना दूध प्रयोग करेंगे?
  • योग (जोड़), व्यवकलन (घटाव) का विलोम होता है, कहने का क्या तात्पर्य है?

उत्तर : 4

प्रश्न : अधिगम है

  • जो कुछ हम जानते हैं, वह सब अधिगम किया हुआ हैं
  • व्यवहार, ज्ञान और कौशल पर तुलनात्मक स्थायी प्रभाव है
  • प्रत्यक्ष रूप से अवलोकन और मापन योग्य हैं
  • विशिष्ट आयु स्तर तक सीमित है

उत्तर : 2

प्रश्न : कोहलबर्ग के अनुसार एक बालक के नैतिक विकास के कौन से स्तर में वह नैतिक मूल्यों का आन्तरीकरण (आभ्यंतरीकरण) प्रदर्शित नहीं करता है और बालक के नैतिक तर्क बाह्य पुरस्कार और दण्ड से नियन्त्रित रहते हैं?

  • पूर्वपरम्परागत
  • परम्परागत
  • पश्चपरम्परागत
  • सार्वभौमिक नैतिक सिद्धान्त

उत्तर : 1

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन सा अधिगम नियम थॉर्नडाइक द्वारा प्रतिपादित नहीं किया गया?

  • तत्परता का नियम
  • बहुअनुक्रिया का नियम
  • अभ्यास का नियम
  • प्रभाव का नियम

उत्तर : 2

प्रश्न : निम्नलिखित में से बुद्धि की कौन-सी श्रेणी हॉवर्ड गार्डनर द्वारा उनके बहु बुद्धि सिद्धान्त में नहीं सुझायी गई है?

  • गणितीय कौशल
  • संगीत कौशल
  • अन्तर्वैयक्तिक कौशल
  • व्यावहारिक कौशल

उत्तर : 4

प्रश्न : निम्नलिखित में से अधिगम की कौन सी परिस्थिति बाल केन्द्रित शिक्षा पर आधारित नहीं है?

  • अन्वेषण (खोज)
  • निर्देशित अन्वेषण (खोज)
  • प्रदर्शन
  • समस्या आधारित

उत्तर : 1

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सी शिक्षण-अधिगम व्यूह रचना (कौशल) सृजनात्मकता के विकास में बाधा पहुँचाती है?

  • विद्यार्थियों को लचीले ढंग से चिन्तन में सहायता करना
  • विद्यार्थियों को जोखिम (खतरा) उठाने के लिए प्रोत्साहित करना
  • शिक्षण-अधिगम के दौरान विद्यार्थियों को अतिनियन्त्रित करना
  • विद्यार्थियों को अध्यवसायी और विलम्ब सन्तुष्टि हेतु मार्गदर्शन प्रदान करना

उत्तर : 3

प्रश्न : एक बालक जिसे मानव सम्पर्क से पृथक् बड़ा किया गया है, प्राय: दीर्घकाल तक अत्यधिक भाषा की कमी को दर्शाता है, जो बाद के भाषा उद्भाषन अनुभवों द्वारा पूर्ण रूप से बिरले ही पूरी होती है। यह साक्ष्य भाषा विकास के कौन-से पक्ष को बल देता है?

  • वातावरणीय
  • अन्तः क्रियावादी
  • जैविकीय
  • व्यावहारिक

उत्तर : 2

प्रश्न : बालकों की सामाजिक दक्षता के विकास के लिए निम्नलिखित में से कौन-सी परवरिश शैली अधिकतम प्रभावी है?

  • अधिनायकवादी
  • प्राधिकारिक
  • लापरवाह
  • कृपालु

उत्तर : 2

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सा आन्तरिक अभिप्रेरणा का उदाहरण नहीं है?

  • दुश्चिन्ता
  • आकांक्षा स्तर
  • उपलब्धि की आवश्यकता
  • प्रशंसा

उत्तर : 4

प्रश्न : बहु-बुद्धि (मन के फ्रेम (ढाँचे) सिद्धान्त के प्रवर्तक कौन थे?

  • हॉवर्ड गार्डनर
  • ई. एल. थॉर्नडाइक
  • अल्फ्रेड बिने
  • जे पी गिलफोर्ड

उत्तर : 1

प्रश्न : सतत् और व्यापक मूल्यांकन के विषय में निम्नलिखित में से कौन-सा कथन गलत है?

  • यह विद्यालय आधारित मूल्यांकन है
  • इसमें विद्यार्थियों के सभी पक्ष सम्मिलित होते हैं
  • इसमें निदानात्मक मूल्यांकन सम्मिलित नहीं है
  • इसके लिए औपचारिक और अनौपचारिक दोनों प्रविधियो प्रयोग की जाती हैं

उत्तर : 3

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सा उपकरण संरचनात्मक (निर्माणात्मक) आकलन के लिए उपयुक्त प्रतीत नहीं होता है?

  • प्रश्नोत्तरी
  • मानदण्ड सन्दर्भित परीक्षण
  • समूह परिचर्चा
  • वार्तालाप

उत्तर : 4

प्रश्न : अधिगमकर्ताओं के सत्ता और व्यापक मूल्यांकन के विषय में निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सही है?

  • संकलित (योगात्मक) आकलन औपचारिक आकलन कहलाता है
  • संकलित आकलन अनौपचारिक आकलन कहलाता है
  • संकलित आकलन अनुदेशन, प्रक्रिया के दौरान होता है।
  • संकलित आकलन विद्यार्थियों को कठिनाइयों के निदान पर बल देता है।

उत्तर : 1

प्रश्न : अधिगम अयोग्यता (निर्योग्यता) उपयुक्त रूप में परिभाषित की जा सकती है

  • यह बाह्य है और शैक्षिक और सांस्कृतिक वंचना से होती है.
  • यह आन्तरिक है और केन्द्रीय तन्त्रिका तन्त्र की दुष्क्रिया से होती है
  • यह बाह्य है और सांवेगिक विक्षोभ (बाधा) से होती है
  • यह आन्तरिक है और मानसिक मन्दता से होती है

उत्तर : 2

प्रश्न : चॉम्स्की के अनुसार, भाषा अर्जित करने की एक अन्तर्जात क्षमता जो मानव को जैविक वंशागति के फलस्वरूप प्राप्त हमारी अद्वितीय क्षमता है, को कहते हैं

  • भाषा अनुकूलन श्रेणी
  • भाषा अर्जन साधन
  • भाषा स्वीकार्य इच्छा
  • भाषा अर्जन क्षेत्र (पक्ष)

उत्तर : 2

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सी व्यावहारिक विशेषता (गुण) व्यक्ति के अभिप्रेरित व्यवहार से सम्बन्धित नहीं है?

  • ऊर्जित
  • पृथक्
  • निर्दिष्ट (निर्देशित)
  • सतत् (लगातार)

उत्तर : 2

प्रश्न : गैने द्वारा प्रस्तावित अधिगम का पदानुक्रमिक उच्चतम स्तर है

  • समस्या समाधान अधिगम
  • सिद्धान्त अधिगम
  • सम्प्रत्यय अधिगम
  • कौशल अधिगम

उत्तर : 1

प्रश्न : विकास के सम्बन्ध में निम्नलिखित में से कौन-सा सार्थक तथ्य है?

  • यह पूर्वानुमान प्रारूप के अनुसार नहीं होता है
  • यह आनुवंशिकी और वातावरण की अन्तः क्रिया का परिणाम है
  • सभी व्यक्ति समान दर से विकास करते हैं
  • विकास विशिष्ट से सामान्य की ओर अग्रसर होता है

उत्तर : 2

प्रश्न : अधिगम के सामाजिक निर्मितिवादी (कन्सट्रक्टीविस्ट) उपागम की विशेषता है

  • अधिगम के लिए बालक के संज्ञान पर बल देना
  • अधिगम के लिए सूचना-प्रक्रम पर बल देना
  • अधिगम के लिए दूसरों से सहयोग पर बल देना
  • अधिगम के लिए अनुभवों पर बल देना

उत्तर : 3

प्रश्न : ‘समावेशन’ का तात्पर्य है एक विशेष आवश्यकता वाले बालक को नियमित (सामान्य) कक्षा में शिक्षित करना

  • कुछ समय के लिए
  • अधिकांश समय के लिए
  • पूरे समय के लिए
  • विद्यालय में सामाजिक गतिविधियों के दौरान

उत्तर : 2

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सी विशेषता वंचित बालक की नहीं है?

  • जीवन की आधारभूत आवश्यकताओं की अपर्याप्तता को झेलना
  • आधारभूत और सार्वभौमिक अधिकार प्रदान कराना
  • भावी मनो-शैक्षिक समस्याओं का संकट (खतरा)
  • उसकी स्वाभाविक दर से विकास के अवसरों से वंचित रखना

उत्तर : 2

प्रश्न : एक बालक जो किसी एक विशेषता (लक्षण) (जैसे दुश्चिता या सामाजिकता) में उच्च और निम्न है, बाद के वर्षों में भी इसी तरह का रहता है। यह कथन निम्न के महत्त्व को बल देता है,

  • आनुवंशिकी के
  • वातावरण के
  • आनुवंशिकी और वातावरण के
  • परिपक्वता के

उत्तर : 1

प्रश्न : विकास के पक्ष (क्षेत्र) जैसे कि शारीरिक, संज्ञानात्मक, सामाजिक और संवेगात्मक निम्नलिखित में से कौन-सी प्रक्रिया से विकसित होते हैं?

  • पृथकता से
  • आंशिकता से
  • यादृच्छिकता से
  • समग्रता और साकल्यता (सम्पूर्णता) से

उत्तर : 4

प्रश्न : समस्या समाधान में निम्नलिखित में से कौन सा पद सम्मिलित नहीं है?

  • आँकड़ों का एकत्रीकरण करना
  • परिकल्पनाओं का निर्माण करना
  • सत्यापन और सामान्यीकरण करना
  • उद्दीपक के प्रति अनुक्रिया करना

उत्तर : 4

प्रश्न : वाइगोत्स्की के अनुसार, वह कार्य (कृत्य) जो बालक के स्वयं के लिए अत्यधिक कठिन है, परन्तु किसी प्रौढ़ और अधिक कुशल साथी की सहायता से करना सम्भव हो, कहलाता है

  • निर्देशित सहभागिता
  • स्कैफोल्डिंग (पाड़ या ढाँचा)
  • आसन्न विकास क्षेत्र
  • अन्तः व्यक्तिनिष्ठता

उत्तर : 3

प्रश्न : संवेग की प्रकृति निम्नलिखित में से कौन-से कथन से सही रूप में प्रकट होती है?

  • कुछेक संवेगों का ही व्यवहारात्मक पक्ष होता है.
  • संवेग जीव की स्थायी अवस्था है
  • संवेगात्मक प्रकटीकरण को अधिगम द्वारा परिवर्तित नहीं कर सकते हैं
  • प्रत्येक संवेग के साथ एक भावना निहित रहती है

उत्तर : ??

कमेन्ट करें