UPTET बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र प्रैक्टिस सेट 12 : विगत वर्षों के परीक्षा में पूछे गए इन 30 महत्वपूर्ण प्रश्नों पर डालें एक नज़र

UPTET Child Development And Pedagogy Practice Set 12 : UPTET की परीक्षा 28 नवंबर को आयोजित होनी थी लेकिन पेपर लीक हो जाने के वजह से पूरी परीक्षा प्रक्रिया को बीच मे ही रद्द करना पड़ा, अब इसकी परीक्षा 23 जनवरी 2022 को आयोजित कराई जानी है। इसका एडमिट कार्ड भी जारी कर दिया गया है। इस परीक्षा के अभ्यर्थी अपनी पूरी मेहनत से तैयारी में लगें हुए हैं।

ऐसे में इस लेख के जरिये हम आपको UPTET के परीक्षा में पूछे गए विगत वर्षों के बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र के 30 महत्वपूर्ण प्रश्नों से अवगत कराएंगे, जिसका अध्ययन कर के आप अपनी तैयारी को और भी मजबूती प्रदान कर सकतें हैं।

UPTET Child Development And Pedagogy Practice Set 12
UPTET Child Development And Pedagogy Practice Set 12

UPTET Child Development And Pedagogy Practice Set 12

प्रश्न : 14 वर्षीय देविका अपने आप से पृथक् स्वनियन्त्रित व्यक्ति की भावना को विकसित करने का प्रयास कर रही है। वह विकसित कर रही है

  • नियमों के प्रति घृणा
  • स्वायत्तता
  • किशोरावस्थात्मक अक्खड़पन
  • परिपक्वता

उत्तर : 2

प्रश्न : प्रगतिशील शिक्षा के सन्दर्भ में निम्नलिखित में से कौन-सा कथन जॉन डीवी के अनुसार समुचित है?

  • कक्षा में प्रजातन्त्र का कोई स्थान नहीं होना चाहिए
  • विद्यार्थियों को स्वयं ही सामाजिक समस्याओं को सुलझाने में सक्षम होना चाहिए
  • जिज्ञासा विद्यार्थियों के स्वभाव में अन्तर्निहित नहीं है अपितु इसका कर्षण/संवर्द्धन करना चाहिए
  • कक्षा में विद्यार्थियों का निरीक्षण करना चाहिए न कि सुनना चाहिए

उत्तर : 2

प्रश्न : भाषा-अवबोधन से सम्बद्ध विकार है।

  • चलाघात (apraxia)
  • पठन-वैकल्य ( dyslexia)
  • वाक् सम्बद्ध रोग (aspeechxia)
  • भाषाघात (aphasia)

उत्तर : 4

प्रश्न : के मा. शि बो. (CBSE) द्वारा अपनाए गए प्रगतिशील शिक्षा के प्रतिमान में बच्चों का समाजीकरण जिस प्रकार से किया जाता है, उससे अपेक्षा की जा सकती है कि

  • वे समय नष्ट करने वाली सामाजिक आदतों/प्रकृति का त्याग करें तथा सीखें कि किस प्रकार अच्छी श्रेणियाँ पाई जा सकती हैं (Score good grades)
  • वे सामूहिक कार्य में सक्रिय भागीदारिता का निर्वाह करें तथा सामाजिक कौशल सीखें
  • वे बिना प्रश्न उठाए समाज के नियमों-विनियमों का अनुपालन करने के लिए तैयार हो सकें
  • किसी भी प्रकार की सामाजिक पृष्ठभूमि होते हुए भी वे वह सब स्वीकार करें जो उन्हें विद्यालय द्वारा प्रदान किया जाता है

उत्तर : 2

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सा वाइगोत्स्की के सामाजिक-सांस्कृतिक सिद्धान्त पर आधारित है?

  • सक्रिय अनुकूलन
  • पारस्परिक शिक्षण
  • संस्कृति निरपेक्ष संज्ञानात्मक विकास
  • अन्तर्दृष्टिपूर्ण अधिगम

उत्तर : 2

प्रश्न : एक शिक्षिका अपनी कक्षा से कहती है, “सभी प्रकार के प्रदत्त कार्यों (Aassignments) का निर्माण इस प्रकार किया गया है कि प्रत्येक विद्यार्थी अधिक प्रभावशाली ढंग से सीख सके। अतः सभी विद्यार्थी बिना किसी अन्य की सहायता से अपना कार्य पूर्ण करें।” वह कोलबर्ग के किस नैतिक विकास के चरण की ओर संकेत दे रही है?

  • औपचारिक चरण 4- कानून और व्यवस्था
  • पर-औपचारिक चरण 5- सामाजिक संविदा
  • पूर्व – औपचारिक चरण 1- दण्ड परिवर्तन
  • पूर्व–औपचारिक चरण 2- वैयक्तिकता और विनिमय

उत्तर : 1

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन- -सा आलोचनात्मक दृष्टिकोण ‘बहु-बुद्धि सिद्धान्त’ (Theory of Multiple
Intelligences) से सम्बद्ध नहीं है?

  • यह शोधाधारित नहीं है
  • विभिन्न बुद्धियाँ भिन्न-भिन्न विद्यार्थियों के लिए विभिन्न पद्धतियों की माँग करती हैं
  • प्रतिभाशाली विद्यार्थी प्रायः एक क्षेत्र में ही अपनी विशिष्टता प्रदर्शित करते हैं
  • इसका कोई अनुभवात्मक आधार नहीं है

उत्तर : 3

प्रश्न : ‘बहु-बुद्धि सिद्धान्त’ को वैध नहीं माना जा सकता, क्योंकि

  • विशिष्ट परीक्षणों के अभाव में भिन्न बुद्धियों (different intelligences) का मापन सम्भव नहीं है।
  • यह सभी सात बुद्धियों को समान महत्त्व नहीं देता है।
  • यह केवल अब्राहम मैस्लो के जीवन भर के सुदृढ़ अनुभवात्मक अध्ययन पर आधारित है।
  • यह सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण सामान्य बुद्धि ‘g’ के अनुकूल (सुसंगत) नहीं है

उत्तर : 1

प्रश्न : कक्षा में विद्यार्थियों के वैयक्तिक विभेद

  • लाभकारी नहीं हैं, क्योंकि अध्यापकों को वैविध्यपूर्ण कक्षा को नियन्त्रित करने की आवश्यकता है
  • हानिकारक हैं, क्योंकि इनसे विद्यार्थियों में परस्पर द्वन्द्व उत्पन्न होते हैं
  • अनुपयुक्त हैं, क्योंकि ये सर्वाधिक मन्द विद्यार्थी के स्तर तक पाठ्यचर्या के स्थानान्तरण की गति को कम करते हैं
  • लाभकारी हैं, क्योंकि ये विद्यार्थियों की संज्ञानात्मक संरचनाओं को खोजने में अध्यापकों को प्रवृत्त करते हैं

उत्तर : 4

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सी सर्वाधिक प्रभावकारी विधि हो सकती है, जो आपकी इस अपेक्षा को पूरी कर सके कि वंचित विद्यार्थी अपनी भागीदारिता द्वारा सफल हो
सकें?

  • आप उनकी सफलता हेतु उनकी क्षमता में विश्वास को अभिव्यक्त करें
  • पढ़ाए जाने वाले विषय में आप अपनी रुचि विकसित कर सकें
  • अपने लक्ष्य को महसूस करने के लिए बच्चों की अन्य बच्चों से प्रायः तुलना करते रहना
  • इस बात पर बल देना कि आपकी उनसे उच्च अपेक्षाएँ हैं

उत्तर : 1

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सा विकासात्मक विकार का उदाहरण नहीं है?

  • आत्मविमोह (Autism)
  • प्रमस्तिष्क घात (Cerebral palsy)
  • पर अभिघातज तनाव (Post-traumatic stress )
  • न्यून अवधान सक्रिय विकार (Attention deficit hyperactivity disorder)

उत्तर : 3

प्रश्न : बहुशिक्षण – शास्त्रीय तकनीकें, वर्गीकृत अधिगम सामग्री, बहु-आकलन तकनीकें तथा परिवर्तनीय जटिलता एवं सामग्री का स्वरूप निम्नलिखित में से किससे सम्बद्ध हैं?

  • सार्वभौमिक अधिगम प्रारूप
  • उपचारात्मक शिक्षण
  • विभेदित अनुदेशन
  • पारस्परिक शिक्षण

उत्तर : 3

प्रश्न : निम्नलिखित में से प्रतिभाशाली अधिगमकर्त्ताओं के लिए क्या समुचित है?

  • वे अन्यों को भी कुशल प्रभावी बनाते हैं तथा सहयोगी अधिगम के लिए आवश्यक हैं
  • वे सदैव अन्यों का नेतृत्व करते हैं और कक्षा में अतिरिक्त उत्तरदायित्व ग्रहण करते हैं
  • अपनी उच्चस्तरीय संवेदनात्मकता के कारण वे भी निम्न श्रेणी पा सकते हैं
  • बुनियादी तौर पर उनकी मस्तिष्कीय शक्ति के कारण ही उनका महत्त्व है

उत्तर : 3

प्रश्न : विद्यालय – आधारित आकलन प्रारम्भ किया गया था ताकि

  • राष्ट्र में विद्यालयी शिक्षा संगठनों (Boards) की शक्ति का विकेन्द्रीकरण किया जा सके
  • सभी विद्यार्थियों के सम्पूर्ण विकास को निश्चित किया जा सके
  • विद्यार्थियों की उन्नति की बेहतर व्याख्या के लिए उनकी सभी गतिविधियों के नियमित अभिलेखन हेतु अध्यापकों को अभिप्रेरित किया जा सके
  • विद्यालय अपने क्षेत्रों में विद्यमान अन्य विभिन्न विद्यालयों की तुलना में प्रतियोगिता द्वारा अपनी विशिष्टता का प्रदर्शन करने हेतु अभिप्रेरित हो सकें

उत्तर : 2

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सा एक अन्य विकल्पों से सम्बद्ध नहीं है?

  • प्रश्नोत्तर सत्रों को संगठित करना
  • किसी विषय पर विद्यार्थियों की प्रतिक्रिया को
  • प्रश्नोत्तरी (Quiz) परिचालित करना
  • स्व-आकलन के कौशल को प्रतिमानित करना

उत्तर : 4

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सा प्रश्न अपने विशिष्ट क्षेत्र से ठीक तरह से मिला हुआ है?

  • क्या आप अपने विद्यार्थियों को उनकी : मूल्यांकन गणित की उपलब्धि के आधार पर वर्गीकृत कर सकते है?
  • पिछली रात दूरदर्शन पर दिखाए गए: सृजनशील क्रिकेट मैच में निर्णायक क्षण (turning point) कौन-सा था?
  • जड़ी बूटियों के प्रयोग द्वारा चिकेन : अनुप्रयोग पकाने हेतु कोई नई पाकविधि लिखिए
  • निर्धारित कीजिए कि दिए गए मापकों : विश्लेषण में से कौन-सा मापक आपको उत्तम परिणामों को पाने में सर्वाधिक प्रवृत्त कर सकता है?

उत्तर : 4

प्रश्न : विद्यालयों में समावेशन मुख्यतः केन्द्रित होता है

  • विशिष्ट श्रेणी वाले बच्चों के लिए सूक्ष्मातिसूक्ष्म प्रावधानों
  • के निर्माण पर
  • केवल निर्योग्य छात्रों की आवश्यकताओं को पूर्ण करने पर
  • सम्पूर्ण कक्षा की कीमत पर निर्योग्य बच्चों की आवश्यकताओं को पूरा करना
  • विद्यालयों में निरक्षर अभिभावकों की शैक्षिक आवश्यकताओं पर

उत्तर : 1

प्रश्न : बच्चों में सीखी गई निस्सहायता का कारण है

  • इस व्यवहार को अर्जित कर लेना कि वे सफल नहीं हो सकते
  • कक्षा गतिविधियों के प्रति कठोर निर्णय
  • अपने अभिभावकों की अपेक्षाओं के साथ तालमेल न बना पाना
  • अध्ययन को गम्भीरतापूर्वक न लेने हेतु नैतिक निर्णय

उत्तर : 1

प्रश्न : यदि एक विद्यार्थी विद्यालय में लगातार निम्नतर श्रेणी प्राप्त करता है, तो उसके अभिभावक को उसकी सहायता हेतु परामर्श दिया जा सकता है कि

  • वह अध्यापकों की घनिष्ठ संगति में कार्य करे
  • मोबाइल फोन, चलचित्र, कॉमिक्स, खेल हेतु अतिरिक्त कॉल पर रोक लगाएँ
  • जो भली-भाँति शिक्षा नहीं ले पाए उनकी जीवन-सम्बन्धी कठिनाइयों का वर्णन करें
  • घर पर उसको परिश्रमपूर्वक कार्य करने पर बल दें

उत्तर : 1

प्रश्न : परीक्षा में तनाव-निष्पत्ति को प्रभावित करता है। यह तथ्य निम्नलिखित में से किस प्रकार के सम्बन्ध को स्पष्ट करता है?

  • संज्ञान-भावना
  • निष्पत्ति-चिन्ता
  • तनाव-विलोपन
  • संज्ञान प्रतियोगिता

उत्तर : 1

प्रश्न : एक अध्यापक उस बच्चे के साथ परामर्श करते हैं, जिसकी निष्पत्यात्मक प्रगति एक दुर्घटना के पश्चात् अनुकूल नहीं है। निम्नलिखित में से कौन-सी प्रक्रिया विद्यालय में परामर्श के लिए सबसे बेहतर हो सकती है?

  • यह एक उपशामक उपाय है, ताकि लोग अपने को आरामदायक महसूस कर सकें
  • वह अपने विचारों द्वारा खोज करने हेतु लोगों में आत्मविश्वास का निर्माण करता है।
  • विद्यार्थियों को भविष्य के विकल्पों को चुनने हेतु यह एक अच्छा सम्भावित परामर्श है
  • इस कार्य को केवल अनुभवी कुशल व्यावसायिक विशेषज्ञ से कराया जा सकता है

उत्तर : 2

प्रश्न : एक विद्यार्थी उच्चस्तरीय सृजनशील रंगमंचीय कलाकार बनना चाहता है। उसके लिए निम्नलिखित में से कौन-सा उपाय सबसे कम प्रेरक होगा?

  • राज्यस्तरीय प्रतियोगिताओं को जीतने का प्रयास करना, ताकि छात्रवृत्ति पाई जा सके
  • अपने रंगमंचीय कलाकार साथियों के साथ समानुभूतिपूर्ण, स्नेही तथा सहयोगी सम्बन्ध विकसित करना
  • उन रंगमंचीय कौशलों को अधिक समय देना, जिनसे वह प्रफुलित होता है
  • संसार के श्रेष्ठ रंगमंचीय कलाकारों की निष्पत्ति से सम्बद्ध साहित्य पढ़ने के लिए तथा उससे सीखने के प्रयास के लिए कहना

उत्तर : 1

प्रश्न : निम्नलिखित में से समस्या समाधान को क्या बाधित नहीं करता?

  • अन्तर्दृष्टि (Insight)
  • मानसिक प्रारूपता (Mental sets)
  • मोर्चाबन्दी (Entrenchment)
  • निर्धारण (Fixation)

उत्तर : 1

प्रश्न : एक शिक्षिका पाठ को पूर्वपठित पाठ से जोड़ते हुए बच्चों को सारांश लिखना सिखा रही है। वह क्या कर रही है?

  • वह बच्चों की पाठ समझने की स्वशैली विकसित करने में सहायता कर रही है
  • वह बच्चों को सम्पूर्ण पाठ्य-वस्तु को पूर्णरूप से न पढ़ने की आवश्यकता का संकेत दे रही है।
  • वह आकलन के दृष्टिकोण से पाठ्य-वस्तु के महत्त्व को पुनर्बलित कर रही है
  • वह विद्यार्थियों को सामर्थ्यानुकूल स्मरण करने को प्रेरित कर रही है

उत्तर : 1

प्रश्न : एक बच्चा अपनी मातृभाषा सीख रहा है व दूसरा बच्चा वही भाषा द्वितीय भाषा के रूप में सीख रहा है। दोनों निम्नलिखित में से कौन-सी समान प्रकार की त्रुटि कर सकते हैं?

  • अधिकाधिक सामान्यीकरण
  • विकासात्मक
  • सरलीकरण
  • अत्यधिक संशुद्धता

उत्तर : 2

प्रश्न : इनमें से कौन-सा सिद्धान्तकार यह मत स्पष्ट करता है कि बच्चे अपनी वृद्धि व विकास हेतु कठोर अध्ययन करते हैं?

  • बैण्ड्यूरा
  • स्किनर
  • मैस्लो
  • पियाजे

उत्तर : 3

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सा तत्व कक्षा में अधिगम हेतु सहायक हो सकता है?

  • बच्चों को अधिगम हेतु प्रेरित करने के लिए परीक्षणों की संख्या को बढ़ा देना
  • अध्यापकों द्वारा बच्चों की स्वायत्तता को बढ़ावा व सहायता देना
  • समानता बनाए रखने के लिए किसी एक अनुदेशन पद्धति पर टिके रहना
  • कालांश की अवधि को 40 मिनट से 50 मिनट तक बढ़ा देना

उत्तर : 2

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सत्य है?

  • आनुवंशिक बनावट व्यक्ति के परिवेश की गुणवत्ता के प्रति प्रत्युत्तरात्मकता को प्रभावित करती है।
  • गोद लिए गए बच्चों का वही बुद्धि-लब्धांक (IQ) होता है, जो गोद लिए गए उनके सगे भाई-बहनों का होता है
  • अनुभव मस्तिष्क के विकास को प्रभावित नहीं करता
  • विद्यालयीकरण का बुद्धि पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता

उत्तर : 1

प्रश्न : परिपक्व विद्यार्थी

  • इस बात से विश्वास करते हैं कि उनके अध्ययन में भावनाओं का कोई स्थान नहीं है
  • अपनी बौद्धिकता के साथ अपने सभी प्रकार के द्वन्द्वों का शीघ्र समाधान कर लेते हैं
  • अपने अध्ययन में कभी-कभी भावनाओं की सहायता चाहते हैं
  • कठिन परिस्थितियों में भी अध्ययन से विचलित नहीं होते

उत्तर : 3

प्रश्न : पूर्व विद्यालय पहली बार आया बच्चा मुक्त रूप से चिल्लाता है। दो वर्ष पश्चात् वही बच्चा जब प्रारम्भिक विद्यालय में पहली बार जाता है, तो अपना तनाव चिल्लाकर व्यक्त नहीं करता, अपितु उसके कन्धे व गर्दन की पेशियाँ तन जाती हैं। उसके इस व्यावहारिक परिवर्तन का क्या सैद्धान्तिक आधार हो सकता है?

  • विकास क्रमिक प्रकार से होता है
  • विकास निरन्तरीय होता रहता है
  • अलग-अलग लोगों में विकास भी भिन्न रूप से होता है।
  • विभेद व एकीकरण विकास के लक्षण हैं

उत्तर : ??

उत्तर : ?

इस प्रश्न का सही उत्तर क्या होगा? हमें अपना जवाब कमेंट सेक्शन में जरूर दें।

  1. Ans D hoga

    Reply
  2. 29 ka1

    Reply
कमेन्ट करें