UPTET बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र प्रैक्टिस सेट 13 : विगत वर्षों के परीक्षा में पूछे गए इन 30 महत्वपूर्ण प्रश्नों का करें अध्ययन

UPTET Child Development And Pedagogy Practice Set 13 : UPTET की परीक्षा 28 नवंबर को आयोजित होनी थी लेकिन पेपर लीक हो जाने के वजह से पूरी परीक्षा प्रक्रिया को बीच मे ही रद्द करना पड़ा, अब इसकी परीक्षा 23 जनवरी 2022 को आयोजित कराई जानी है। इसका एडमिट कार्ड भी जारी कर दिया गया है। इस परीक्षा के अभ्यर्थी अपनी पूरी मेहनत से तैयारी में लगें हुए हैं।

ऐसे में इस लेख के जरिये हम आपको UPTET के परीक्षा में पूछे गए विगत वर्षों के बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र के 30 महत्वपूर्ण प्रश्नों से अवगत कराएंगे, जिसका अध्ययन कर के आप अपनी तैयारी को और भी मजबूती प्रदान कर सकतें हैं।

UPTET Child Development And Pedagogy Practice Set 13
UPTET Child Development And Pedagogy Practice Set 13

UPTET Child Development And Pedagogy Practice Set 13

प्रश्न : मानव बुद्धि एवं विकास की समझ शिक्षक …….. को योग्य बनाती है।

  • निष्पक्ष रूप से अपने शिक्षण-अभ्यास
  • शिक्षण के समय शिक्षार्थियों के संवेगों पर नियन्त्रण बनाए रखने
  • विविध शिक्षार्थियों के शिक्षण के बारे में स्पष्टता
  • शिक्षार्थियों को यह बताने कि वे अपने जीवन को कैसे सुधार सकते हैं?

उत्तर : 3

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सा सत्य है?

  • शिक्षक द्वारा प्रश्न पूछना संज्ञानात्मक विकास में बाधक है
  • विकास और सीखना समाज-सांस्कृतिक सन्दर्भों से अप्रभावित रहते हैं
  • शिक्षार्थी एक निश्चित तरीके से सीखते हैं
  • खेलना संज्ञान और सामाजिक दक्षता के लिए सार्थक है

उत्तर : 4

प्रश्न : बच्चे के विकास में आनुवंशिकता और वातावरण की भूमिका के बारे में निम्नलिखित में से कौन-सा सत्य है?

  • आनुवंशिकता और वातावरण दोनों एक बच्चे के विकास में 50-50% योगदान रखते हैं
  • समवयस्कों और पित्रेक (genes) का सापेक्ष योगदान योगात्मक नहीं होता
  • आनुवंशिकता और वातावरण एकसाथ परिचालित नहीं होते
  • सहज रुझान वातावरण से सम्बन्धित है, जबकि वास्तविक विकास के लिए आनुवंशिकता जरूरी है

उत्तर : 2

प्रश्न : निम्नलिखित में कौन-सी संज्ञानात्मक क्रिया दी गई सूचना के विश्लेषण के लिए प्रयोग में लाई जाती है?

  • वर्णन करना
  • पहचान करना
  • अन्तर करना
  • वर्गीकृत करना

उत्तर : 3

प्रश्न : राजेश अति लोलुप पाठक है। वह अपने कोर्स की पुस्तकें पढ़ने के अतिरिक्त प्रायः पुस्तकालय जाता है और भिन्न प्रकरणों पर पुस्तकें पढ़ता है। इतना ही नहीं राजेश भोजन अवकाश में अपने परियोजना कार्य करता है। उसे परीक्षाओं के लिए पढ़ने के लिए अपने शिक्षकों अथवा अभिभावकों द्वारा कभी भी कहने की जरूरत नहीं है और वह वास्तव में सीखने का आनन्द लेता नजर आता है। उसे के रूप में सर्वाधिक बेहतर रूप में वर्णित किया जा सकता है।

  • आन्तरिक रूप से अभिप्रेरित शिक्षार्थी
  • शिक्षक अभिप्रेरित शिक्षार्थी
  • तथ्य आधारित शिक्षार्थी
  • मापन आधारित शिक्षार्थी

उत्तर : 1

प्रश्न : भाषा विकास में सहयोग करने का कौन-सा तरीका गलत है?

  • बच्चे को बिना टोके प्रकरण पर बात करना
  • उसकी अपनी भाषा के प्रयोग को अमान्य करना
  • उसके प्रयोगों का समर्थन करना
  • भाषा के प्रयोग के अवसर उपलब्ध कराना

उत्तर : 2

प्रश्न : समाजीकरण है

  • सामाजिक मानदण्डों में परिवर्तन
  • शिक्षक एवं पढ़ाए गए के बीच सम्बन्ध
  • समाज के आधुनिकीकरण की प्रक्रिया
  • समाज के मानदण्डों के साथ अनुकूलन

उत्तर : 4

प्रश्न : एक पी टी (खेल) शिक्षक क्रिकेट के खेल में अपने शिक्षार्थियों के क्षेत्ररक्षण को सुधारना चाहता है। निम्न में से कौन-सी युक्ति शिक्षार्थियों को अपना लक्ष्य प्राप्त करने में सर्वाधिक सहायक है?

  • शिक्षार्थियों को क्षेत्ररक्षण का अधिक अभ्यास करवाना
  • शिक्षार्थियों को यह बताना कि क्षेत्ररक्षण सीखना उनके लिए किस प्रकार महत्त्वपूर्ण है
  • बेहतर क्षेत्ररक्षण और सफलता की दर के पीछे के तर्क को स्पष्ट करना
  • क्षेत्ररक्षण को प्रदर्शित करना और शिक्षार्थी अवलोकन करेंगे

उत्तर : 1

प्रश्न : एक शिक्षिका अपने शिक्षार्थियों की इस रूप में मदद करना चाहती है कि वे एक स्थिति की अनेक दृष्टिकोणों की सराहना कर सकें। वह विभिन्न समूहों में एक स्थिति पर वाद-विवाद करने के अनेक अवसर उपलब्ध कराती है। वाइगोत्स्की के परिप्रेक्ष्य के अनुसार उसके शिक्षार्थी विभिन्न दृष्टिकोणों को …….. करेंगे और अपने तरीके से उस स्थिति के अनेक परिप्रेक्ष्य विकसित करेंगे।

  • तर्कसंगत
  • आत्मसात
  • निर्माण
  • सक्रियाकरण

उत्तर : 2

प्रश्न : थ, फ, च ध्वनियाँ हैं

  • स्वनिम
  • रूपिम
  • लेखीम
  • शब्दिम

उत्तर : 1

प्रश्न : कक्षा में जेंडर रूदिबद्धता से बचने के लिए एक शिक्षक को

  • लड़कों को जोखिम उठाने और निर्भीक बनने के लिए प्रोत्साहित करना
  • लड़के-लड़कियों को एकसाथ अपारम्परिक भूमिकाओं में रखना चाहिए
  • ‘अच्छी लड़की’, ‘अच्छा लड़का’ कहकर शिक्षार्थियों के अच्छे कार्य की सराहना करनी चाहिए
  • कुश्ती में भाग लेने के लिए लड़कियों को निरुत्साहित करना

उत्तर : 2

प्रश्न : विद्यालयों को किसके लिए वैयक्तिक भिन्नताओं को पूरा करना चाहिए?

  • वैयक्तिक शिक्षार्थी को विशिष्ट होने की अनुभूति कराने के लिए
  • वैयक्तिक शिक्षार्थियों के मध्य खाई को कम करने के लिए
  • शिक्षार्थियों के निष्पादन और योग्यताओं को समान करने के लिए
  • यह समझने के लिए कि क्या शिक्षार्थी सीखने के योग्य या अयोग्य हैं

उत्तर : 4

प्रश्न : सीता ने हाथ से दाल और चावल खाना सीख लिया है। जब उसे दाल और चावल दिए जाते हैं तो वह दाल-चावल मिलाकर खाने लगती है। उसने चीजों को करने के लिए अपने स्कीमा में दाल और चावल खाने को …….. कर लिया है।

  • अंगीकार
  • समायोजित
  • अनुकूलित
  • समुचितता

उत्तर : 3

प्रश्न : ……… के अतिरिक्त बुद्धि के निम्नलिखित पक्षों को स्टर्नबर्ग के त्रितन्त्र सिद्धात में सम्बोधित किया गया है।

  • सन्दर्भगत
  • सामाजिक
  • अवयवभूत
  • आनुभविक

उत्तर : 1

प्रश्न : हावर्ड गार्डनर का बुद्धि का सिद्धान्त ….. पर बल देता है।

  • शिक्षार्थियों में अनुबन्धित कौशलों
  • सामान्य बुद्धि
  • विद्यालय में आवश्यक समान योग्यताओं
  • प्रत्येक व्यक्ति की विलक्षण योग्यताओं

उत्तर : 4

प्रश्न : शिक्षार्थियों में वैयक्तिक भिन्नताओं को सम्बोधित करने के लिए एक विद्यालय किस प्रकार का सहयोग उपलब्ध करवा सकता है?

  • सभी शिक्षार्थियों के लिए समान स्तर की पाठ्यचर्या का अनुगमन करना
  • बाल-केन्द्रित पाठ्यचर्या का पालन करना और शिक्षार्थियों को सीखने के अनेक अवसर उपलब्ध कराना
  • शिक्षार्थियों में वैयक्तिक भिन्नताओं को समाप्त करने के लिए हर सम्भव उपाय करना
  • धीमी गति से सीखने वाले शिक्षार्थियों को विशेष विद्यालयों में भेजना

उत्तर : 2

प्रश्न : सतत और व्यापक मूल्यांकन ……. पर बल देता है।

  • बोर्ड परीक्षाओं की अनावश्यकता पर
  • सीखने को सुनिश्चित करने के लिए व्यापक स्केल पर निरन्तर परीक्षण
  • सीखने को किस प्रकार अवलोकित, रिकॉर्ड और सुधारा जाए इस पर
  • शिक्षण के साथ परीक्षाओं का सामंजस्य

उत्तर : 3

प्रश्न : विद्यालय आधारित आकलन

  • शिक्षार्थियों और शिक्षकों को अगम्भीर और लापरवाह बनाता
  • शिक्षा बोर्ड की जवाबदेही कम कर देता है
  • सार्वभौमिक राष्ट्रीय मानकों की प्राप्ति में बाधा उत्पन्न करता है
  • परिचित वातावरण में अधिक सीखने में सभी शिक्षार्थियों की मदद करता है

उत्तर : 4

प्रश्न : एक समावेशी विद्यालय

  • शिक्षार्थियों की निर्योग्यता के अनुसार उनकी सीखने की आवश्यकताओं को निर्धारित करता है
  • शिक्षार्थियों की क्षमताओं की परवाह किए बिना सभी के अधिगम-परिणामों को सुधारने के लिए प्रतिबद्ध होता है
  • शिक्षार्थियों के मध्य अन्तर करता है और विशेष रूप से सक्षम बच्चों के लिए कम चुनौतीपूर्ण उपलब्धि लक्ष्य निर्धारित करता है
  • विशेष रूप से योग्य शिक्षार्थियों के अधिगम-परिणामों को सुधारने के लिए विशिष्ट रूप से प्रतिबद्ध होता है

उत्तर : 4

प्रश्न : प्रतिभाशाली शिक्षार्थी (को)

  • अधिगम-निर्योग्य नहीं कर सकते
  • ऐसे सहयोग की आवश्यकता होती है जो सामान्यतः विद्यालयों द्वारा उपलब्ध नहीं कराए जाते
  • शिक्षक के बिना अपने अध्ययन को व्यवस्थित कर लेते हैं
  • अन्य शिक्षार्थियों के लिए अच्छे मॉडल बन सकते हैं

उत्तर : 2

प्रश्न : ……….. के कारण प्रतिभाशालिता होती है।

  • मनो-सामाजिक कारकों
  • आनुवंशिक रचना
  • वातावरणीय अभिप्रेरणा
  • 2 और 3 का संयोजन

उत्तर : 4

प्रश्न : “सीखने की तत्परता’ ……. की ओर संकेत करती है।

  • थॉर्नडाइक का तत्परता का नियम
  • शिक्षार्थियों का सामान्य योग्यता स्तर
  • सीखने के सातत्यक में शिक्षार्थियों का वर्तमान संज्ञानात्मक स्तर
  • सीखने के कार्य की प्रकृति को सन्तुष्ट करने

उत्तर : 3

प्रश्न : एक शिक्षिका की कक्षा में कुछ शारीरिक विकलांगता वाले बच्चे हैं। निम्नलिखित में से उसके लिए क्या कहना सबसे उचित होगा?

  • पोलियोग्रस्त बच्चे अब एक गाना प्रस्तुत करेंगे
  • पहिया-कुर्सी वाले बच्चे हॉल में जाने के लिए अपने समवयस्क साथी बच्चों से मदद ले सकते हैं
  • शारीरिक रूप से असुविधाग्रस्त बच्चे कक्षा में ही कोई वैकल्पिक गतिविधि कर सकते हैं
  • मोहन खेल के मैदान में जाने के लिए आप अपनी बैसाखियों का प्रयोग क्यों नहीं करते?

उत्तर : 3

प्रश्न : ….. के अतिरिक्त निम्नलिखित सभी के कारण अधिगम अक्षमता उत्पन्न हो सकती है।

  • सांस्कृतिक कारक
  • संवेगात्मक विघ्न
  • सेरेब्रल डिस्फंक्शन
  • व्यवहारगत विघ्न

उत्तर : 1

प्रश्न : बच्चों में सीखने और सुनने के लिए अधिगम-योग्य वातावरण के लिए निम्नलिखित में से कौन उपयुक्त है?

  • शिक्षार्थियों को यह छूट देना कि क्या सीखना है और कैसे सीखना है?
  • एक लम्बे समय के लिए निष्क्रिय रूप से सुनना
  • निरन्तर गृहकार्य देते रहना
  • सीखने वाले द्वारा व्यक्तिगत कार्य करना

उत्तर : 1

प्रश्न : गतिक कौशलों में अधिगम निर्योग्यता …… कहलाती है।

  • डिस्फ्रेजिया
  • डिस्प्रेक्सिया
  • डिस्कैलकुलिया
  • डिस्लेक्सिया

उत्तर : 2

प्रश्न : अधिगम निर्योग्यता

  • समुचित निवेश के साथ सुधार योग्य नहीं होती
  • एक स्थिर अवस्था है
  • एक चर अवस्था है
  • जरूरी नहीं कि कार्य पद्धति की हानि करे

उत्तर : 3

प्रश्न : सीमा परीक्षा में A+ ग्रेड प्राप्त करने के लिए अति इच्छुक है। जब वह परीक्षा भवन में दाखिल होती है तथा परीक्षा प्रारम्भ होती है, वह अत्यधिक नर्वस हो जाती है। उसके पाँव ठण्डे पड़ जाते हैं, उसके हृदय की धड़कन बहुत तेज हो जाती है और वह उचित तरीके से उत्तर नहीं दे पाती। इसका मुख्य कारण हो सकता है

  • शायद वह अकस्मात् संवेगात्मक आवेग का सामना नहीं कर सकती
  • शायद वह अपनी तैयारी के बारे में बहुत आत्मविश्वासी नहीं है
  • शायद वह इस परीक्षा के परिणाम के बारे में बहुत अधिक सोचती है
  • निरीक्षक शिक्षिका जो ड्यूटी पर है, वह उसकी कक्षा अध्यापिका हो सकती है और वह स्वभाव में बहुत कठोर है

उत्तर : 1

प्रश्न : ……… के अतिरिक्त निम्नलिखित समस्या समाधान की प्रक्रिया के चरण हैं

  • परिणामों की आशा करना
  • समस्या को पहचान
  • समस्या का छोटे हिस्सों में बाँटना
  • संभावित युक्तियों को खोजना

उत्तर : 1

प्रश्न : एक शिक्षक (को)

  • व्याख्यान पर अधिक ध्यान देना चाहिए और ज्ञान के लिए आधार उपलब्ध कराना चाहिए
  • शिक्षार्थियों द्वारा की गई त्रुटियों को एक भयंकर भूल के रूप में लेना चाहिए और प्रत्येक त्रुटि के लिए गम्भीर टिप्पणी देनी चाहिए
  • शिक्षार्थी कितनी बार गलती करने से बचता है इसे सफलता के माप के रूप में लेना चाहिए
  • जब शिक्षार्थी विचारों को संप्रेषित करने की कोशिश कर रहे हों, तो उन्हें ठीक नहीं करना चाहिए

उत्तर : ?

इस प्रश्न का सही उत्तर क्या होगा? हमें अपना जवाब कमेंट सेक्शन में जरूर दें।

आशा है आपको यह प्रैक्टिस सेट पसंद आया होगा, सरकारी परीक्षाओं से जुड़ी हर जानकरियों हेतु सरकारी अलर्ट को बुकमार्क जरूर करें।