Haryana HTET 2022 Child Development And Pedagogy Practice Set 08 | पिछले वर्ष परीक्षा में पूछें गये सबसे महत्वपूर्ण 50 प्रश्नों का संग्रह, अवश्य पढ़ें

Haryana HTET 2022 Child Development And Pedagogy Practice Set 08 : हरियाणा में शिक्षक बनने की तैयारी करने वाले उम्मीदवारों के लिए बोर्ड ऑफ एजुकेशन, हरियाणा भिवानी द्वारा आयोजित कराई जाने वाली शिक्षक पात्रता परीक्षा (TET) के लिए कुछ महीने पूर्व अधिसूचना जारी किया गया था तथा अधिसूचना के आधार पर HTET Exam 2022 का आयोजन 03 व 04 दिसम्बर 2022 को किया जाएगा तथा आयोग द्वारा इस परीक्षा का एडमिट कार्ड (प्रवेश पत्र) भी जल्द ही जारी किया जाएगा।

ऐसे में आज हम इस लेख के माध्यम से बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र के 50 महत्वपूर्ण प्रश्नों को लेकर आये हैं जो की परीक्षा दृष्टि से बेहद उपयोगी हैं, तो परीक्षा में शामिल होने से पूर्व Haryana HTET 2022 Child Development And Pedagogy Practice Set 08 को एक बार अवश्य पढ़ें।

Haryana HTET 2022 Child Development And Pedagogy Practice Set 08
Haryana HTET 2022 Child Development And Pedagogy Practice Set 08

Haryana HTET 2022 Child Development And Pedagogy Practice Set 08

प्रश्न. सीमा परीक्षा में A+ ग्रेड प्राप्त करने के लिए अति इच्छुक है। जब वह परीक्षा भवन में दाखिल होती है तथा परीक्षा प्रारंभ होती है, वह अत्यधिक नर्वस हो जाती है। उसके पांव ठंडे पड़ जाते हैं, उसके हृदय की धड़कन बहुत तेज हो जाती है और वह उचित तरीके से उत्तर नहीं दे पाती। इसका मुख्य कारण हो सकता है-

  • शायद वह अपनी तैयारी के बारे में बहुत आत्मविश्वासी नहीं है।
  • शायद वह इस परीक्षा के परिणाम के बारे में बहुत अधिक सोचती है।
  • निरीक्षक शिक्षिका जो ड्यूटी पर है, वह उसकी कक्षा अध्यापिका हो सकती है और वह स्वभाव में बहुत कठोर है।
  • शायद वह आकस्मात् संवेगात्मक आवेग का सामना नहीं कर सकती।

उत्तर: 4

प्रश्न. निम्नलिखित में कौन-सी संज्ञानात्मक क्रिया दी गई सूचना के विश्लेषण के लिए प्रयोग में लाई जाती है?

  • पहचान करना
  • अंतर करना
  • वर्गीकृत करना
  • वर्णन करना

उत्तर: 2

प्रश्न. राजेश अति लोलुप पाठक है। वह अपने कोर्स की पुस्तकें पढ़ने के अतिरिक्त प्रायः पुस्तकालय जाता है और भिन्न प्रकरणों पर पुस्तकें पढ़ता है। इतना ही नहीं, राजेश भोजन अवकाश में अपने परियोजना कार्य करता है। उसे परीक्षाओं के लिए पढ़ने के लिए अपने शिक्षकों अथवा अभिभावकों द्वारा कभी भी कहने की जरूरत नहीं है और वह वास्तव में सीखने का आनन्द लेता नजर आता है। उसे, ………… के रूप में सर्वाधिक बेहतर रूप से वर्णित किया जा सकता है।

  • तथ्य-आधारित शिक्षार्थी
  • शिक्षक-अभिप्रेरित शिक्षार्थी
  • आकलन-आधारित शिक्षार्थी
  • आंतरिक रूप से अभिप्रेरित शिक्षार्थी

उत्तर: 4

प्रश्न. अधिगम निर्योग्यता …….

  • एक स्थिर अवस्था है।
  • एक चर अवस्था है।
  • जरूरी नहीं है कि कार्य-पद्धति की हानि करे।
  • समुचित निवेश के साथ सुधार योग्य नहीं होती।

उत्तर: 2

प्रश्न. …… के अतिरिक्त निम्नलिखित समस्या समाधान की प्रक्रिया के चरण हैं।

  • समस्या की पहचान
  • समस्या का छोटे हिस्सों में बांटना
  • संभावित युक्तियों को खोजना
  • परिणामों की आशा करना

उत्तर: 2

प्रश्न. एक शिक्षक (का)-

  • शिक्षार्थियों द्वारा की गई त्रुटियों को एक भयंकर भूल के रूप में लेना चाहिए और प्रत्येक त्रुटि के लिए गंभीर टिप्पणी देनी चाहिए।
  • शिक्षार्थी कितनी बार गलती करने से बचता है-इसे सफलता के माप के रूप में लेना चाहिए।
  • जब शिक्षार्थी विचारों को संप्रेषित करने की कोशिश कर रहे हों, तो उन्हें ठीक नहीं करना चाहिए।
  • व्याख्यान पर अधिक ध्यान देना चाहिए और ज्ञान के लिए आधार उपलब्ध कराना चाहिए।

उत्तर: 3

प्रश्न. यदि पूर्व प्राथमिक स्तर पर बच्चों पर खोज करने की अनुमति दे दी जाए, तो वे संतुष्ट हो जाते हैं। जब उन्हें हतोत्साहित किया जाता है, तो वे व्यथित हो जाते हैं। वे ऐसा की उनकी ………. अभिप्रेरणा के कारण करते हैं।

  • अपनी उपेक्षा को कम करने
  • कक्षा के साथ संबद्ध होने
  • कक्षा में अव्यवस्था फैलाने में
  • अपनी शक्तियों का उपयोग करने

उत्तर: 1

प्रश्न. मानव बुद्धि एवं विकास की समझ शिक्षक को ………के योग्य बनाती है।

  • शिक्षण के समय शिक्षार्थियों के संवेगों पर नियंत्रण बनाए रखने
  • विविध शिक्षार्थियों के शिक्षण के बारे में स्पष्टता
  • शिक्षार्थियों को यह बताने कि वे अपने जीवन में कैसे सुधार कर सकते हैं
  • निष्पक्ष रूप से अपने शिक्षण-अभ्यास

उत्तर: 2

यह भी पढ़ें

प्रश्न. अधिगम निर्योग्यता …….

  • एक स्थिर अवस्था है।
  • एक चर अवस्था है।
  • जरूरी नहीं है कि कार्य-पद्धति की हानि करे।
  • समुचित निवेश के साथ सुधार योग्य नहीं होती।

उत्तर: 2

प्रश्न. …… के अतिरिक्त निम्नलिखित समस्या समाधान की प्रक्रिया के चरण हैं।

  • समस्या की पहचान
  • समस्या का छोटे हिस्सों में बांटना
  • संभावित युक्तियों को खोजना
  • परिणामों की आशा करना

उत्तर: 2

प्रश्न. एक शिक्षक (का)-

  • शिक्षार्थियों द्वारा की गई त्रुटियों को एक भयंकर भूल के रूप में लेना चाहिए और प्रत्येक त्रुटि के लिए गंभीर टिप्पणी देनी चाहिए।
  • शिक्षार्थी कितनी बार गलती करने से बचता है-इसे सफलता के माप के रूप में लेना चाहिए।
  • जब शिक्षार्थी विचारों को संप्रेषित करने की कोशिश कर रहे हों, तो उन्हें ठीक नहीं करना चाहिए।
  • व्याख्यान पर अधिक ध्यान देना चाहिए और ज्ञान के लिए आधार उपलब्ध कराना चाहिए।

उत्तर: 3

प्रश्न. निम्नलिखित में से कौन-सा सत्य है?

  • विकास और सीखना समाज-सांस्कृतिक संदर्भों से अप्रभावित रहते हैं।
  • शिक्षार्थी एक निश्चित तरीके से सीखते हैं।
  • खेलना संज्ञान और सामाजिक दक्षता के लिए सार्थक है।
  • शिक्षक द्वारा पूछना संज्ञानात्मक विकास में बाधक है।

उत्तर: 3

प्रश्न. बच्चे के विकास में आनुवंशिकता और वातावरण की भूमिका के बारे में निम्नलिखित में से कौन-सा सत्य है?

  • समवयस्कों ओर पित्रक (genes) का सापेक्ष योगदान योगात्मक नहीं होता।
  • आनुवंशिकता और वातावरण एक साथ परिचालित नहीं होते।
  • सहज रुझान वातावरण से संबंधित है, जबकि वास्तविक विकास के लिए आनुवांशिकता जरूरी है।
  • आनुवांशिकता और वातावरण दोनों एक बच्चे के विकास में 50%-50% योगदान देते हैं।

उत्तर: 1

प्रश्न. समाजीकरण है-

  • शिक्षक एवं पढ़ाए गए के बीच संबंध।
  • समाज के आधुनिकीकरण की प्रक्रिया।
  • समाज के मानदंडों के साथ अनुकूलन।
  • सामाजिक मानदंडों में परिवर्तन।

उत्तर: 3

प्रश्न. जब बच्चा ‘फेल’ होता है, तो इसका तात्पर्य है कि-

  • बच्चे ने उत्तरों को सही तरीके से याद नहीं किया है।
  • बच्चे को प्राइवेट ट्यूशन लेनी चाहिए थी।
  • व्यवस्था फेल हुई है।
  • बच्चा पढ़ाई के लिए योग्य नहीं है।

उत्तर: 3

प्रश्न. शिक्षण से अधिगम पर बल देने वाला परिवर्तन हो सकता है-

  • बाल-केंद्रित शिक्षा-पद्धति अपनाकर।
  • रटने को प्रोत्साहित करके।
  • अग्र शिक्षण की तकनीक अपनाकर ।
  • परीक्षा परिणामों पर केंद्रित होकर

उत्तर: 1

प्रश्न. बीजों का अंकुरण संकल्पना के शिक्षण की सबसे प्रभावी पद्धति है-

  • विद्यार्थियों द्वारा पौधे के बीज बोना और उसके अंकुरण के चरणों का अवलोकन करना।
  • श्यामपट्ट पर चित्र बनाना और वर्णन करना।
  • बीज की वृद्धि के चित्र दिखाना ।
  • विस्तृत व्याख्या करना

उत्तर: 1

प्रश्न. एक पी.टी. (खेल) शिक्षक क्रिकेट के खेल में अपने शिक्षार्थियों के क्षेत्ररक्षण को सुधारना चाहता है। निम्न में से कौन-सी युक्ति शिक्षार्थियों को अपने लक्ष्य प्राप्त करने में सर्वाधिक सहायक है?

  • शिक्षार्थियों को यह बताना कि क्षेत्ररक्षण सीखना उनके लिए किस प्रकार महत्वपूर्ण है।
  • बेहतर क्षेत्ररक्षण और सफलता की दर के पीछे के तर्क को स्पष्ट करना।
  • क्षेत्ररक्षण को प्रदर्शित करना और शिक्षार्थी अवलोकन करेंगे।
  • शिक्षार्थियों को क्षेत्ररक्षण का अधिक अभ्यास करवाना।

उत्तर: 4

प्रश्न. एक शिक्षिका अपने शिक्षार्थियों की इस रूप में मदद करना चाहती है कि वे एक स्थिति की अनेक दृष्टिकोणों की सराहना कर सकें। वह विभिन्न समूहों में एक स्थिति पर वाद-विवाद करने के अनेक अवसर उपलब्ध कराती है। वाइगोत्स्की के परिप्रेक्ष्य के अनुसार, उसके शिक्षार्थी विभिन्न दृष्टिकोणों को …..……… करेंगे और अपने तरीके से उस स्थिति के अनेक परिप्रेक्ष्य विकसित करेंगे।

  • संक्रियाकरण
  • आत्मसात
  • निर्माण
  • तर्क संगत

उत्तर: 1

प्रश्न. सीता ने हाथ से दाल और चावल खाना सीख लिया है। जब उसे दाल और चावल दिए जाते हैं, तो वह दाल-चावल मिलाकर खाने लगती है। उसने चीजों को करने के लिए अपने स्कीमा में दाल और चावल खाने को … कर लिया है।

  • समायोजित
  • समुचितता
  • अनुकूलित
  • अंगीकार

उत्तर: 3

प्रश्न. समावेशी शिक्षा-

  • कक्षा में विविधता का उत्सव मनाती है।
  • दाखिले संबंधी कठोर प्रक्रियाओं को बढ़ावा देती है।
  • तथ्यों की शिक्षा (मतारोपण) से संबंधित है।
  • हाशिए पर स्थित वर्गों से शिक्षकों को सम्मिलित करने से संबंधित है।

उत्तर: 1

प्रश्न. निम्नलिखित में से कौन-सा वस्तुनिष्ठ प्रश्न है?

  • लघुत्तरात्मक प्रश्न
  • मुक्त उत्तर वाला प्रश्न
  • सत्य या असत्य
  • निबंधात्मक प्रश्न

उत्तर: 3

प्रश्न. निम्नलिखित में से कौन-सी प्रगतिशील शिक्षा की विशेषता है?

  • केवल प्रस्तावित पाठ्य-पुस्तकों पर आधारित अनुदेश
  • परीक्षाओं में अच्छे अंक प्राप्त करने पर बल
  • बार-बार ली जाने वाली परीक्षाएं
  • समय-सारणी और बैठने की व्यवस्था में लचीलापन

उत्तर: 4

प्रश्न. शिक्षार्थी वैयक्तिक भिन्नता प्रदर्शित करते हैं। अतः शिक्षक को-

  • सीखने के विविध अनुभवों को उपलब्ध कराना चाहिए।
  • कठोर अनुशासन सुनिश्चित करना चाहिए।
  • परीक्षाओं की संख्या बढ़ा देनी चाहिए।
  • अधिगम की एकसमान गति पर बल देना चाहिए।

उत्तर: 1

प्रश्न. निम्नलिखित में से कौन-सा विकास का सिद्धांत है?

  • सभी की विकास दर समान नहीं होती है।
  • विकास हमेशा रेखीय होता है।
  • यह निरंतर चलने वाली प्रक्रिया नहीं है।
  • विकास की सभी प्रक्रियाएं अंत संबंधित नहीं है।

उत्तर: 1

प्रश्न. मानव विकास को क्षेत्रों में विभाजित किया जाता है, जो हैं-

  • शारीरिक, संज्ञानात्मक संवेगात्मक और सामाजिक
  • संवेगात्मक, संज्ञानात्मक, आध्यात्मिक और सामाजिक-मनोवैज्ञानिक
  • मनोवैज्ञानिक. संज्ञानात्मक, संवेगात्मक और शारीरिक
  • शारीरिक, आध्यात्मिक संज्ञानात्मक और सामाजिक

उत्तर: 1

प्रश्न. एक शिक्षक प्रश्न-पत्र बनाने के बाद यह जांच करता है कि क्या प्रश्न परीक्षण के विशिष्ट उद्देश्यों की परीक्षा ले रहे हैं। वह के बारे में चिंतित है। मुख्य रूप से प्रश्न-पत्र की/के …….. बारे में चिंतित है।

  • संपूर्ण विषय-वस्तु को शामिल करने
  • प्रश्नों के प्रकार
  • विश्वसनीयता
  • वैधता

उत्तर: 1

प्रश्न. विवेचनात्मक शिक्षाशास्त्र का यह दृढ़ विश्वास है कि

  • शिक्षार्थियों को स्वतंत्र रूप से तर्कना नहीं करनी चाहिए।
  • बच्चे स्कूल से बाहर क्या सीखते हैं, यह अप्रासंगिक है।
  • शिक्षार्थियों के अनुभव और प्रत्यक्षण महत्वपूर्ण होते हैं।
  • एक शिक्षक को हमेशा कक्षा-कक्ष के अनुदेशन का नेतृत्व करना चाहिए।

उत्तर: 3

प्रश्न. विद्यालय आधारित आकलन मुख्य रूप से किस सिद्धांत पर आधारित होता है?

  • बाह्य परीक्षकों की अपेक्षा शिक्षक अपने शिक्षार्थियों की ‘क्षमताओं को बेहतर जानते हैं।
  • किसी भी कीमत पर विद्यार्थियों को अच्छे ग्रेड मिलने चाहिए।
  • विद्यालय, बाह्य परीक्षा निकायों की अपेक्षा ज्यादा सक्षम है।
  • आकलन’ बहुत किफायती (मितव्ययी) होना चाहिए।

उत्तर: 1

प्रश्न. एक शिक्षिका पाठ्य वस्तु और फल-सब्जियों के कुछ चित्रों का प्रयोग करती है और अपने विद्यार्थियों से चर्चा करती है। विद्यार्थी इस जानकारी को अपने पूर्व ज्ञान से जोड़ते हैं और पोषण की संकल्पना को सीखते हैं। यह उपागम …….. पर आधारित है।

  • अधिगम के शास्त्रीय अनुबंधन
  • पुनर्बलन के सिद्धांत
  • अधिगम के सक्रिय अनुबंधन
  • ज्ञान के निर्माण

उत्तर: 4

प्रश्न. जब बच्चे की दादी उसे उसकी मां की गोद से लेती है, तो बच्चा रोने लगता है। बच्चा ……. के कारण रोता है।

  • सामाजिक दुश्चिता
  • संवेगात्मक दुश्चिता
  • अजनबी दुर्रियता
  • वियोग दुश्चिता

उत्तर: 2

प्रश्न. शिक्षा के संदर्भ में, समाजीकरण से तात्पर्य है-

  • अपने सामाजिक मानदंड बनाना।
  • समाज में बड़ों का सम्मान करना।
  • सामाजिक वातावरण में अनुकूलन और समायोजन।
  • सामाजिक मानदंडों का सदैव अनुपालन करना।

उत्तर: 3

प्रश्न. एक शिक्षिका अपने आपसे कभी भी प्रश्नों के उत्तर नहीं देती। वह अपने विद्यार्थियों को उत्तर देने के लिए, समूह चर्चाएं और सहयोगात्मक अधिगम अपनाने के लिए प्रोत्साहित करती है। यह उपागम ……… के सिद्धांत पर आधारित है।

  • अनुदेशात्मक सामग्री के उचित संगठन
  • अच्छा उदाहरण प्रस्तुत करना और भूमिका प्रतिरूप बनना
  • सीखने की तत्परता
  • सक्रिय भागीदारिता

उत्तर: 4

प्रश्न. निम्नलिखित में से कौन-सा शिक्षक से संबंधित अधिगम को प्रभावित करने वाला कारक है?

  • बैठने की उचित व्यवस्था
  • शिक्षण-अधिगम संसाधनों की उपलब्धता
  • विषय-वस्तु या अधिगम अनुभवों की प्रकृति
  • विषय-वस्तु में प्रवीणता

उत्तर: 4

प्रश्न. कोल्हबर्ग के अनुसार, शिक्षक बच्चों में नैतिक मूल्यों का विकास कर सकता है-

  • धार्मिक शिक्षा का महत्व देकर।
  • व्यवहार के स्पष्ट नियम बनाकर।
  • नैतिक मुद्दों पर आधारित चर्चाओं में उन्हें शामिल करके।
  • ‘कैसे वयवहार किया जाना चाहिए। इस पर कठोर निर्देश देकर।

उत्तर: 3

प्रश्न. राज्य स्तर की एक एकल गायन प्रतियोगिता के लिए विद्यार्थियों को तैयार करते समय एक विद्यालय लड़कियों को वरीयता देता है। यह दर्शाता है-

  • वैश्विक प्रवृत्तियां
  • प्रयोजनात्मक उपागम
  • प्रगतिशील चिंतन
  • लैंगिक पूर्वाग्रह

उत्तर: 4

प्रश्न. वाइगोत्स्की बच्चों के सीखने में निम्नलिखित में से किस कारक की महत्वपूर्ण भूमिका पर बल देते हैं।

  • आनुवांशिक
  • शारीरिक
  • नैतिक
  • सामाजिक

उत्तर: 4

प्रश्न. एक शिक्षिका अपने शिक्षार्थियों की विभिन्न अधिगम शैलियों को संतुष्ट करने के लिए वैविध्यपूर्ण कार्यों का उपयोग करती है। वह ……… से प्रभावित है।

  • कोह्लबर्ग के नैतिक विकास के सिद्धांत
  • गार्डनर के बहुबुद्धि सिद्धांत
  • वाइगोत्स्की के सामाजिक-सांस्कृतिक सिद्धांत
  • पियाजे के संज्ञानात्मक विकास के सिद्धांत

उत्तर: 2

प्रश्न. छोटे शिक्षार्थियों को कक्षा-कक्ष में समवयस्कों के साथ अंतःक्रिया करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए, जिससे-

  • वे एक-दूसरे से प्रश्नों के उत्तर सीख सकें।
  • पाठ्यक्रम को बहुत जल्दी पूरा किया जा सके।
  • वे पढ़ने के दौरान सामाजिक कौशल सीख सकें।
  • शिक्षक कक्षा-कक्ष को बेहतर तरीके से नियंत्रित कर सके।

उत्तर: 3

प्रश्न. आंशिक पुनर्बलन-

  • सतत पुनर्बलन की अपेक्षा अधिक प्रभावी होता है।
  • सतत पुनर्बलन की अपेक्षा कम प्रभावी होता है।
  • वास्तविक कक्षा-कक्ष में अनुप्रयुक्त नहीं किया जा सकता है।
  • पशुओं को प्रशिक्षित करने में सर्वाधिक कार्य करता है।

उत्तर: 1

प्रश्न. शारीरिक रूप से अक्षम बच्चों को सामान्यतः ……. होता है।

  • डिस्ग्राफिया
  • डिस्थीमिया
  • डिस्केल्कुलिया
  • डिस्लेक्सिया

उत्तर: 1

प्रश्न. किशोर ……… का अनुभव कर सकते हैं।

  • जीवन के बारे में परितृप्पित के भाव
  • दुश्चिता और स्वयं से सरोकार
  • बचपन में किए गए अपराधों के प्रति डर के भाव
  • आत्मसिद्धि के भाव

उत्तर: 2

प्रश्न. जब एक निर्योग्य बच्चा पहली बार विद्यालय आता है, तो शिक्षक को क्या करना चाहिए?

  • बच्चे की निर्योग्यता के अनुसार, उसे विशेष विद्यालय में भेजने का प्रस्ताव देना चाहिए।
  • उसे अन्य विद्यार्थियों से अलग रखना चाहिए।
  • सहकारी योजना विकसित करने के लिए बच्चे के माता-पिता के साथ चर्चा करनी चाहिए।
  • प्रवेश परीक्षा लेनी चाहिए।

उत्तर: 3

प्रश्न. पियाजे के संज्ञानात्मक विकास के चरणों के अनुसार, इंद्रिय-गामक (संवेदी-प्रेरक) अवस्था किसके साथ संबंधित है?

  • अनुकरण, स्मृति और मानसिक निरूपण
  • तार्किक रूप से समस्या समाधान की योग्यता
  • विकल्पों के निर्वचन और विश्लेषण करने की योग्यता
  • सामाजिक मुद्दों से सरोकार

उत्तर: 1

प्रश्न. निम्नलिखित में से कौन-सा सीखने का क्षेत्र है?

  • भावात्मक
  • व्यावसायिक
  • आनुभविक
  • आध्यात्मिक

उत्तर: 1

प्रश्न. जब बच्चा कार्य करते हुए ऊबने लगता है, तो यह इस बात का संकेत है कि-

  • संभवतः कार्य यांत्रिक रूप से बार-बार हो रहा है।
  • बच्चा बुद्धिमान नहीं है।
  • बच्चे में सीखने की योग्यता नहीं है।
  • बच्चे को अनुशासित करने की जरूरत है।

उत्तर: 1

प्रश्न. प्रायः शिक्षार्थियों की त्रुटियां ………. की ओर संकेत करती है।

  • वे कैसे सीखते हैं
  • यांत्रिक अभ्यास की आवश्यकता
  • सीखने की अनुपस्थिति
  • शिक्षार्थियों के सामाजिक आर्थिक स्तर

उत्तर: 2

प्रश्न. मानव-व्यक्तित्व परिणाम है-

  • पालन-पोषण और शिक्षा का।
  • आनुवंशिकता और वातावरण की अंतःक्रिया का
  • केवल वातावरण का
  • केवल आनुवंशिकता का

उत्तर: 2

प्रश्न. शिक्षण-अधिगम प्रक्रिया में व्यक्तिगत रूप से ध्यान देना महत्वपूर्ण है, क्योंकि-

  • शिक्षार्थी हमेशा समूहों में ही बेहतर सीखते हैं।
  • शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रमों में ऐसा ही बताया गया है।
  • इससे प्रत्येक शिक्षार्थी को अनुशासित करने के लिए शिक्षकों को बेहतर अवसर मिलते हैं।
  • बच्चों की विकास दर भिन्न होती है और वे भिन्न तरीकों से सीख सकते हैं।

उत्तर: 4

प्रश्न. निम्नलिखित में से कौन-सी समस्या समाधान की वैज्ञानिक पद्धति का पहला चरण है?

  • प्राक्कल्पना का परीक्षण करना
  • समस्या के प्रति जागरूकता
  • प्रसंगिक जानकारी को एकत्र करना
  • प्राक्कल्पना का निर्माण करना

उत्तर: 2

प्रश्न. सीखने-संबंधी निर्योग्यताएं सामान्यतः

  • उन बच्चों में पाई जाती हैं विशेषतः जिनके पैत्रिक अभिभावक इस प्रकार की समस्याओं से ग्रसित होते हैं।
  • औसत से श्रेष्ठ बुद्धि-लब्धि वाले बच्चों में पाई जाती हैं।
  • लड़कियों की तुलना में अधिकतर लड़कों में पाई जाती हैं।
  • अधिकतर उन बच्चों में पाई जाती हैं जो शहरी क्षेत्रों की अपेक्षा ग्रामीण क्षेत्रों से संबंध रखते हैं।

उत्तर: 1

प्रश्न. एक बच्चा जो ……. से ग्रस्त है, वह ‘saw’ और ‘was’ ‘nuclear’ और ‘unclear’ में अंतर नहीं कर सकता।

  • डिस्मोरफीमिया
  • शब्द ‘जम्बलिंग विकार
  • डिस्लेक्सिमिया
  • डिस्लेक्सिया

उत्तर: 4

प्रश्न. प्रतिभाशाली विद्यार्थी-

  • अपने निर्णयों में आत्मनिर्भर होते हैं।
  • शिक्षकों से स्वतंत्र होते हैं।
  • स्वभाव में अंतुर्मुखी होते हैं।
  • अपनी आवश्यकताओं को दृढ़तापूर्वक नहीं कह पाते।

उत्तर: ?

इस प्रश्न का सही उत्तर क्या होगा? हमें अपना जवाब कमेंट सेक्शन में जरूर दें।

कमेन्ट करें