UPTET बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र प्रैक्टिस सेट 07 : विगत वर्षों के परीक्षा में पूछे गए इन 30 महत्वपूर्ण प्रश्नों पर डालें एक नज़र

UPTET Child Development And Pedagogy Practice Set 07 : UPTET की परीक्षा 28 नवंबर को आयोजित होनी थी लेकिन पेपर लीक हो जाने के वजह से पूरी परीक्षा प्रक्रिया को बीच मे ही रद्द करना पड़ा, अब इसकी परीक्षा 23 जनवरी 2022 को आयोजित कराई जानी है। इसका एडमिट कार्ड भी जारी कर दिया गया है। इस परीक्षा के अभ्यर्थी अपनी पूरी मेहनत से तैयारी में लगें हुए हैं।

ऐसे में इस लेख के जरिये हम आपको UPTET के परीक्षा में पूछे गए विगत वर्षों के बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र के 30 महत्वपूर्ण प्रश्नों से अवगत कराएंगे, जिसका अध्ययन कर के आप अपनी तैयारी को और भी मजबूती प्रदान कर सकतें हैं।

UPTET Child Development And Pedagogy Practice Set 07
UPTET Child Development And Pedagogy Practice Set 07

UPTET Child Development And Pedagogy Practice Set 07

प्रश्न : शिक्षार्थियों (अधिगमकर्ता) की वैयक्तिक विभिन्नताओं के सन्दर्भ में शिक्षिका को चाहिए

  • निगमनात्मक पद्धति के आधार पर समस्याओं का समाधान करना
  • कलनविधि (एल्गोरिथ्म) का अधिकतर प्रयोग करना
  • याद करने के लिए शिक्षार्थियों को तथ्य उपलब्ध कराना
  • विविध प्रकार की अधिगम परिस्थितियों को उपलब्ध कराना

उत्तर : 4

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सा बाल विकास का एक सिद्धान्त नहीं है ?

  • विकास के सभी क्षेत्र महत्त्वपूर्ण हैं
  • सभी विकास परिपक्वन तथा अनुभव की अन्तः क्रिया का परिणाम होते हैं
  • सभी विकास तथा अधिगम एकसमान गति से आगे बढ़ते हैं
  • सभी विकास एक क्रम का पालन करते हैं

उत्तर : 3

प्रश्न : बच्चों में ज्ञान की रचना करने और अर्थ का निर्माण करने की क्षमता होती है। इस परिप्रेक्ष्य में एक शिक्षक की भूमिका है

  • सम्प्रेषक और व्याख्याता
  • निर्देशक की
  • सुगमकर्ता की
  • तालमेल बैठाने वाले की

उत्तर : 3

प्रश्न : इनमें से कौन-सी विशेषता प्रतिभाशाली बच्चों की नहीं है?

  • अन्तर्दृष्टिपूर्वक समस्याओं का समाधान करना
  • उच्च आत्म क्षमता
  • निम्न औसतीय मानसिक प्रक्रियाएँ
  • उच्चतर श्रेणी की मानसिक प्रक्रियाएँ

उत्तर : 3

प्रश्न : कोहलबर्ग के सिद्धान्त के पूर्व-परम्परागत स्तर के अनुसार, कोई नैतिक निर्णय लेते समय एक व्यक्ति निम्नलिखित में से किस तरफ प्रवृत्त होगा?

  • व्यक्तिगत आवश्यकताएँ तथा इच्छाएँ
  • व्यक्तिगत मूल्य
  • पारिवारिक अपेक्षाएँ
  • अन्तर्निहित सम्भावित दण्ड

उत्तर : 4

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सा आकलन करने का सर्वाधिक उपयुक्त तरीका है?

  • आकलन शिक्षण अधिगम में अन्तर्निहित प्रक्रिया है।
  • आकलन एक शैक्षणिक सत्र में दो बार करना चाहिए- शुरू में और अन्त में
  • आकलन शिक्षक के द्वारा नहीं, बल्कि किसी बाह्य एजेन्सी के द्वारा कराना चाहिए
  • आकलन सत्र की समाप्ति पर करना चाहिए

उत्तर : 1

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन-सा सृजनात्मकता से सम्बन्धित है?

  • अभिसारी चिन्तन
  • सांवेगिक चिन्तन
  • अहंवादी चिन्तन
  • अपसारी चिन्तन

उत्तर : 4

प्रश्न : बच्चों के बारे में निम्नलिखित कथनों में से किस कथन से वाइगोत्स्की सहमत होते हैं?

  • बच्चे तब सीखते हैं, जब उनके लिए आकर्षक पुरस्कार निर्धारित किए जाएँ
  • बच्चों के चिन्तन को तब समझा जा सकता है, जब प्रयोगशाला में पशुओं पर प्रयोग किए जाएँ
  • बच्चे जन्म से शैतान होते हैं और उन्हें दण्ड देकर नियन्त्रित किया जाना चाहिए
  • बच्चे समवयस्कों और वयस्कों के साथ सामाजिक अन्तः क्रियाओं के माध्यम से सीखते हैं

उत्तर : 4

प्रश्न : सुरेश सामान्य रूप से एक शान्त कमरे में अकेले पढ़ना चाहता है, जबकि मदन एक समूह में अपने मित्रों के साथ पढ़ना चाहता है। यह उनकी …… में विभिन्नता के कारण है।

  • अभिक्षमता
  • परावर्तकता-स्तर
  • अधिगम शैली
  • मूल्यों

उत्तर : 3

प्रश्न : भारत में भाषिक विभिन्नता बहुत है। इस सन्दर्भ में विशेषकर कक्षा I और II के प्राथमिक स्तर पर बहुभाषिक कक्षाओं के बारे में सर्वथा उपयुक्त कथन है

  • विद्यालय में उन्हीं बच्चों को प्रवेश दिया जाए जिनकी मातृभाषा वही हो, जो शिक्षा के लिए अपनाई जा रही हो
  • शिक्षक को सभी भाषाओं का सम्मान करना चाहिए और सभी भाषाओं में अभिव्यक्ति के लिए बच्चों को प्रोत्साहित करना चाहिए
  • जो बच्चे कक्षा में मातृभाषा का उपयोग करते हैं, अध्यापक को उनकी उपेक्षा करनी चाहिए
  • शिक्षार्थियों को अपनी मातृभाषा या स्थानीय भाषा का प्रयोग करने पर दण्डित किया जाए

उत्तर : 2

प्रश्न : ‘प्रकृति-पोषण’ विवाद में ‘प्रकृति’ से क्या अभिप्राय है

  • जैविकीय विशिष्टताएँ या वंशानुक्रम सूचनाएँ
  • एक व्यक्ति की मूल वृत्ति
  • भौतिक और सामाजिक संसार की जटिल शक्तियाँ
  • हमारे आस-पास का वातावरण

उत्तर : 1

प्रश्न : बच्चे

  • चिन्तन में वयस्कों की भाँति ही होते हैं और ज्यों ज्यों वे बड़े होते हैं, उनके चिन्तन में गुणात्मक वृद्धि होती है
  • खाली बर्तन के समान होते हैं, जिसमें बड़ों के द्वारा दिया गया ज्ञान भरा जाता है।
  • निष्क्रिय जीव होते हैं, जो प्रदत्त सूचना को ज्यों-की-त्यों प्रतिलिपि के रूप में प्रस्तुत कर देते हैं।
  • जिज्ञासु प्राणी होते हैं, जो अपने चारों ओर के जगत् को खोजने के लिए अपने ही तर्कों और क्षमताओं का उपयोग करते हैं.

उत्तर : 4

प्रश्न : बच्चों की त्रुटियों के बारे में निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सत्य है?

  • बच्चों की त्रुटियाँ उनके सीखने की प्रक्रिया का अंग हैं।
  • बच्चे तब त्रुटियाँ करते हैं जब शिक्षक सौम्य हो और उन्हें त्रुटियाँ करने पर दण्ड न देता हो
  • बच्चों की त्रुटियाँ शिक्षक के लिए महत्त्वहीन हैं और उसे चाहिए कि उन्हें काट दे और उन पर अधिक ध्यान न दें
  • असावधानी के कारण बच्चे त्रुटियाँ करते हैं

उत्तर : 1

प्रश्न : अध्यापक को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उसकी कक्षा के सभी शिक्षार्थी अपने आपको स्वीकृत और सम्मानित समझें। इसके लिए शिक्षक को चाहिए कि वह

  • वंचित पृष्ठभूमि से आने वाले बच्चों का तिरस्कार करे ताकि वे अनुभव करें कि उन्हें अधिक कठोर परिश्रम करना है।
  • उन शिक्षार्थियों का पता लगाए जो अच्छी अंग्रेजी बोल सकते हों और सम्पन्न घरों से हों तथा उन्हें आदर्श के रूप में प्रस्तुत करें
  • अपने शिक्षार्थियों की सामाजिक और सांस्कृतिक पृष्ठभूमि की जानकारी प्राप्त करे और कक्षा में विविध मतों को प्रोत्साहित करें
  • कड़े नियम बनाएँ और जो बच्चे उनका पालन न करें उन्हें दण्ड दें

उत्तर : 3

प्रश्न : “जन – संचार माध्यम समाजीकरण का एक महत्त्वपूर्ण माध्यम बनता जा रहा है।’
नीचे दिए गए कथनों में से कौन-सा सबसे उपयुक्त कथन है?

  • समाजीकरण केवल माता-पिता और परिवार के द्वारा किया जाता है
  • जन-संचार माध्यमों की पहुँच बढ़ रही है और जन-संचार माध्यम अभिवृत्तियों, मूल्यों और विश्वासों को प्रभावित करता है।
  • बच्चे संचार माध्यमों के साथ प्रत्यक्ष रूप से अन्तः क्रिया नहीं कर सकते हैं
  • संचार माध्यम पदार्थों के विज्ञापन और विक्रय के लिए एक अच्छा माध्यम है

उत्तर : 2

प्रश्न : बच्चे किस प्रकार से सीखते हैं? नीचे दिए गए कथनों में से कौन-सा इस प्रश्न के विषय में सही नहीं है?

  • बच्चे तब सीखते हैं, जब वे संज्ञानात्मक रूप से तैयार होते हैं
  • बच्चे अनेकों प्रकार से सीखते हैं
  • बच्चे सीखते हैं, क्योंकि वे स्वाभाविक रूप से प्रेरित होते हैं
  • बच्चे केवल कक्षा में सीखते हैं

उत्तर : 4

प्रश्न : प्राथमिक विद्यालय शिक्षक को अपने शिक्षार्थियों को अभिप्रेरित करने के लिए निम्नलिखित में से किस रणनीति को अपनाना चाहिए?

  • प्रत्येक गतिविधि के प्रेरक के रूप में प्रोत्साहन, पुरस्कार और दण्ड का उपयोग करना
  • बच्चों को उनकी रुचियों के अनुसार अपने लक्ष्य निर्धारित करने और उन्हें पाने के उद्यम में सहायता करना
  • पूरी कक्षा के लिए मानक लक्ष्य निर्धारित करना और उनकी उपलब्धि के आकलन के लिए कठोर मानदण्ड निर्धारित करना
  • प्रत्येक शिक्षार्थी में अंक लाने के लिए स्पर्द्धा को प्रोत्साहित करना

उत्तर : 2

प्रश्न : शैशवकाल की अवधि है

  • जन्म से 3 वर्ष तक
  • जन्म से 1 वर्ष तक
  • जन्म से 2 वर्ष तक
  • 2 से 3 वर्ष तक

उत्तर : 3

प्रश्न : पियाजे के अनुसार 2 से 7 वर्ष के बीच का एक बच्चा संज्ञानात्मक विकास की ……. अवस्था में है।

  • औपचारिक संक्रियात्मक
  • मूर्त संक्रियात्मक
  • संवेदी-गतिक
  • पूर्व संक्रियात्मक

उत्तर : 4

प्रश्न : विकास ………. से ……….. की ओर बढ़ता है।

  • विशिष्ट, सामान्य
  • जटिल, कठिन
  • साधारण, आसान
  • सामान्य, विशिष्ट

उत्तर : 4

प्रश्न : जब वयस्क सहयोग से सामंजस्य कर लेते हैं, तो वे बच्चे के वर्तमान स्तर के प्रदर्शन को सम्भावित क्षमता के स्तर के प्रदर्शन की तरफ प्रगति क्रम को सुगम बनाते हैं, इसे कहा जाता है

  • सहयोग देना
  • सहयोगात्मक अधिगम
  • सहभागी अधिगम
  • समीपस्थ विकास

उत्तर : 1

प्रश्न : निम्नलिखित में से कौन सा समाजीकरण का एक प्रमुख कारक है?

  • कम्प्यूटर
  • राजनीतिक दल
  • आनुवंशिकता
  • परिवार

उत्तर : 4

प्रश्न : बच्चों को समूह कार्य देना एक प्रभावी शिक्षण रणनीति है, क्योंकि

  • छोटे समूह में कुछ बच्चों को दूसरे बच्चों पर हावी होने की अनुमति होती है
  • सीखने की प्रक्रिया में बच्चे एक-दूसरे से सीखते हैं और परस्पर सहायता भी करते हैं
  • बच्चे अपना काम जल्दी करने में समर्थ होते हैं
  • इससे शिक्षक का काम कम हो जाता है

उत्तर : 2

प्रश्न : एक औसत बुद्धि वाला बच्चा यदि भाषा को पढ़ने एवं समझने में कठिनाई प्रदर्शित करता है, तो यह संकेत देता है कि बच्चा ……… का लक्षण प्रदर्शित कर रहा है।

  • लेखन लगता (डिस्प्राफिया)
  • गणितीय-अक्षमता (डिस्कैल्कुलिया)
  • गतिसमन्वय-अक्षमता (डिस्प्रैक्सिया)
  • पठन-अक्षमता (डिस्लैक्सिया)

उत्तर : 4

प्रश्न : नवीन जानकारी को शामिल करने के लिए वर्तमान स्कीमा (अवधारणा) में बदलाव की प्रक्रिया ……. कहलाती है।

  • आत्मसात्करण
  • अहंकेन्द्रिता
  • समायोजन
  • अनुकूलन

उत्तर : 1

प्रश्न : मध्य बाल्यावस्था में भाषा ……… के बजाय ……. अधिक है।

  • समाजीकृत, अहंकेन्द्रित
  • जीववादी, समाजीकृत
  • परिपक्व, अपरिपक्व
  • अहंकेन्द्रित, समाजीकृत

उत्तर : 1

प्रश्न : बाल केन्द्रित शिक्षा में शामिल है

  • बच्चों का एक कोने में बैठना
  • प्रतिबन्धित परिवेश में अधिगम
  • वे गतिविधियाँ जिनमें खेल शामिल नहीं होते
  • बच्चों के लिए हस्तपरक गतिविधियाँ

उत्तर : 4

प्रश्न : समावेशी शिक्षा मानती है कि हमें ……… के अनुरूप बदलना है।

  • व्यवस्था / बच्चे
  • परिवेश/परिवार
  • बच्चे / परिवेश
  • बच्चे/व्यवस्था

उत्तर : 1

प्रश्न : कक्षा-अध्यापक ने राघव को अपनी कक्षा में अपने की-बोर्ड पर स्वयं द्वारा तैयार किया गया मधुर संगीत बजाते हुए देखा। कक्षा-अध्यापक ने विचार किया कि राघव में ………. बुद्धि उच्चस्तरीय थी।

  • शारीरिक -गतिबोधक
  • भाषायी
  • संगीतमय
  • स्थानिक

उत्तर : 3

प्रश्न : जब एक शिक्षक यह समझता है कि स्वाभाविक रूप से लड़के गणित में लड़कियों से अच्छे हैं, यह दर्शाता है कि अध्यापक है

  • लिंग (जेण्डर) पक्षपाती
  • शिक्षाप्रद
  • सही दृष्टिकोण वाला
  • नीतिपरक

उत्तर : ??

उत्तर : ?

इस प्रश्न का सही उत्तर क्या होगा? हमें अपना जवाब कमेंट सेक्शन में जरूर दें।

कमेन्ट करें