UPTET/CTET हिंदी भाषा प्रैक्टिस सेट 56 : परीक्षा में जानें से पहले विगत वर्षों के इन 30 महत्वपूर्ण प्रश्नों का करें अध्ययन

CTET/UPTET Hindi Language Practice Set 56 : CTET की परीक्षा प्रारंभ हो चुकी है जोकि 13 जनवरी तक चलने वाली है, इस परीक्षा की तैयारी अभ्यर्थी कई महीनों से कर रहें है ताकि परीक्षा में बेहतर अंक प्राप्त कर सकें। CTET की परीक्षा ऑनलाईन माध्यम द्वारा कराई जा रही है। UPTET परीक्षा तिथि की घोषणा हो चुकी है, जो कि 23 जनवरी 2022 को आयोजित कराई जाएगी।

ऐसे में इस लेख के माध्यम से हम आपको UPTET/CTET के परीक्षा में पूछे गए विगत वर्षों के हिंदी भाषा के 30 महत्वपूर्ण प्रश्नों से अवगत कराएंगे, जिसका अध्ययन कर के आप अपनी तैयारी को और भी मजबूत बना सकतें हैं।

CTET/UPTET Hindi Language Practice Set 56
CTET/UPTET Hindi Language Practice Set 56

CTET/UPTET Hindi Language Practice Set 56

प्रश्न : भाषा शिक्षण का ज्ञानात्मक उद्देश्य बताइए

  • छात्रों में भाषा के प्रति सम्मान जागृत करना।
  • छात्रों में एकता का भाव जागृत करना।
  • देश की मूलभूत संस्कृति से परिचित कराना।
  • छात्रों को देश के विभिन्न भाषायी लोगों से सम्पर्क योग्य बनाना।

उत्तर : 4

प्रश्न : कविता शिक्षण का मुख्य उद्देश्य है

  • छात्रों को भाषा के शास्त्रीय पक्ष का ज्ञान कराना।
  • छात्रों को भावानुसार वाचन की दक्षता प्रदान करना।
  • छात्र की उदात्त भावनाओं का संवर्धन व रसानुभूति।
  • छात्र की आंगिक चेष्टाओं को परिष्कृत करना।

उत्तर : 2

प्रश्न : कक्षा शिक्षण में प्रश्नोत्तर प्रणाली का सबसे बड़ा लाभ है

  • छात्रों की प्रतिभागिता रहती है।
  • समय का सदुपयोग होता है।
  • छात्र अध्ययन के प्रति सचेत व अभिमुख रहते हैं।
  • शिक्षक का श्रम बचता है।

उत्तर : 3

प्रश्न : निम्नांकित में से सही विकल्प का चयन कीजिए

  • भाषा के पाठ्यक्रम में प्रारम्भ से ही व्याकरण की शिक्षा का प्रावधान होना चाहिए।
  • व्याकरण भाषा का नियन्त्रक होता है।
  • व्याकरण का क्रमबद्ध ज्ञान आवश्यक है।
  • भाषा के व्याकरण का मूल तत्त्व है-शब्द ज्ञान।

उत्तर : 1

प्रश्न : भाषा का प्रारम्भिक बोध होता है

  • अनुकरण एवं श्रवण से
  • चिन्तन एवं मनन से
  • अध्ययन-अध्यापन से
  • पठन-पाठन से

उत्तर : 1

प्रश्न : छात्रों के वर्तनीजन्य दोषों के निराकरण का उपयोगी उपागम है

  • बुद्धि परीक्षण
  • गृहकार्य का निरीक्षण
  • छात्र शिक्षक संवाद
  • उपचारात्मक शिक्षण

उत्तर : 4

प्रश्न : इ, ई, उ, ऊ किस प्रकार के स्वर हैं?

  • संवृत
  • अर्द्धसंवृत
  • विवृत
  • अर्द्धविवृत

उत्तर : 1

प्रश्न : मैथिल कोकिल किसे कहा जाता है?

  • सेनापति
  • विद्यापति
  • पद्माकर
  • घनानन्द

उत्तर : 2

प्रश्न : साहित्यिक अपभ्रंश को पुरानी हिन्दी नाम किसने दिया?

  • रामचन्द्र शुक्ल
  • हजारी प्रसाद द्विवेदी
  • राहुल सांकृत्यायन
  • महावीर प्रसाद द्विवेदी

उत्तर : 1

प्रश्न : किस शब्द में नञ् तत्पुरुष समास है ?

  • अनभिज्ञ
  • अनुकूल
  • गंगाजल
  • धर्माधर्म

उत्तर : 1

प्रश्न : यण सन्धि का उदाहरण है

  • मतैक्य
  • अत्युत्तम
  • शयन
  • तन्मय

उत्तर : 2

प्रश्न : निराला कृत ‘राम की शक्ति पूजा’ का आधार ग्रन्थ कौन है?

  • कम्बन रामायण
  • रामचरितमानस
  • कृत्तिवास रामायण
  • रामचन्द्रिका

उत्तर : 3

प्रश्न : अष्टछाप के कवियों में प्रथम नियुक्त कीर्तनकार कवि कौन थे?

  • नन्ददास
  • कृष्णादास
  • सूरदास
  • कुम्भनदास

उत्तर : 3

प्रश्न : चौपाई छन्द पर आधारित ‘रमैनी’ के रचनाकार हैं

  • बिहारी
  • रहीम
  • भूषण
  • कबीर

उत्तर : 4

प्रश्न : ‘कपोत’ शब्द का पर्यायवाची बताइए

  • परभृत
  • पिक
  • पारावत
  • चंचरीक

उत्तर : 3

प्रश्न : ‘चन्द्र सकलंक, मुख निष्कलंक’,
दोनों में समता कैसी।’
उक्त पद में कौन-सा अलंकार है?

  • रूपक
  • व्यतिरेक
  • असंगति
  • दीपक

उत्तर : 2

प्रश्न : ‘बोल्गा से गंगा’ के लेखक का नाम बताइए

  • रांगेय राघव
  • धर्मवीर भारती
  • राहुल सांकृत्यायन
  • राजेन्द्र यादव

उत्तर : 3

प्रश्न : ‘द्विवेदी युग’ का नामकरण किसके नाम से हुआ?

  • हजारी प्रसाद द्विवेदी
  • महावीर प्रसाद द्विवेदी
  • शान्ति प्रिय द्विवेदी
  • राम अवध द्विवेदी

उत्तर : 2

प्रश्न : ‘अधिकार सुख कितना मादक और सारहीन है।’ उक्त कथन जयशंकर प्रसाद के किस नाटक से लिया गया है?

  • चन्द्रगुप्त
  • अजातशत्रु
  • स्कन्दगुप्त
  • ध्रुवस्वामिनी

उत्तर : 3

निर्देश : निम्नलिखित पद्यांश को पढ़कर पूछे गए निम्नलिखित पांच प्रश्नों के सर्वाधिक उचित उत्तर वाले विकल्प का चयन कीजिए।

    तुम मांसहीन, तुम रक्तहीन 
    हे अस्थिशेष! तुम अस्थिहीन
    तुम शुद्ध बुद्ध आत्मा केवल, 
    हे चिर पुराण तुम। हे चिर नवीन!
    तुम पूर्ण इकाई जीवन की 
    जिसमें असारभव शून्य लीन,
    आधार अमर होगी जिस पर
    भावी की संस्कृति लीन । 

प्रश्न : उपरोक्त काव्यांश में कौन-सा छन्द है?

  • मनहर
  • मुक्त छन्द
  • गीतिका
  • तोमर

उत्तर : 2

प्रश्न : ‘तुम मांसहीन, तुम रक्तहीन’ से क्या भाव व्यक्त होता है?

  • जड़ता
  • पारमहंस्य स्थिति
  • दुर्बलता
  • विचारहीनता

उत्तर : 2

प्रश्न : ‘हे चिर पुराण! हे चिर नवीन!’ में कौन-सा अलंकार है?

  • विपर्यय
  • विभावना
  • विरोधाभास
  • असंगति

उत्तर : 3

प्रश्न : प्रस्तुत काव्य पंक्तियों के रचनाकार का नाम बताइए

  • धर्मवीर भारती
  • गजानन माधव मुक्तिबोध
  • सुमित्रानन्दन पन्त
  • मैथिलीशरण गुप्त

उत्तर : 3

प्रश्न : ‘पूर्ण इकाई जीवन की’ का भावार्थ क्या है?

  • जीवन के अन्तिम लक्ष्य की प्राप्ति
  • मानव जीवन की परिपक्वता
  • सम्पूर्ण व्यक्तित्व का विकास
  • सामाजिक अनुभव प्राप्त करना

उत्तर : 2

निर्देश : निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए निम्नलिखित पाँच प्रश्नों के सर्वाधिक उचित उत्तर वाले विकल्प का चयन कीजिए।

     शिक्षा चाहती है कि उसको अपने समाज से जोड़ा जाए, लोगों से जोड़ा जाए और हर विद्यार्थी को ऐसी लोकोन्मुख दृष्टि दी जाए कि सर्वोदय को अपना धर्म-कर्म मानने लगे।
     यद्यपि यह समझना आवश्यक है कि शिक्षा को शिक्षित करने का सबसे बड़ा स्थान समाज ही है। समाज की करुण कथाएँ एवं समाज में गरीब से गरीब का अर्थशास्त्र शिक्षा को शिक्षित करने में समर्थ है। शिक्षा के लिए तथ्य और तत्त्व दोनों ढूँढ़ने का सही स्थान समाज ही है।
     समाज में रहने वाले विलक्षण प्रतिभाशाली लोगों से पृथक् कोई भी शैक्षिक व्यवस्था अपने को सम्पन्न नहीं बना सकती। समाज के विश्लेषण से ही सच्ची शिक्षा सम्पन्न हो सकती है। इस तरह से शिक्षा अपने को सींचने का दाना-पानी समाज से ले सकती है और समाज को कुछ वापस कर सकती है। ऐसी लोकोपयोगी शिक्षा समाज को और फिर राष्ट्र को ओजस्वी और तेजस्वी बनाने में सफल होगी।

प्रश्न : ‘गरीब परिवार का अर्थशास्त्र’ शिक्षा को शिक्षित करने में कैसे समर्थ हो सकता है ?

  • शैक्षिक नियोजन में सर्वोदय के बिन्दुओं को समाहित करने से।
  • शिक्षा व्यवस्था में अधिक धन आवण्टित करने से।
  • गरीब परिवारों को आर्थिक मदद करने से
  • गरीबी के मूल कारणों का विश्लेषण करने से।

उत्तर : 1

प्रश्न : राष्ट्र को तेजस्वी कैसे बनाया जा सकता है?

  • शिक्षा के व्यापक प्रचार और प्रसार से।
  • विभिन्न सामाजिक स्रोतों से यथेष्ठ संसाधन जुटाने से।
  • महापुरुषों के जीवन से प्रेरणा लेने से।
  • समाज में व्याप्त बुराइयों के निराकरण से।

उत्तर : 1

प्रश्न : शिक्षा की सर्वोच्च अभिलाषा क्या है?

  • छात्र को आदर्श की ओर उन्मुख करना।
  • छात्र को आत्मनिर्भर बनाना।
  • छात्र में समाजोन्मुखी दृष्टिकोण विकसित करना।
  • छात्रों को कौशल विकास की दिशा प्रदान करना।

उत्तर : 3

प्रश्न : लोकोन्मुख दृष्टि का क्या आशय है?

  • सामाजिक परम्पराओं का बोध।
  • समाज के बहुमुखी विकास की सोच।
  • लौकिक विकास के प्रति चिन्तनपरता।
  • लोकादशों से परे कार्य करने का भाव।

उत्तर : 3

प्रश्न : ‘लोकोन्मुख’ शब्द में कौन-सी सन्धि है ?

  • यण सन्धि
  • अयादि सन्धि
  • गुण सन्धि
  • वृद्धि सन्धि

उत्तर : 3

प्रश्न : ‘अंग्रेजी’ शब्द मूलतः किस भाषा का है?

  • हिन्दी
  • तुर्की
  • फारसी
  • फ्रेंच

उत्तर : ??

इस प्रश्न का सही उत्तर क्या होगा? हमें अपना जवाब कमेंट सेक्शन में जरूर दें।

आशा है आपको यह प्रैक्टिस सेट पसंद आया होगा, सरकारी परीक्षाओं से जुड़ी हर जानकरियों हेतु सरकारी अलर्ट को बुकमार्क जरूर करें।

Leave a Comment