Haryana HTET 2022 Child Development And Pedagogy Practice Set 06 | आगामी परीक्षा में पूछे जाने योग्य 50 महत्वपूर्ण प्रश्न, अवश्य पढ़ें

Haryana HTET 2022 Child Development And Pedagogy Practice Set 06 : हरियाणा में शिक्षक बनने की तैयारी करने वाले उम्मीदवारों के लिए बोर्ड ऑफ एजुकेशन, हरियाणा भिवानी द्वारा आयोजित कराई जाने वाली शिक्षक पात्रता परीक्षा (TET) का आयोजन नवंबर माह के 12 तथा 13 तारीख को होना तय हुआ था। लेकिन इस परीक्षा को आयोग द्वारा टाल दिया गया। अब इस परीक्षा का आयोजन 3 तथा 4 दिसम्बर 2022 को किया जाएगा। परीक्षा होने में बहुत कम दिन बचे हुए हैं , उम्मीदवारों को अपनी तैयारी को और तेज कर देना चाहिए। एवं आयोग द्वारा जल्द ही इस परीक्षा का एडमिट कार्ड भी जारी कर दिया जाएगा।

ऐसे में आज हम इस लेख के माध्यम से बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र के 50 महत्वपूर्ण प्रश्नों को लेकर आये हैं जो की परीक्षा दृष्टि से बेहद उपयोगी है। तो परीक्षा में शामिल होने से पूर्व Haryana HTET 2022 Child Development And Pedagogy Practice Set 06 को एक बार अवश्य पढ़ें।

Haryana HTET 2022 Child Development And Pedagogy Practice Set 06
Haryana HTET 2022 Child Development And Pedagogy Practice Set 06

Haryana HTET 2022 Child Development And Pedagogy Practice Set 06

प्रश्न. समावेशी शिक्षा मानती है कि हमें ………. को ………. के अनुरूप बदलना है।

  • बच्चे /व्यवस्था
  • व्यवस्था/बच्चे
  • परिवेश/परिवार
  • बच्चे/परिवेश

उत्तर: 2

प्रश्न. बच्चों में ज्ञान की रचना करने और अर्थ का निर्माण करने की क्षमता होती है। इस परिप्रेक्ष्य में एक शिक्षक की भूमिका है-

  • ताल-मेल बैठाने वाले की
  • संप्रेषक और व्याख्याता की
  • सुगमकर्ता की
  • निर्देशक की

उत्तर: 3

प्रश्न. इनमें से कौन-सी विशेषता प्रतिभाशाली बच्चों की नहीं है?

  • उच्चतर श्रेणी की मानसिक प्रक्रियाएं।
  • उच्च आत्म क्षमता
  • निम्न औसतीय मानसिक प्रक्रियाएं।
  • अंतर्दृष्टिपूर्वक समस्याओं का समाधान करना।

उत्तर: 3

प्रश्न. बाल केंद्रित शिक्षा में शामिल है-

  • बच्चों के लिए हस्तपरक गतिविधियां ।
  • बच्चों का एक कोने में बैठना।
  • प्रतिबंधित परिवेश में अधिगम ।
  • वे गतिविधियां जिनमें खेल शामिल नहीं होते।

उत्तर: 1

प्रश्न. कक्षा अध्यापक ने राघव को अपनी कक्षा में अपने की-बोर्ड पर स्वयं द्वारा तैयार किया गया मधुर संगीत बजाते हुए देखा। कक्षा अध्यापक ने विचार किया कि राघव में ….…. बुद्धि उच्चस्तरीय थी।

  • स्थानिक
  • संगीतमय
  • शारीरिक गतिबोधक
  • भाषायी

उत्तर: 2

प्रश्न. जब एक शिक्षक यह समझता है कि स्वाभाविक रूप से लड़के गणित में लड़कियों से अच्छे हैं, यह दर्शाता है कि अध्यापक है-

  • नीतिपरक
  • शिक्षाप्रद
  • लिंग (जेंडर) पक्षपाती
  • सही दृष्टिकोण वाला

उत्तर: 2

प्रश्न. कोल्हबर्ग के सिद्धांत के पूर्व-परंपरागत स्तर के अनुसार, कोई नैतिक निर्णय लेते समय एक व्यक्ति निम्नलिखित में से किस तरफ प्रवृत्त होगा?

  • अंतर्निहित संभावित दंड
  • व्यक्तिगत आवश्यकताएं तथा इच्छाएं
  • व्यक्तिगत मूल्य
  • पारिवारिक अपेक्षाएं

उत्तर: 1

प्रश्न. शिक्षार्थियों (अधिगमकर्ता) की वैयक्तिक विभिन्नताओं के संदर्भ में शिक्षिका को चाहिए-

  • विविध प्रकार की अधिगम परिस्थितियों को उपलब्ध कराना।
  • निगमनात्मक पद्धति के आधार पर समस्याओं का समाधान करना।
  • कलनविधि (एल्गोरिथम) का अधिकतर प्रयोग करना
  • याद करने के लिए शिक्षार्थियों को तथ्य उपलब्ध कराना।

उत्तर: 1

प्रश्न. निम्नलिखित में से कौन-सा बाल-विकास का एक सिद्धांत नहीं है?

  • सभी विकास एक क्रम का पालन करते हैं।
  • विकास के सभी क्षेत्र महत्वपूर्ण हैं।
  • सभी विकास परिपक्वन तथा अनुभव की अंतःक्रिया का परिणाम होते हैं।
  • सभी विकास तथा अधिगम एक समान गति से आगे बढ़ते हैं।

उत्तर: 4

यह भी पढ़ें

प्रश्न. बच्चे-

  • जिज्ञासु प्राणी होते हैं, जो अपने चारों ओर के जगत को खोजने के लिए अपने ही तर्कों और क्षमताओं का उपयोग करते हैं।
  • चिंतन में वयस्कों की भांति ही होते हैं और ज्यों-ज्यों वे बड़े होते हैं, उनके चिंतन में गुणात्मक वृद्धि होती है।
  • रीते बरतन के समान होते हैं जिसमें बड़ों के द्वारा दिया गया ज्ञान भरा जाता है।
  • निष्क्रिय जीव होते हैं, जो प्रदत्त सूचना को ज्यों-की-त्यों प्रतिलिपि के रूप में प्रस्तुत कर देते हैं।

उत्तर: 1

प्रश्न. बच्चों की त्रुटियों के बारे में निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सत्य है?

  • असावधानी के कारण बच्चे त्रुटियां करते हैं।
  • बच्चों की त्रुटियां उनके सीखने की प्रक्रिया का अंग है।
  • बच्चे तब त्रुटियां करते हैं, जब शिक्षक सौम्य हो और उन्हें त्रुटियां करने पर दंड न देता हो।
  • बच्चों की त्रुटियां शिक्षक के लिए महत्वहीन हैं और उसे चाहिए कि उन्हें काट दें और उन पर अधिक ध्यान दें।

उत्तर: 2

प्रश्न. अध्यापक को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उसकी कक्षा के सभी शिक्षार्थी अपने आपको स्वीकृत और सम्मानित समझें। इसके लिए शिक्षक को चाहिए कि वह-

  • कड़े नियम बनाए और जो बच्चे उनका पालन न करें उन्हें.दंड दे।
  • वंचित पृष्ठभूमि से आने वाले बच्चों का तिरस्कार करे ताकि वे अनुभव करें कि उन्हें अधिक कठोर परिश्रम करना है।
  • उन शिक्षार्थियों का पता लगाए जो अच्छी अंग्रेजी बोल सकते हों और संपन्न घरों से हों तथा उन्हें आदर्श के रूप में प्रस्तुत करें।
  • अपने शिक्षार्थियों की सामाजिक और सांस्कृतिक पृष्ठभूमि की जानकारी प्राप्त करें और कक्षा में विविध मतों को प्रोत्साहित करें।

उत्तर: 4

प्रश्न. निम्नलिखित में से कौन-सा आकलन करने का सर्वाधिक उपयुक्त तरीका है?

  • आकलन सत्र की समाप्ति पर करना चाहिए।
  • आकलन शिक्षण-अधिगम से अंतर्निहित प्रक्रिया है।
  • आकलन एक शैक्षिणक सत्र में दो बार करना चाहिए-शुरू में और अंत में।
  • आकलन शिक्षक के द्वारा नहीं बल्कि किसी बाह्य एजेंसी के द्वारा कराना चाहिए।

उत्तर: 2

प्रश्न. निम्नलिखित में से कौन-सा सृजनात्मकता से संबंधित है?

  • अपसारी चिंतन
  • अभिसारी चिंतन
  • सांवेगिक चिंतन
  • अहंवादी चिंतन

उत्तर: 1

प्रश्न. बच्चों के बारे में निम्नलिखित कथनों में किस कथन से वाइगोत्स्की सहमत होते?

  • बच्चे समवयस्कों और वयस्कों के साथ सामाजिक अंतःक्रियाओं के माध्यम से सीखते हैं।
  • बच्चे तब सीखते हैं जब उनके लिए आकर्षक पुरस्कार निर्धारित किए जाएं।
  • बच्चों के चिंतन को तब समझा जा सकता है, जब प्रयोगशाला में पशुओं पर प्रयोग किए जाएं।
  • बच्चे जन्म से शैतान होते हैं और उन्हें दंड देकर नियंत्रित किया जाना चाहिए।

उत्तर: 1

प्रश्न. सुरेश सामान्य रूप से एक शांत कमरे में अकेले पढ़ना चाहता है, जबकि मदन एक समूह में अपने मित्रों के साथ पढ़ना चाहता है। यह उनके …… में विभिन्नता के कारण है।

  • मूल्यों
  • अभिक्षमता
  • परावर्तकता-स्तर
  • अधिगम शैली

उत्तर: 4

प्रश्न. भारत में भाषिक विभिन्नता बहुत है। इस संदर्भ में विशेषकर कक्षा l और ll के प्राथमिक स्तर पर बहुभाविक कक्षाओं के बारे में सर्वथा उपयुक्त कथन हैं-

  • शिक्षार्थियों को अपनी मातृभाषा या स्थानीय भाषा का प्रयोग करने पर दंडित किया जाए।
  • विद्यालय में उन्हीं बच्चों को प्रवेश दिया जाए जिनकी मातृभाषा वही हो, जो शिक्षा के लिए अपनाई जा रही हो।
  • शिक्षक को सभी भाषाओं का सम्मान करना चाहिए और सभी भाषाओं में अभिव्यक्ति के लिए बच्चों को करना चाहिए।
  • जो बच्चे कक्षा में मातृभाषा का उपयोग करते हैं अध्यापक को उनकी उपेक्षा करनी चाहिए।

उत्तर: 3

प्रश्न. ‘प्रकृति-पोषण’ विवाद में ‘प्रकृति’ से क्या अभिप्राय है?

  • हमारे आस-पास का वातावरण
  • जैविकीय विशिष्टताएँ या वंशानुक्रम सूचनाएं
  • एक व्यक्ति की मूल वृत्ति
  • भौतिक और सामाजिक संसार की जटिल शक्तियां

उत्तर: 2

प्रश्न. निम्नलिखित में से कौन-सा समाजीकरण का एक प्रमुख कारक है?

  • परिवार
  • कम्प्यूटर
  • आनुवांशिकता
  • राजनीतिक दल

उत्तर: 1

प्रश्न. बच्चों को समूह कार्य देना एक प्रभावी शिक्षण-रणनीति है, क्योंकि.

  • इससे शिक्षक का काम कम हो जाता है।
  • छोटे समूह में कुछ बच्चों को दूसरे बच्चों पर हावी होने की अनुमति होती है।
  • सीखने की प्रक्रिया में बच्चे एक-दूसरे से सीखते हैं और परस्पर सहायता भी करते हैं।
  • बच्चे अपना काम जल्दी करने में समर्थ होते हैं।

उत्तर: 3

प्रश्न. एक औसत बुद्धि वाला बच्चा यदि भाषा को पढ़ने एवं समझने में कठिनाई प्रदर्शित करता है, तो यह संकेत देता है कि बच्चों ……….. को लक्षण प्रदर्शित कर रहा है।

  • पठन – अक्षमता (डिस्लेक्सिया)
  • लेखन-अक्षमता (डिस्ग्राफिया)
  • गणितीय-अक्षमता (डिस्केल्कुलिया)
  • गतिसमन्वय – अक्षमता (डिस्प्रैक्सिया)

उत्तर: 1

प्रश्न. जन-संचार माध्यम समाजीकरण का एक महत्वपूर्ण माध्यम बनता जा रहा है नीचे दिए गए कथनों में कौन-सा सबसे उपयुक्त कथन है?

  • संचार माध्यम पदार्थों के विज्ञापन और विक्रय के लिए एक अच्छा माध्यम है।
  • समाजीकरण केवल माता-पिता और परिवार के द्वारा किया जाता है।
  • जन-संचार माध्यमों की पहुंच बढ़ रही है जन-संचार माध्यम अभिवृत्तियों, मूल्यों और विश्वासों को प्रभावित करता है।
  • बच्चे संचार माध्यमों के साथ प्रत्यक्ष रूप से अंतः क्रिया नहीं कर सकते हैं।

उत्तर: 3

प्रश्न. बच्चे किस प्रकार से सीखते हैं? नीचे दिए गए कथनों में से कौन-सा इस प्रश्न के विषय में सही नहीं है?

  • बच्चे केवल कक्षा में सीखते हैं।
  • बच्चे तब सीखते हैं, जब वे संज्ञानात्मक रूप से तैयार होते हैं।
  • बच्चे अनेकों प्रकार से सीखते हैं।
  • बच्चे सीखते हैं क्योंकि वे स्वाभाविक रूप से प्रेरित होते हैं।

उत्तर: 1

प्रश्न. प्राथमिक विद्यालय शिक्षक को अपने शिक्षार्थियों को अभिप्रेरित करने के लिए निम्नलिखित में से किस रणनीति को अपनाना चाहिए?

  • प्रत्येक शिक्षार्थी में अंक लाने के लिए स्पर्धा को प्रोत्साहित करना
  • प्रत्येक गतिविधि के प्रेरक के रूप में प्रोत्साहन, पुरस्कार और दंड का उपयोग करना।
  • बच्चों को उनकी रुचियों के अनुसार, अपने लक्ष्य निर्धारित करने और उन्हें पाने के उद्यम में सहायता करना
  • पूरी कक्षा के लिए मानक लक्ष्य निर्धारित करना और उनकी उपलब्धि के आकलन के लिए कठोर मानदंड निर्धारित करना।

उत्तर: 3

प्रश्न. के. मा. शि. बो (CBSE ) द्वारा अपनाए गए प्रगतिशील शिक्षा के प्रतिमान में बच्चों का समाजीकरण जिस प्रकार से किया जाता है, उससे अपेक्षा की जा सकती है कि

  • वे समय नष्ट करने वाली सामाजिक आदतों / प्रकृति का त्याग करें तथा सीखें कि किस प्रकार अच्छी श्रेणियां पाई सकती हैं (score good grades)।
  • वे सामूहिक कार्य में सक्रिय भागीदारिता का निर्वाह करें तथा सामाजिक कौशल सीखें।
  • वे बिना प्रश्न उठाए समाज के नियमों-विनियमों का अनुपालन करने के लिए तैयार हो सकें।
  • किसी भी प्रकार की सामाजिक पृष्ठभूमि होते हुए भी वे वह सब स्वीकार करें, जो उन्हें विद्यालय द्वारा प्रदान किया जाता है।

उत्तर: 2

प्रश्न. निम्नलिखित में से कौन-सा वाइगोत्स्की के सामाजिक – सांस्कृतिक सिद्धांत पर आधारित है?

  • सक्रिय अनुकूलन
  • पारस्परिक शिक्षण
  • संस्कृति-निरपेक्ष संज्ञानात्मक विकास
  • अंतर्दृष्टिपूर्ण अधिगम

उत्तर: 2

प्रश्न. एक शिक्षिका अपनी कक्षा से कहती है, “सभी प्रकार के प्रदत्त कार्यों (assignments) का निर्माण इस प्रकार किया गया है कि प्रत्येक विद्यार्थी अधिक प्रभावशाली ढंग से सीख सकें, अतः सभी विद्यार्थी बिना किसी अन्य की सहायता से अपना कार्य पूर्ण करें।” वह कोहबर्ग के किस नैतिक विकास के चरण की ओर संकेत दे रही है?

  • औपचारिक चरण 4-कानून और व्यवस्था
  • पर-औपचारिक चरण 5-सामाजिक संविदा
  • पूर्व-औपचारिक चरण 1-दंड परिवर्जन
  • पूर्व-औपचारिक चरण 2 वैयक्तिकता और विनिमय

उत्तर: 1

प्रश्न. निम्नलिखित में से कौन-सा आलोचनात्मक दृष्टिकोण ‘बहुबुद्धि सिद्धांत’ (Theory of Multiple Intelligences) से संबद्ध नहीं है?

  • यह शोधाधारित नहीं है।
  • विभिन्न बुद्धियां भिन्न-भिन्न विद्यार्थियों के लिए विभिन्न पद्धतियों की मांग करती हैं।
  • प्रतिभाशाली विद्यार्थी प्राय: एक क्षेत्र में ही अपनी विशिष्टता प्रदर्शित करते हैं।
  • इसका कोई अनुभवात्मक आधार नहीं है।

उत्तर: 3

प्रश्न. ‘बहुबुद्धि सिद्धांत’ को वैध नहीं माना जा सकता, क्योंकि-

  • विशिष्ट परीक्षणों के अभाव में भिन्न बुद्धियों (different intelligences) का मापन संभव नहीं है।
  • यह सभी सात बुद्धियों को समान महत्व नहीं देता है।
  • यह केवल अब्राहम मैस्लोने के जीवन-भर के सुदृढ़ अनुभवात्मक अध्ययन पर आधारित है।
  • यह सर्वाधिक महत्वपूर्ण सामान्य बुद्धि ‘g’ के अनुकूल (सुसंगत) नहीं है।

उत्तर: 1

प्रश्न. कक्षा में विद्यार्थियों के वैयक्तिक विभेद-

  • लाभकारी नहीं हैं, क्योंकि अध्यापकों को वैविध्यपूर्ण कक्षा को नियंत्रित करने की आवश्यकता है।
  • हानिकारक हैं, क्योंकि इनसे विद्यार्थियों में परस्पर द्वंद्व उत्पन्न होते हैं।
  • अनुपयुक्त हैं, क्योंकि ये सर्वाधिक मंद विद्यार्थी के स्तर तक पाठ्यचर्या के स्थानांतरण की गति को कम करते हैं।
  • लाभकारी हैं, क्योंकि ये विद्यार्थियों की संज्ञानात्मक संरचनाओं को खोजने में अध्यापकों को प्रवृत्त करते हैं।

उत्तर: 4

प्रश्न. 14 वर्षीय देविका अपने आप में पृथक, स्वनियंत्रित व्यक्ति की भावना को विकसित करने का प्रयास कर रही है। वह विकसित कर रही है

  • नियमों के प्रति घृणा
  • स्वायत्तता
  • किशोरावस्थात्मक अक्खड़पन
  • परिपक्वता

उत्तर: 2

प्रश्न. प्रगतिशील शिक्षा के संदर्भ में निम्नलिखित में से कौन-सा जॉन डीवी के अनुसार समुचित है?

  • कक्षा में प्रजातंत्र का कोई स्थान नहीं होना चाहिए।
  • विद्यार्थियों को स्वयं ही सामाजिक समस्याओं को सुलझाने में सक्षम होना चाहिए।
  • जिज्ञासा विद्यार्थियों के स्वभाव में अंतर्निहित नहीं है अपितु इसका कर्षण-संवर्धन करना चाहिए।
  • कक्षा में विद्यार्थियों का निरीक्षण करना चाहिए न कि सुनना चाहिए।

उत्तर: 2

प्रश्न. भाषा अवबोधन से संबद्ध विकार है-

  • वाक्-संबद्ध रोग (aspeechxia)
  • भाषाघात (aphasia)
  • चलाघात (apraxia)
  • पठन-वैकल्प (dyslexial)

उत्तर: 2

प्रश्न. विद्यालय-आधारित आकलन प्रारंभ किया गया था ताकि-

  • राष्ट्र की विद्यालयी शिक्षा संगठनों (Boards) की शक्ति की विकेंद्रीकरण किया जा सकें।
  • सभी विद्यार्थियों के संपूर्ण विकास को निश्चित किया जा सकें।
  • विद्यार्थियों की उन्नति की बेहतर व्याख्या के लिए उनकी सभी गतिविधियों के नियमित अभिलेखन हेतु अध्यापकों को अभिप्रेरित किया जा सके।
  • विद्यालय अपने क्षेत्रों में विद्यमान अन्य विभिन्न विद्यालयों की तुलना में प्रतियोगिता द्वारा अपनी विशिष्ट का प्रदर्शन करने हेतु अभिप्रेरित हो सकें।

उत्तर: 2

प्रश्न. निम्नलिखित में से कौन-सा एक अन्य विकल्पों से संबद्ध नहीं है।

  • प्रश्नोत्तर सत्रों को संगठित करना ।
  • किसी विषय पर विद्यार्थियों की प्रतिक्रिया को लेना।
  • प्रश्नोत्तरी (Quiz) परिचालित करना।
  • स्व-आकलन के कौशल को प्रतिमानित करना।

उत्तर: 4

प्रश्न. निम्नलिखित में से कौन-सा प्रश्न अपने विशिष्ट क्षेत्र से ठीक तरह से मिला हुआ है?

  • क्या आप अपने विद्यार्थियों को उनकी मूल्यांकन गणित की उपलब्धि के आधार पर वर्गीकृत कर सकते हैं ?
  • पिछली रात दूरदर्शन पर दिखाए गए : सृजनशील क्रिकेट मैच में निर्णायक क्षण (turning point) कौन-सा था ?
  • जड़ी-बूटियों के प्रयोग द्वारा चिकेन : अनुप्रयोग पकाने हेतु कोई नई पाकविधि लिखिए।
  • निर्धारित कीजिए कि दिए गए मापकों विश्लेषण में से कौन -सा मापक आपको उत्तम परिणामों को पाने में सर्वाधिक प्रवृत्त कर सकता है।

उत्तर: 4

प्रश्न. निम्नलिखित में से प्रतिभाशाली अधिगमकर्ताओं के लिए क्या समुचित है?

  • वे अन्यों को भी कुशल-प्रभावी बनाते हैं तथा सहयोगी अधिगम के लिए आवश्यक हैं।
  • वे सदैव अन्यों का नेतृत्व करते हैं और कक्षा में अतिरिक्.उत्तरदायित्व ग्रहण करते हैं।
  • अपनी उच्चस्तरीय संवदेनात्मकता के कारण वे भी निम्न श्रेणी पा सकते हैं।
  • बुनियादी तौर पर उनकी मस्तिष्कीय शक्ति के कारण ही उनका महत्व है।

उत्तर: 3

प्रश्न. विद्यालयों में समावेशन मुख्यतः केंद्रित होता है-

  • विशिष्ट श्रेणी वाले बच्चों के लिए सूक्ष्मातिसूक्ष्म प्रावधानों के निर्माण पर ।
  • केवल निर्योग्य छात्रों की आवश्यकताओं को पूर्ण करने पर।
  • संपूर्ण कक्षा की कीमत पर निर्योग्य बच्चों की आवश्यकताओं को पूरा करने पर।
  • विद्यालयों में निरक्षर अभिभावकों की शैक्षिक आवश्यकताओं पर ।

उत्तर: 1

प्रश्न. बच्चों में सीखी गई निसहायता का कारण है-

  • इस व्यवहार को अर्जित कर लेना कि वे सफल नहीं हो सकते।
  • कक्षा गतिविधियों के प्रति कठोर निर्णय ।
  • अपने अभिभावकों की अपेक्षाओं के साथ तालमेल न बना पाना।
  • अध्ययन को गंभीरतापूर्वक न लेने हेतु नैतिक निर्णय ।

उत्तर: 1

प्रश्न. निम्नलिखित में से कौन-सी सर्वाधिक प्रभावकारी विधि हो सकती है, जो आपकी इस अपेक्षा को पूरी कर सके कि वंचित विद्यार्थी अपनी भागीदारिता द्वारा सफल हो सकें?

  • आप उनकी सफलता हेतु उनकी क्षमता में विश्वास को अभिव्यक्त करें।
  • पढ़ाए जाने वाले विषय में आप अपनी रुचि विकसित कर सकें।
  • अपने लक्ष्य को महसूस करने के लिए बच्चों की अन्य बच्चों से प्रायः तुलना करते रहना।
  • इस बात पर बल देना कि आपकी उनसे उच्च अपेक्षाएं हैं।

उत्तर: 1

प्रश्न. निम्नलिखित में से कौन-सा विकासात्मक विकार का उदाहरण नहीं है?

  • आत्मविमोह (Autism)
  • प्रमस्तिष्क घात (Cerebral Palsy)
  • पर-अभिघातज तनाव (Post-traumatic Stress)
  • न्यून अवधान सक्रिय विकार

उत्तर: 3

प्रश्न. बहुशिक्षण शास्त्रीय तकनीकें, वर्गीकृत अधिगम सामग्री, बहु-आकलन तकनीकें तथा परिवर्तनीय जटिलता एवं सामग्री का स्वरूप निम्नलिखित में से किससे संबद्ध हैं?

  • सार्वभौमिक अधिगम प्रारूप
  • उपचारात्मक शिक्षण
  • विभेदित अनुदेशन
  • पारस्परिक शिक्षण

उत्तर: 3

प्रश्न. यदि एक विद्यार्थी विद्यालय में लगातार निम्नतर श्रेणी प्राप्त करता है, तो उसके अभिभावक को उसकी सहायता हेतु परामर्श दिया जा सकता है कि-

  • वह अध्यापकों की घनिष्ठ संगति में कार्य करे।
  • मोबाइल फोन, चलचित्र, कॉमिक्स, खेल हेतु अतिरिक्त कॉल पर रोक लगाएं।
  • जो भली-भांति शिक्षा नहीं ले पाए उनकी जीवन-संबंधी कठिनाइयों का वर्णन करें।
  • घर पर उसको परिश्रमपूर्वक कार्य करने पर बल दें।

उत्तर: 1

प्रश्न. एक शिक्षिका पाठ को पूर्वपठित पाठ से जोड़ते हुए बच्चों को सारांश लिखना सिखा रही है। वह क्या कर रही है?

  • वह बच्चों की पाठ समझने की स्वशैली विकसित करने में सहायता कर रही है।
  • वह बच्चों को संपूर्ण पाठ्यपुस्तक को पूर्णरूप से न पढ़ने की आवश्यकता का संकेत दे दे रही है।
  • वह आकलन के दृष्टिकोण से पाठ्यवस्तु के महत्व को पुनर्बलित कर रही है।
  • वह विद्यार्थियों को सामर्थ्यानुकूल स्मरण करने को प्रेरित कर रही है।

उत्तर: 1

प्रश्न. एक विद्यार्थी उच्चस्तरीय सृजनशील रंगमंचीय कलाकार बनना चाहता है। उसके लिए निम्नलिखित में से कौन-सा उपाय सबसे कम प्रेरक होगा?

  • राज्यस्तरीय प्रतियोगिताओं को जीतने का प्रयास करना ताकि छात्रवृत्ति पाई जा सके।
  • अपने रंगमंचीय कलाकार साथियों के साथ समानुभूतिपूर्ण, स्नेही तथा सहयोगी संबंध विकसित करना।
  • उन रंगमंचीय कौशलों को अधिक समय देना जिनसे वह प्रफुल्लित होता है।
  • संसार के श्रेष्ठ रंगमंचीय कलाकारों की निष्पति से संबद्ध साहित्य पढ़ने के लिए तथा उससे सीखने के प्रयास के लिए कहना।

उत्तर: 1

प्रश्न. इनमें से कौन-सा सिद्धांतकार यह मत स्पष्ट करता है कि बच्चे अपनी वृद्धि व विकास हेतु कठोर अध्ययन करते हैं?

  • बंडूरा
  • मैस्लोने
  • स्किनर
  • पियाजे

उत्तर: 2

प्रश्न. एक बच्चा अपनी मातृभाषा सीख रहा है व दूसरा बच्चा वही भाषा द्वितीय भाषा के रूप में सीख रहा है। दोनों निम्नलिखित में से कौन-सी समान प्रकार की त्रुटि कर सकते हैं?

  • अधिकाधिक सामान्यीकरण
  • सरलीकरण
  • विकासात्मक
  • अत्यधिक संशुद्धता

उत्तर: 3

प्रश्न. परीक्षा में तनाव निष्पत्ति को प्रभावित करता है। यह तथ्य निम्नलिखित में से किस प्रकार से संबंध को स्पष्ट करता है?

  • संज्ञान-भावना
  • तनाव-विलोपन
  • संज्ञान- प्रतियोगिता
  • निष्पत्ति-चिंता

उत्तर: 1

प्रश्न. एक अध्यापक उस बच्चे के साथ परामर्श करते हैं जिसकी निष्पत्यात्मक प्रगति एक दुर्घटना के पश्चात अनुकूल नहीं है। निम्नलिखित में से कौन-सी प्रक्रिया विद्यालय में परामर्श के लिए सबसे बेहतर हो सकती है?

  • यह एक उपशामक उपाय है ताकि लोग अपने को आरामदायक महसूस कर सकें।
  • यह अपने विचारों द्वारा खोज करने हेतु लोगों में आत्मविश्वास का निर्माण करता है।
  • विद्यार्थियों को भविष्य के विकल्पों को चुनने हेतु यह एक अच्छा संभावित परामर्श है।
  • इस कार्य को केवल अनुभवी कुशल व्यावसायिक विशेषज्ञ से राया जा सकता है।

उत्तर: 2

प्रश्न. निम्नलिखित में समस्या समाधान को क्या बाधित नहीं करता?

  • अंतर्दृष्टि (Insight)
  • मानसिक प्रारूपता (Mental sets)
  • मोर्चाबंदी (Entrenchment)
  • निर्धारण (Fixation)

उत्तर: ?

इस प्रश्न का सही उत्तर क्या होगा? हमें अपना जवाब कमेंट सेक्शन में जरूर दें।

कमेन्ट करें