UPTET बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र प्रैक्टिस सेट 08 : विगत वर्षों के परीक्षा में पूछे गए इन 30 महत्वपूर्ण प्रश्नों का करें अध्ययन

UPTET Child Development And Pedagogy Practice Set 08 : UPTET की परीक्षा 28 नवंबर को आयोजित होनी थी लेकिन पेपर लीक हो जाने के वजह से पूरी परीक्षा प्रक्रिया को बीच मे ही रद्द करना पड़ा, अब इसकी परीक्षा 23 जनवरी 2022 को आयोजित कराई जानी है। इसका एडमिट कार्ड भी जारी कर दिया गया है। इस परीक्षा के अभ्यर्थी अपनी पूरी मेहनत से तैयारी में लगें हुए हैं।

ऐसे में इस लेख के जरिये हम आपको UPTET के परीक्षा में पूछे गए विगत वर्षों के बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र के 30 महत्वपूर्ण प्रश्नों से अवगत कराएंगे, जिसका अध्ययन कर के आप अपनी तैयारी को और भी मजबूती प्रदान कर सकतें हैं।

UPTET Child Development And Pedagogy Practice Set 08
UPTET Child Development And Pedagogy Practice Set 08

UPTET Child Development And Pedagogy Practice Set 08

प्रश्न : बच्चों के अधिगम को सुगम बनाने के लिए अध्यापकों को एक अच्छे कक्षायी परिवेश का सृजन करने की आवश्यकता होती है। इस प्रकार के अधिगम परिवेश का सृजन करने के लिए नीचे दिए गए कथनों में से कौन-सा नहीं है?

  • बच्चे के प्रयासों को स्वीकृति
  • अध्यापकों के अनुसार कार्य करना
  • बच्चे को स्वीकार करना
  • अध्यापक का सकारात्मक रुख

उत्तर : 2

प्रश्न : लड़कों एवं लड़कियों के विषय में कुछ कथन नीचे दिए गए हैं। आपके अनुसार इनमें से कौन-सा सही है?

  • लड़कों को घर के बाहर के कार्यों में सहायता करनी चाहिए
  • लड़कों को घर के कार्यों में सहायता करनी चाहिए
  • सभी लड़कों को विज्ञान तथा लड़कियों को गृह विज्ञान पढ़ाया जाना चाहिए
  • लड़कियों को घर के कार्यों में सहायता करनी चाहिए

उत्तर : 2

प्रश्न : एक बच्चे की कॉपी में लिखने में विपरीत छवियाँ, दर्पण छवि आदि जैसी गलतियाँ मिलती हैं। इस प्रकार का बच्चा लक्षण प्रदर्शित कर रहा है

  • अधिगम में असुविधा के
  • अधिगम में कठिनाई के
  • अधिगम में अशक्तता के
  • अधिगम में समस्या के

उत्तर : 3

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सा बच्चों के संवेगात्मक विकास के लिए सर्वाधिक उपयुक्त है?

  • कक्षा-कक्ष का प्रजातान्त्रिक परिवेश
  • अध्यापकों की कोई भी सहभागिता नहीं, क्योंकि यह माता-पिता का कार्य है
  • कक्षा-कक्ष का नियन्त्रित परिवेश
  • कक्षा-कक्ष का अधिकारवादी परिवेश

उत्तर : 1

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सा एक उपयुक्त रचनात्मक आकलन कार्य नहीं है?

  • खुले अन्त वाले प्रश्न
  • परियोजना
  • अवलोकन
  • विद्यार्थियों का योग्यता क्रम निर्धारित करना

उत्तर : 4

प्रश्न : एक प्रभावशाली अध्यापिका होने के लिए यह महत्त्वपूर्ण है

  • पुस्तक से उत्तरों को लिखाने पर बल देना
  • समूह गतिविधि के बजाय वैयक्तिक अधिगम पर ध्यान देना
  • विद्यार्थियों के द्वारा प्रश्न पूछने के कारण उत्पन्न व्यवधान की अनदेखी करना
  • प्रत्येक बच्चे के सम्पर्क में रहना

उत्तर : 4

प्रश्न : शिक्षार्थियों के ज्ञान अर्जन में सहायता करने के क्रम में अध्यापकों को किस पर ध्यान केन्द्रित करना चाहिए?

  • सुनिश्चित करना कि शिक्षार्थी सब कुछ याद करते हैं
  • शिक्षार्थी के द्वारा प्राप्त किए गए अंकों/ग्रेडों पर
  • शिक्षार्थी को सक्रिय सहभागिता के लिए शामिल करना
  • शिक्षार्थी के द्वारा अधिगम की अवधारणाओं में कुशलता प्राप्त करना

उत्तर : 3

प्रश्न : अध्यापक के दृष्टिकोण से प्रतिभाशालीता किसका संयोजन है?

  • उच्च योग्यता-उच्च सृजनात्मकता- उच्च वचनबद्धता
  • उच्च प्रेरणा-उच्च वचनबद्धता-उच्च क्षमता
  • उच्च योग्यता- उच्च क्षमता उच्च वचनबद्धता
  • उच्च क्षमता- उच्च सृजनात्मकता- उच्च स्मरण शक्ति

उत्तर : 1

प्रश्न : एन सी एफ-2005 के अनुसार, गलतियाँ इस कारण महत्त्वपूर्ण होती हैं

  • यह विद्यार्थियों को ‘उत्तीर्ण’ एवं ‘अनुत्तीर्ण’ समूह में वर्गीकृत करने के लिए एक महत्त्वपूर्ण उपकरण हैं।
  • यह अध्यापकों को बच्चों को डाँटने के लिए एक तरीका उपलब्ध कराती हैं
  • यह बच्चे के विचार को अन्तर्दृष्टि उपलब्ध कराती हैं तथा समाधानों को पहचानने में सहायता करती हैं
  • यह कक्षा से कुछ बच्चों को हटाने के लिए आधा स्थान उपलब्ध कराती हैं

उत्तर : 3

प्रश्न : अधिगम अनुभवों को इस प्रकार से आयोजित किया जाना चाहिए जिससे अधिगम को सार्थक बनाया सके। नीचे दिए गए अधिगम अनुभवों में से कौन-सा बच्चों के लिए सार्थक अधिगम को सुगम नहीं बनाता है ?

  • विषय-वस्तु को केवल याद करने के आधार पर पुनरावृत्ति
  • विषय वस्तु पर प्रश्न बनाना
  • प्रकरण पर परिचर्चा और वाद विवाद
  • प्रकरण पर प्रस्तुतीकरण

उत्तर : 1

प्रश्न : बच्चों को शाब्दिक या गैर-शाब्दिक दण्ड देने का परिणाम होता है

  • उन्हें कार्य करने के लिए प्रेरित करना
  • बच्चे की छवि की सुरक्षा करना
  • उनके अंकों में सुधार करना
  • उनकी स्वयं के प्रति अवधारणा को नष्ट करना

उत्तर : 4

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन प्रारम्भिक बाल्यावस्था अवधि के दौरान उन भूमिकाओं एवं व्यवहारों के बारे में जानकारी प्रदान करते हैं जो एक समूह में स्वीकार्य हैं?

  • अध्यापक एवं साथी
  • भाई-बहन एवं अध्यापक
  • साथी एवं माता-पिता
  • माता-पिता एवं भाई-बहन

उत्तर : 4

प्रश्न : ‘ऑउट-ऑफ-द-बॉक्स’ चिन्तन किससे सम्बन्धित है?

  • अनुकूल चिन्तन
  • अपसारी चिन्तन
  • स्मृति आधारित चिन्तन
  • अभिसारी चिन्तन

उत्तर : 2

प्रश्न : शिक्षण में अध्यापकों के द्वारा विद्यार्थियों का आकलन इस अन्तर्दृष्टि को विकसित करने के लिए किया जा सकता है

  • उन विद्यार्थियों की पहचान करना जिन्हें उच्चतर कक्षा में प्रोन्नत करना है
  • उन विद्यार्थियों को प्रोन्नत न करना जो विद्यालय के स्तर के अनुकूल नहीं हैं
  • शिक्षार्थियों की आवश्यकता के अनुसार शिक्षण उपागम में परिवर्तन करना
  • कक्षा में ‘प्रतिभाशाली’ तथा ‘कमजोर’ विद्यार्थियों के समूह बनाना

उत्तर : 3

प्रश्न : विद्यार्थियों को स्वच्छता के लिए प्रेरित करने हेतु उन्हें स्वच्छता समिति का सदस्य बनाना, प्रतिबिम्बित करता है

  • प्रेरणा की सामाजिक-सांस्कृतिक संकल्पनाएँ
  • प्रेरणा का व्यवहारवादी उपागम
  • प्रेरणा का मानवतावादी उपागम
  • प्रेरणा का संज्ञानात्मक उपागम

उत्तर : 1

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सा आयु समूह परवर्ती बाल्यावस्था श्रेणी के अन्तर्गत आता है?

  • 11 से 18 वर्ष
  • जन्म से 6 वर्ष
  • 18 से 24 वर्ष
  • 6 से 11 वर्ष

उत्तर : 4

प्रश्न : आर्जव तर्क देता है कि भाषा विकास व्यक्ति की नैसर्गिक प्रवृत्ति से प्रभावित होता है, जबकि सोनाली महसूस करती है कि यह परिवेश से प्रभावित होता है। आर्जव और सोनाली के बीच यह चर्चा किस विषय में है?

  • चुनौतीपूर्ण तथा संवेदनशील भावना
  • स्थिरता तथा अस्थिरता पर बहस
  • सतत तथा असतत् अधिगम
  • प्रकृति तथा पालन-पोषण पर वाद-विवाद

उत्तर : 4

प्रश्न : लॉरेन्स कोहबर्ग के सिद्धान्त में कौन-सा स्तर नैतिकता की अनुपस्थिति को सही अर्थ में सूचित करता है?

  • स्तर I
  • स्तर II
  • स्तर III
  • स्तर IV

उत्तर : 1

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सा बच्चों के समाजीकरण के प्रगतिशील मॉडल के सन्दर्भ में सही नहीं है?

  • समूह कार्य में सक्रिय सहभागिता तथा सामाजिक कौशलों को सीखना
  • बच्चे विद्यालय में बताई गई बातों को स्वीकार करते हैं चाहे उनकी सामाजिक पृष्ठभूमि कुछ भी हो
  • कक्षा में प्रजातन्त्र के लिए स्थान होना चाहिए
  • समाजीकरण सामाजिक नियमों का अधिग्रहण है

उत्तर : 2

प्रश्न : अधिगम में आकलन किसलिए आवश्यक होता है?

  • ग्रेड एवं अंकों के लिए
  • जाँच परीक्षण के लिए
  • प्रेरणा के लिए
  • पृथक्करण और श्रेणीकरण के उद्देश्य को प्रोत्साहन देने के लिए

उत्तर : 4

प्रश्न : अध्यापिका ने ध्यान दिया कि पुष्पा अपने-आप किसी एक समस्या का समाधान नहीं कर सकती है। फिर भी वह एक वयस्क या साथी के मार्गदर्शन की उपस्थिति में ऐसा करती है। इस मार्गदर्शन को कहते हैं

  • पार्श्वकरण
  • पूर्व-क्रियात्मक चिन्तन
  • समीपस्थ विकास का क्षेत्र
  • सहारा देना

उत्तर : 4

प्रश्न : अध्यापिका ने एक कमेटी के प्रधान को ‘सभापति’ के स्थान पर ‘सभाध्यक्ष’ लिखा। यह संकेत करता है कि अध्यापिका

  • एक अधिक उपयुक्त पारिभाषिक शब्द का पालन करती है
  • भाषा पर अच्छा अधिकार रखती है
  • एक लिंग-मुक्त भाषा का प्रयोग कर रही है
  • लिंग पूर्वाग्रह से ग्रस्त है

उत्तर : 3

प्रश्न : सतत एवं व्यापक मूल्यांकन किसलिए आवश्यक है?

  • शिक्षण के साथ परीक्षण का ताल-मेल बैठाने के लिए
  • शिक्षा बोर्ड की जवाबदेही कम करने के लिए
  • जल्दी-जल्दी की जाने वाली गलतियों की तुलना में कम अन्तराल पर की जाने वाली गलतियों को सुधारना
  • यह समझने के लिए कि अधिगम का किस प्रकार अवलोकन किया जाता है, दर्ज किया जाता है व सुधार किया जा सकता है

उत्तर : 4

प्रश्न : प्रचलित योजनाओं में नई जानकारी जोड़ने को किस नाम से जाना जाता है?

  • समायोजन
  • साम्यधारण
  • आत्मसात्करण
  • संगठन

उत्तर : 3

प्रश्न : हम सभी अपनी बुद्धि, प्रेरणा, अभिरुचि आदि के सन्दर्भ में भिन्न होते हैं। यह सिद्धान्त सम्बन्धित है

  • वैयक्तिक भिन्नता से
  • बुद्धि के सिद्धान्तों से
  • वंशानुक्रम से
  • पर्यावरण से

उत्तर : 1

प्रश्न : वंचित समूहों के विद्यार्थियों को सामान्य विद्यार्थियों के साथ-साथ पढ़ाना चाहिए। इसका अभिप्राय है

  • समावेशी शिक्षा
  • विशेष शिक्षा
  • एकीकृत शिक्षा
  • अपवर्जक शिक्षा

उत्तर : 1

प्रश्न : इनमें से कौन-सा त्रितन्त्रीय सिद्धान्त मे व्यावहारिक बुद्धि का अभिप्राय नहीं है?

  • पर्यावरण का पुनर्निर्माण करना
  • केवल अपने विषय में व्यावहारिक रूप से विचार करना
  • इस प्रकार के पर्यावरण का चयन करना, जिसमें आप सफल हो सकते है
  • पर्यावरण के साथ अनुकूलन करना

उत्तर : 2

प्रश्न : “कोई भी नाराज हो सकता है-यह आसान है, परन्तु एक सही व्यक्ति के ऊपर सही मात्रा में, सही समय पर सही उद्देश्य के लिए तथा सही तरीके से नाराज होना आसान नहीं है।” यह सम्बन्धित है

  • संवेगात्मक विकास से
  • संज्ञानात्मक विकास से
  • सामाजिक विकास से
  • शारीरिक विकास से

उत्तर : 1

प्रश्न : विकृत लिखावट से सम्बन्धित लिखने की योग्यता में कमी किसका एक लक्षण है?

  • डिसग्राफ़िया
  • डिस्कैल्कुलिया
  • डिस्प्रैक्सिया
  • डिस्लेक्सिया

उत्तर : 1

प्रश्न : पियाजे के सिद्धान्त के अनुसार, निम्नलिखित में से कौन सा व्यक्ति के संज्ञानात्मक विकास को प्रभावित नहीं करेगा?

  • भाषा
  • सामाजिक अनुभव
  • परिपक्वन
  • क्रियाकलाप

उत्तर : ??

उत्तर : ?

इस प्रश्न का सही उत्तर क्या होगा? हमें अपना जवाब कमेंट सेक्शन में जरूर दें।

कमेन्ट करें