UKPSC Lower PCS Syllabus In Hindi | उत्तराखंड लोअर पीसीएस सिलेबस हिंदी में

UKPSC Lower PCS Syllabus 2022 In Hindi : उत्तराखंड लोक सेवा आयोग (UKPSC) ने सिविल अपर सबऑर्डिनेट सर्विस भर्ती पद के लिए ऑनलाइन आवेदन फॉर्म जारी किया था, तथा इस फॉर्म को बहुत से लोगों द्वारा भरा गया था।

जो भी उम्मीदवार इस फॉर्म को भरें है उनके लिए UKPSC Lower PCS Syllabus In Hindi और UKPSC Lower Subordinate Exam Pattern के बारे में जानना बहुत ही जरूरी हैं क्योकि यदि इस परीक्षा में बेहतर अंक लाने है तो परीक्षा के सिलेबस के अनुसार पढ़ना बहुत ही आवश्यक हैं।

UKPSC LOWER PCS SYLLABUS HINDI
UKPSC LOWER PCS SYLLABUS HINDI

UKPSC Lower PCS Syllabus 2022 – संक्षिप्त विवरण

  1. संस्था का नाम : उत्तराखंड लोक सेवा आयोग (UKPSC)
  2. चयन प्रक्रिया : प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा, इंटरव्यू
  3. श्रेणी : Goverment Exam Syllabus 2022
  4. लेख का नाम : UKPSC lower PCS Syllabus Hindi
  5. आधिकारिक वेबसाइट : https://ukpsc.gov.in

UKPSC Lower Subordinate Selection Process

जो भी उम्मीदवार इस परीक्षा में सफल होने का सपना देख रहे हैं उनको कुल तीन चरणों से होकर गुजरना होगा जो निम्नलिखित है।

  1. प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam)
  2. मुख्य परीक्षा (Mains Exam)
  3. साक्षात्कार (INTERVIEW)

पहला राउंड में प्री परीक्षा होगी और प्री परीक्षा पास करने वाले उम्मीदवारों को दूसरे चरण में मेंस परीक्षा के लिए बुलाया जाएगा। मेंस परीक्षा में पास होने वाले उम्मीदवारों को तीसरे चरण इंटरव्यू के लिए बुलाया जाएगा इंटरव्यू के बाद फाइनल सलेक्शन होगा।

UKPSC Lower Subordinate Exam Pattern

  1. यह परीक्षा प्री और मेंस दो चरणों मे सम्पन्न होगी।
  2. प्री परीक्षा बहुविकल्पीय (वस्तुनिष्ठ) प्रकार की होगी।
  3. प्री परीक्षा में कुल 150 प्रश्न आएंगे जो कुल 150 अंको के होंगे।
  4. मेंस परीक्षा में कुल दो पेपर होंगे जो कि क्रमशः 200 और 200 अंको के होंगे।
  5. प्री परीक्षा की समय अवधि 02:00 घंटे (120 मिनट) की होगी।
  6. मेंस परीक्षा डिस्क्रिप्टिव लिखित प्रकार की होगी।
  7. मेंस परीक्षा की समय अवधि प्रत्येक पेपर के लिए 03:00 घंटे (180 मिनट) की होगी।
  8. प्रश्नों के प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 0.25 अंक की नेगेटिव मार्किंग होगी।
  9. निबंध और आलेखन के पेपर में 35% अंक प्राप्त करना अनिवार्य है।
  10. इंटरव्यू अधिकतम 50 अंकों का होगा।
विषय का नामप्रश्नों की संख्याकुल अंक
सामान्य अध्ययन और सामान्य बुद्धि परीक्षण150150

UKPSC Lower Subordinate Mains Exam Pattern

पेपर की संख्याविषय का नामप्रश्न की संख्याकुल अंको की संख्या
Iसामान्य अध्ययन2200
IIनिबंध और आलेखन05200
  1. सामान्य अध्ययन के पेपर का प्रत्येक प्रश्न 10 अंक का होगा।
  2. दोनों पेपरों को मिलाकर कुल 6 घंटे का समय दिया जाएगा।
  3. मेन्स परीक्षा व इंटरव्यू में प्राप्त अंकों के आधार पर अंतिम मेघा सूची तैयार की जाएगी।

UK Lower PCS Pre Syllabus

UKPSC Lower PCS Syllabus In Hindi में निम्नलिखित टॉपिक्स शामिल हैं, जो निम्नलिखित है, इसकी मदद से आप अपनी परीक्षा की तैयारी को और भी मजबूत बना सकते हैं।

सामान्य अध्ययन

  1. सामान्य विज्ञान एवं कम्प्यूटर से संबंधित आधारभूत जानकारी : सामान्य विज्ञान एवं कंप्यूटर संचालन की आधारभूत जानकारी सम्बन्धी प्रश्न विज्ञान एवं कंप्यूटर की सामान्य समझ एवं दैनिक जीवन में इनके अनुप्रयोग , प्रेक्षण एवं अनुभव पर आधारित होंगे , जो कि ऐसे शिक्षित व्यक्ति से अपेक्षित है जिसका विज्ञान या कंप्यूटर की किसी भी शाखा में विशेष अध्ययन न हो ।
  2. भारत का इतिहास तथा भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन : भारत का इतिहास तथा भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन के अन्तर्गत प्रश्न : प्राचीन , मध्यकालीन एवं आधुनिक भारतीय इतिहास के राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक एवं सांस्कृतिक पहलुओं की व्यापक जानकारी तथा भारत के स्वतंत्रता आन्दोलन , राष्ट्रवाद के विकास एवं स्वतंत्रता प्राप्ति पर आधारित होंगे ।
  3. भारतीय राज्य व्यवस्था एवं अर्थव्यवस्था : भारतीय राज्य व्यवस्था एवं अर्थव्यवस्था के अन्तर्गत प्रश्न, भारतीय राज्यव्यवस्था , संविधान , पंचायती राज और सामुदायिक विकास तथा भारतीय अर्थव्यवस्था एवं नियोजन की व्यापक विशेषताओं की समझ पर आधारित होंगे ।
  4. भारत का भूगोल एवं जनांकिकी : इसके अन्तर्गत प्रश्न भारत के भौगोलिक पारस्थितिकीय और सामाजिक – आर्थिक जनांकिकीय पक्षों की व्यापक समझ पर आधारित होंगे ।
  5. सम- सामयिक घटनाएं : इसके अन्तर्गत प्रश्न समसामयिक उत्तराखण्ड राज्यीय तथा राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय महत्व की घटनाओं खेलकूद सहित की समझ पर आधारित होंगे।
  6. उत्तराखण्ड का इतिहास : उत्तराखण्ड की ऐतिहासिक पृष्ठभूमिः प्राचीनकाल ( आरम्भ से 1200 ई 0 तक ) मध्यकाल ( 1200 से 1815 ई 0 तक ) प्रभावशाली राजवंश एवं उनकी उपलब्धियों , गोरखा आक्रमण एवं शासन , ब्रिटिश शासन , टिहरी रियासत एवं उसकी शासन व्यवस्था , स्वतंत्रता आन्दोलन में उत्तराखण्ड की भूमिका।
  7. इससे सम्बन्धित प्रमुख विभूतियों , प्रमुख ऐतिहासिक स्थल एवं स्मारक , उत्तराखण्ड राज्य निर्माण आन्दोलन , उत्तराखण्ड के लोगों का राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय क्षेत्रों में , विशेष रूप से सशस्त्र बलों में योगदान, विभिन्न समाज सुधार आन्दोलन तथा अनुसूचित जाति , अनुसूचित जनजाति , बच्चों , दलितों एवं महिलाओं हेतु उत्तराखण्ड शासन के विभिन्न कल्याणकारी कार्यक्रम ।
  8. उत्तराखण्ड की संस्कृति : जातियां एवं जनजातिया , धर्म एवं लोक विश्वास , साहित्य , लोक साहित्य , परम्पराए एवं रीति – रिवाज , वेश – भूषा एवं आभूषण , मेले एवं त्यौहार , खान – पान, कला शिल्प ; नृत्य , गायन एवं वाद्य यंत्र, प्रमुख पर्यटन स्थल , महत्वपूर्ण खेलकूद , प्रतियोगिताएं एवं पुरस्कार , उत्तराखण्ड के प्रसिद्ध लेखक एवं कवि तथा उनका हिन्दी – साहित्य एवं लोक – साहित्य में योगदान , उत्तराखण्ड शासन द्वारा संस्कृति के विकास हेतु उठाए गए कदम।
  9. उत्तराखण्ड का भूगोल एवं जनांकिकी : भौगोलिक स्थिति, उत्तराखण्ड हिमालय की प्रमुख विशेषताएं, उत्तराखण्ड में नदियां , पर्वत , जलवायु , पन संसाधन एवं बागवानी, प्रमुख फसलें एवं फसल चक्र । सिंचाई के साधन, कृषि जोतें, प्राकृतिक एव मानव जनित आपदायें एवं आपदा प्रबन्धन, जल संकट और जलागम प्रबन्धन, दूरस्थ क्षेत्रों की समस्याएँ, पर्यावरण एवं पर्यावरणीय आन्दोलन, जैव विविधता एवं इसका संरक्षण, उत्तराखण्ड की जनसंख्या वर्गीकरण , धनत्व , लिंगानुपात , साक्षरता एवं जनसंख्या पलायन।
  10. राजनीतिक एवं प्रशासनिक परिवेशः- उत्तराखण्ड में गठित सरकारें एवं उनकी नीतियों , राज्य की विभिन्न प्रकार की सेवाएं , प्रदेश की राजनैतिक एवं प्रशासनिक व्यवस्था , पंचायती – राज , सामुदायिक विकास तथा सहकारिता।
  11. प्रशासनिक व्यवस्था की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि – गोरखा एवं ब्रिटिश शासन काल में भूमि सम्बन्धी व्यवस्थाएँ- जिला भूमि प्रबन्धन ( थोकदारी , वन पंचायतें , सिविल एवं सोयम यन केशर हिन्द ( बेनाप भूमि ) नजूल , नयाबाद बन्दोबस्त ), आधुनिक काल उत्तर प्रदेश एवं कुमाऊँ – उत्तराखण्ड जमींदारी विनाश एवं भूमि व्यवस्था अधिनियम लागू होने के बाद भूमि – सुधार , लैंड टैन्योर में परिर्वतन , लगान वसूली व्यवस्था, राजस्व पुलिस – व्यवस्था।
  12. आर्थिक परिवेश – सीमान्त जनपदों का प्राचीन काल में तिब्बत से व्यापार एवं व्यापार की वर्तमान स्थिति , स्थानीय कृषि , पशुपालन , कृषि जोतों की अलाभकर स्थिति व चकबंदी की आवश्यकता , बेगार तथा डडवार प्रथा।
  13. आर्थिक व प्राकृतिक संसाधन – मानव संसाधन , प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था एवम् प्रमुख शिक्षण संस्थान ; वन , जल , जड़ी – बूटी , कृषि , पशुधन , जल – विद्युत , खनिज , पर्यटन , उद्योग ( लघु व ग्रामीण ) संसाधनों के उपयोग की स्थिति । उत्तराखण्ड में गरीबी व बेरोजगारी , उन्मूलन व आर्थिक विकास की दिशा में चलाई जा रही विभिन्न योजनाएँ / आर्थिक क्रियायें एवं इनका राज्य जीडीपी में योगदान , उत्तराखण्ड में विकास की प्राथमिकतायें व नियोजन की नवीन रणनीति तथा समस्याएँ।उत्तराखण्ड में विपणन की सुविधाएं तथा कृषि मन्डियां , उत्तराखण्ड के बजट की प्रमुख विशेषताएँ।

खण्ड -2 : सामान्य बुद्धि परीक्षण (रीजनिंग)

  1. Differences,
  2. Space Visualization
  3. Problem Solving,
  4. Analysis
  5. Judgement,
  6. Decision Making
  7. Visual Memory
  8. Discrimination
  9. Observation
  10. Relationship concepts
  11. Arithmetical reasoning
  12. Verbal And Figure Classification
  13. Arithmetical Number Series etc.

UKPSC Lower PCS Mains Syllabus

सामान्य अध्ययन

  1. अन्तर्राष्ट्रीय , राष्ट्रीय एवं राज्य के महत्व की समसामयिक घटनाएं : इसके अन्तर्गत राष्ट्रीय महत्व की घटनाएं जैसे- गठबंधन सरकार व्यवस्था , आर्थिक उदारीकरण ,आर्थिक मंदी , क्षेत्रीय अतिवाद तथा पृथकतावादी आन्दोलन , नक्सलवाद , माओवाद , सलया जुडम , राष्ट्रीय सुरक्षा , आन्तरिक सुरक्षा , सामुदायिक सौहार्द्र और अन्तराष्ट्रीय परिदृश्य में जैसे नाभिकीय नीति – मुद्दे एवं विवाद ,भूमण्डलीकरण का विकासशील देशों की सामाजिक – आर्थिक परिस्थतियों पर प्रभाव एवं वैश्विक खाद्य संकट सम्मिलित होंगे।
  2. खेल – कूद : विश्व , भारत एवं उत्तराखण्ड के महत्वपूर्ण खेलकुद , प्रतियोगिताएं , पुरुस्कार एवं सम्बन्धित व्यक्तियों पर आधारित प्रश्न होंगे।
  3. भारतीय संविधान का आधारभूत ज्ञान – इसके अन्तर्गत भारतीय संविधान पर आधारित ऐसे प्रश्न होंगे जिनकी किसी ऐसे शिक्षित व्यक्ति से अपेक्षा की जा सकती हैं जिसने कभी संविधान का विशेष अध्यन न किया हो । सूचना का अधिकार , शिक्षा का अधिकार , बौद्धिक सम्पदा का अधिकार और उपभोक्ता संरक्षण अधिकार , समाज के निर्यल एवं अल्प संख्यक समुदाय के लिये बनाये गये विभिन्न कानून तथा कल्याणकारी कार्यक्रम एवं उनके उत्थान हेतु विभिन्न राष्ट्रीय एवं राज्य आयोग से सम्बन्धित प्रश्न भी होंगे।
  4. भारतीय राज्यव्यवस्था और अर्थव्यवस्था एवं इतिहास – इसके अन्तर्गत भारतीय राजनैतिक व्यवस्था , पंचायती राज एवं सामुदायिक विकास , भारतीय अर्थव्यवस्था एवं योजना की विशिष्टिताओं की व्यापक समझ से सम्बन्धित प्रश्न होंगे, भारत के प्राचीन , मध्यकालीन एवं आधुनिक इतिहास के अन्तर्गत भारत के राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक तथा सांस्कृतिक पक्षों की जानकारी ; आन्दोलन , राष्ट्रवाद का विकास।
  5. भारत का इतिहास भूगोल एवं जनांकिकी – इसके अन्तर्गत भारत के भौगोलिक , पारिस्थितिकीय , सामाजिक , आर्थिक एवं जनांकिकीय
  6. सामान्य विज्ञान एवं पर्यावरण – सामान्य विज्ञान एवं पर्यावरण के अन्तर्गत विज्ञान एवं पर्यावरण की समझ एवं अनुप्रयोग जिसमें दैनिक जीवन के प्रेक्षण एवं अनुभव पर ऐसे 32 प्रश्न होंगे , जिसकी किसी भी ऐसे शिक्षित व्यक्ति से अपेक्षा की जा सकती है , जिसने विज्ञान की किसी भी शाखा का विशेष अध्ययन नहीं किया हो। वैश्विक पर्यावरणीय समस्यायें एवं समाधान , मानव के शारीरिक विकास हेतु पोषणीय आवश्यकताएं , अनुवांशिक अभियंत्रण के मानवहित में अनुप्रयोग , पशु , पक्षी एवं पादपों के रोग तथा इनकी रोक थाम।
  7. भारतीय कृषिः– इसके अनतर्गत फसलों , श्वेत , पीत एवं हरित क्रांति , कृषि उत्पादन इतथा इसका भारतीय ग्रामीण अर्थ व्यवस्था में योगदान , सेज , कृषि के क्षेत्र में नैनो एवं बॉयो प्रौद्योगिकी का उपयोग , भारतीय किसानों की समस्यायें एवं भूमि सुधार पर आधारित प्रश्न होंगे।
  8. विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी : – इस भाग में उम्मीदवारों के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी सूचना एवं अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी , इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के क्षेत्र में विकास तथा कम्प्यूटर सम्बन्धी आधारभूत ज्ञान तथा साइबर अपराध के ज्ञान का परीक्षण होगा।
  9. उत्तराखण्ड का इतिहास : उत्तराखण्ड की ऐतिहासिक पृष्ठभूमिः प्राचीनकाल ( आरम्म से 1200 ई 0 तक ) मध्यकाल ( 1200 से 1816 ई 0 तक ) प्रभावशाली राजवंश एवं उनकी उपलब्धियाँ , गोरखा आक्रमण एवं शासन , ब्रिटिश शासन , टिहरी रियासत एवं उसकी शासन व्यवस्था , स्वतंत्रता आन्दोलन में उत्तराखण्ड की भूमिका और इससे सम्बन्धित प्रमुख विभूतियाँ , प्रमुख ऐतिहासिक स्थल एवं स्मारक , उत्तराखण्ड राज्य निर्माण आन्दोलन , उत्तराखण्ड के लोगों का राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय क्षेत्रों में ; विशेष रूप से सशस्त्र बलों में योगदान ; विभिन्न समाज सुधार आन्दोलन तथा अनुसूचित जाति . अनुसूचित जनजाति , बच्चों , दलितों एवं महिलाओं हेतु उत्तराखण्ड शासन के विभिन्न कल्याणकारी कार्यक्रम।
  10. उत्तराखण्ड की संस्कृति : जातियां एवं जनजातियां , धर्म एवं लोक विश्वास , साहित्य , लोक साहित्य , परम्पराएं एवं रीति – रिवाज , वेश – भूषा एवं आभूषण , मेले एवं त्यौहार , खान – पान , कला शिल्प ; नृत्य , गायन एवं वादय यंत्र , प्रमुख पर्यटन – स्थल, उत्तराखण्ड के प्रसिद्ध लेखक एवं कवि तथा उनका हिन्दी – साहित्य एवं लोक – साहित्य योगदान , उत्तराखण्ड शासन द्वारा संस्कृति के विकास हेतु उठाए गए कदम।
  11. हिमालय की प्रमुख विशेषताएं, उत्तराखण्ड में नदियां , पर्वत , जलवायु , वन संसाधन एवं बागवानी, प्रमुख फसलें एवं फसल चक्र, सिंचाई के साधन, कृषि जोतें, प्राकृतिक एंव मानव जनित आपदायें एवं आपदा प्रबन्धन, जल संकट और जलागम प्रबन्धन, दूरस्थ क्षेत्रों की समस्याएँ, पर्यावरण एवं पर्यावरणीय आन्दोलन, जैव विविधता एवं इसका संरक्षण, उत्तराखण्ड की जनसंख्या वर्गीकरण , धनत्व , लिंगानुपात , साक्षरता एवं जनसंख्या पलायन।
  12. उत्तराखण्ड का आर्थिक , राजनीतिक व प्रशासनिक परिवेश : उत्तराखण्ड में गठित सरकारें एवं उनकी नीतियाँ राज्य की विभिन्न प्रकार की सेवाएं प्रदेश की राजनैतिक एवं प्रशासनिक व्यवस्था , पंचायती – राज , सामुदायिक विकास तथा सहकारिता, प्रशासनिक व्यवस्था की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि – गोरखा एवं ब्रिटिश शासन काल में भूमि सम्बन्धी व्यवस्थाएँ- जिला भूमि प्रबन्धन ( थोकदारी , वन पंचायतें , सिविल एवं सोयम वन केशर हिन्द ( बेनाप भूमि ) नजूल , नयाबाद बन्दोबस्त ), आधुनिक काल उत्तर प्रदेश एवं कुमाऊँ – उत्तराखण्ड जमींदारी विनाश एवं भूमि व्यवस्था अधिनियम लागू होने के बाद भूमि – सुधार , लैंड टैन्योर में परिर्वतन , लगान वसूली व्यवस्था, राजस्व पुलिस – व्यवस्था।
  13. आर्थिक परिवेशः– सीमान्त जनपदों का प्राचीन काल में तिब्बत से व्यापार एवं व्यापार की वर्तमान स्थिति , स्थानीय कृषि , पशुपालन , कृषि जोतों की अलाभकर स्थिति व चकबंदी की आवश्यकता , बेगार तथा डडवार प्रथा।
  14. आर्थिक व प्राकृतिक संसाधनः– मानव संसाधन, प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था एवम् प्रमुख शिक्षण संस्थान, वन, जल, जडी – बूटी, कृषि, पशुधन, जल – विद्युत , खनिज , पर्यटन, उद्योग ( लघु व ग्रामीण ) संसाधनों के उपयोग की स्थिति, उत्तराखण्ड में गरीबी व बेरोजगारी, उन्मूलन व आर्थिक विकास की दिशा में चलाई जा रही विभिन्न योजनाएँ / आर्थिक क्रियायें एवं इनका राज्य जीडीपी में योगदान, उत्तराखण्ड में विकास की प्राथमिकतायें व नियोजन की नवीन रणनीति तथा समस्याएँ । उत्तराखण्ड में विपणन की सुविधाए तथा कृषि मन्डिया . उत्तराखण्ड के बजट की प्रमुख विशेषताएँ।
  15. सांख्यिकीय विश्लेषण, आलेख एवं रेखाचित्र : – इस भाग में अभ्यर्थी की सांख्यिकीय आलेखों एवं रेखा चित्रों के रूप में प्रस्तुत सूचना से निष्कर्ष निकालने और उनका निर्वचन करने की योग्यता का परीक्षण होगा।

निबंध और आलेखन

निम्नलिखित में से किसी एक शीर्धक पर हिन्दी अथवा अंग्रेजी भाषा में लगभग 400 शब्दों में निबंध लिखिए।

  1. साहित्य और संस्कृति ( Literature & Culture )
  2. सामाजिक क्षेत्र ( Social Sphere )
  3. राजनीतिक क्षेत्र ( Political Sphere )
  4. उत्तराखण्ड का सामाजिक क्षेत्र (Social Sphere)
  5. राजनीतिक क्षेत्र ( Political Sphere )
  6. विज्ञान पर्यावरण एवं प्रौद्योगिकी ( Science , Environment & Technology )
  7. राष्ट्रीय एवं अन्तराष्ट्रीय घटनाक्रम ( National & Intemational Events )
  8. प्राकृतिक आपदायें यथा भूस्खलन , भूकम्प , बाढ़ , सूखा आदि । ( Natural Calamities like Land slide , Earthquake . Deluge . Drought etc. )

हिन्दी सारांश लेखन ( लगभग 300 शब्दों में )

(क) उचित शीर्षक।

(ख) मूल गद्यांश का सारांश।

(ग) तीन रेखांकित अंशों की व्याख्या।

3. हिन्दी आलेखन, शासकीय , अर्द्धशासकीय पत्र , कार्यालय आदेश , कार्यालय ज्ञाप , परिपत्र , विज्ञप्ति , निविदा सूचना टिप्पणी।

4.हिन्दी गद्यांश का अंग्रेजी में अनुवाद।

5.अंग्रेजी गद्यांश का हिन्दी में अनुवाद, इत्यादि।

Uttarakhand Lower PCS Syllabus In Hindi pdf Download

यदि आप Uttarakhand Lower PCS Syllabus In Hindi pdf Download को डाऊनलोड करना चाहते हैं तो आप हमारे द्वारा दिए गए लिंक के माध्यम से डाऊनलोड कर सकते हैं, इसके अतिरिक्त आप जाकर आधिकारिक वेबसाइट से भी डाऊनलोड कर सकते हैं।

Lower PCS Syllabus – कुुुछ महत्वपूर्ण प्रश्न

UKPSC Lower Subordinate की परीक्षा कितने चरणों मे सम्पन्न होती हैं?

UKPSC लोअर सबोर्डिनेट की परीक्षा कुल तीन चरणों मे सम्पन्न होती है जो निम्न है।
प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam)
मुख्य परीक्षा (Mains Exam)
साक्षात्कार (INTERVIEW)

UKPSC Lower PCS परीक्षा के लिए कितना समय दिया जाता है?

इसके प्री परीक्षा में 2 घण्टे का समय मिलता है और इसके मेंस परीक्षा में प्रत्येक पेपर के लिए 3 घण्टे का समय दिया जाता है।

क्या इस परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग का प्रावधान है?

हाँ, इस परीक्षा में 1/4 अंक की नेगेटिव मार्किंग है।

क्या यह फॉर्म अन्य राज्य के लोग भी भर सकते हैं?

नहीं, यह फॉर्म अन्य राज्य के लोग नहीं भर सकते हैं।

UKPSC Lower PCS Syllabus से जुड़ी और जानकारी के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करें।

कमेन्ट करें