CTET हिंदी भाषा प्रैक्टिस सेट 61 : परीक्षा में शामिल होने से पहले पिछले वर्षों के इन 30 महत्वपूर्ण प्रश्नों का अवश्य करें अध्ययन

CTET Hindi Language Practice Set 61: CTET की परीक्षा प्रारंभ हो चुकी है जो कि 13 जनवरी तक चलने वाली है। जिसके लिए अभ्यर्थी कई महीनों से अपनी तैयारियों में लगे हुए हैं और इसकी परीक्षा ऑनलाईन माध्यम द्वारा कराई जा रही है। UPTET की परीक्षा 23 जनवरी 2022 को आयोजित कराई जाएगी। फ़िलहाल तैयारी का अंतिम समय चल रहा है। सभी अभ्यर्थी अपनी तैयारी बहुत ही तेजी से कर रहे हैं।
ऐसे में इस लेख के जरिये हम आपको CTET के परीक्षा में पूछे गए विगत वर्षों के हिंदी भाषा के 30 महत्वपूर्ण प्रश्नों से अवगत कराएंगे, जिसका अध्ययन कर के आप अपनी तैयारी को और भी मजबूती प्रदान कर सकतें हैं।

CTET Hindi Language Practice Set 61
CTET Hindi Language Practice Set 61

CTET Hindi Language Practice Set 61

प्रश्न. भारत के संविधान के किस अनुच्छेद में हिन्दी को राजभाषा घोषित किया गया है?

  • अनुच्छेद 315
  • अनुच्छेद 368
  • अनुच्छेद 343
  • अनुच्छेद 385

उत्तर : 3

प्रश्न. हिन्दी का प्रथम महाकाव्य कौन है?

  • पद्मावत
  • रामचरितमानस
  • पृथ्वीराज रासो
  • रामचन्द्रिका

उत्तर : 3

प्रश्न. हिन्दी किस भाषा परिवार की भाषा है?

  • एकाक्षरी
  • भारोपीय
  • द्रविड़
  • सेमेटिक

उत्तर : 2

प्रश्न. निम्नांकित में मूर्धन्य व्यंजन बताइए।

  • प, फ, ब, भ
  • ट, ठ, ड, ढ़
  • क, ख, ग, घ
  • त, थ, द, ध

उत्तर : 2

प्रश्न. निम्नांकित में वर्तनी की दृष्टि से अशुद्ध शब्द बताइए।

  • अनाधिकार
  • पुरस्कार
  • कवयित्री
  • सन्यास

उत्तर : 4

प्रश्न. निम्नांकित में योगरूढ़ शब्द बताइए।

  • मलयज
  • लम्बोदर
  • दिवाकर
  • माधव

उत्तर : 2

प्रश्न. निम्नांकित पद में कौन-सा अलंकार है?
बिनु पद चलै सुनै बिनु काना।
कर बिनु करम करै विधि नाना।।

  • विशेषोक्ति
  • निदर्शना
  • विभावना
  • व्यतिरेक

उत्तर : 3

प्रश्न. निम्नांकित पद्य किस छन्द में है?
“नवल सुन्दर श्याम शरीर की
सजल नीरद सी कल कान्ति थी।”

  • मालिनी
  • द्रुतविलम्बित
  • इन्द्रवज्रा
  • शालिनी

उत्तर : 2

प्रश्न. ‘वाक्यं रसात्मकं काव्यम्’ किसका कथन है?

  • विश्वनाथ
  • राजशेखर
  • मम्मट
  • पण्डितराज जगन्नाथ

उत्तर : 1

प्रश्न. ‘नाक पर सुपारी तोड़ना’ का अर्थ है।

  • इज्जत हल्की करना
  • असम्भव को सम्भव करना
  • बहुत परेशान करना
  • घृणा करना

उत्तर : 3

प्रश्न. निम्नांकित में किस शब्द में तत्पुरुष समास है?

  • वाचस्पति
  • त्रिभुवन
  • घनश्याम
  • चन्द्रशेखर

उत्तर : 1

प्रश्न. ‘पित्राज्ञा’ में कौन-सी सन्धि है?

  • गुण सन्धि
  • पूर्वरूप सन्धि
  • यण सन्धि
  • पररूप सन्धि

उत्तर : 3

प्रश्न. निम्नांकित में तद्धित प्रत्ययान्त शब्द बताइए।

  • शान्त
  • निन्दित
  • आदित्य
  • पतित

उत्तर : 2

प्रश्न. मंगलेश डबराल की कृति जिसके लिए उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला

  • घर का रास्ता
  • हम जो देखते हैं
  • पहाड़ पर लालटेन
  • उपरोक्त में से कोई नहीं

उत्तर : 2

प्रश्न. ‘हिन्दी शब्दानुशासन’ के रचनाकार का नाम बताइए।

  • पं. किशोरीदास वाजपेयी
  • महावीर प्रसाद द्विवेदी
  • आचार्य रामचन्द्र शुक्ल
  • विद्या निवास मिश्र

उत्तर : 1

प्रश्न. कालक्रम के अनुसार निम्नांकित रचनाओं का सही अनुक्रम बताइए।

  • राग दरबारी, झूठा सच, चन्द्रकान्ता, गोदान
  • झूठा सच, चन्द्रकान्ता, गोदान, राग दरबारी
  • चन्द्रकान्ता, गोदान, झूठा सच, राग दरबारी
  • गोदान, राग दरबारी, झूठा सच, चन्द्रकान्ता

उत्तर : 3

निर्देश-नीचे दिए गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के सर्वाधिक उचित उत्तर वाले विकल्प का चयन कीजिए।

मनुष्य अपने विकास के लिए बहुमूल्य प्राकृतिक संसाधनों का दोहन करके अपनी विविध आवश्यकताओं की पूर्ति करता है। प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षण, संवर्द्धन एवं मितव्ययतापूर्वक उपयोग मानव की कुशलता, लगन एवं समर्पण पर निर्भर है। प्रकृति के अमूल्य उपहारों, वन, जल, खनिज आदि को अपने कल्याण के लिए सम्पूर्ण प्रयोग करना मानव मात्र की इच्छा शक्ति व तर्कशक्ति पर निर्भर है। मानव की प्रगति के लिए सतत् विकास का महत्त्व गाँधी जी ने बहुत पहले ही पहचान लिया था, इसलिए सतत् विकास हेतु मानव की आत्मनिर्भरता को ध्यान में रखकर संसाधनों के संरक्षण पर जोर दिया। विकास का ध्येय जीवन के आर्थिक ही नहीं वरन् सामाजिक, आर्थिक और नैतिक स्तर को ऊँचा उठाना होना चाहिए। जहाँ इस आकाँक्षा की पूर्ति होगी उसे इतिहास में स्वर्ण युग का नाम देना उचित होगा न कि साहित्य और कला की तरक्की को। इस दृष्टि से भारत का स्वर्ण युग

दूर-दूर तक दिखाई नहीं देता। गाँधी जी अग्रगामी चिन्तक थे, क्योंकि वे औद्योगीकरण तथा आधुनिकीकरण की अंधी होड़ के खतरे को अच्छी तरह पहचानते थे। वे नव औद्योगिक सभ्यता की अमानवीय प्रकृति के घोर विरोधी थे। बीसवीं सदी के प्रारम्भ में जब पूरा विश्व विकास की ओर भाग रहा था, तब गाँधी जी ने ‘हिन्द स्वराज’ द्वारा विश्व समुदाय को आगाह किया। वे ऐसे विकास के समर्थक थे जो न सिर्फ मानव समाज की आवश्यकताओं की पूर्ति करे वरन् स्थायी रूप से भविष्य के लिए निर्बाध विकास का आधार प्रस्तुत करें।

प्रश्न. प्राकृतिक साधनों का इच्छा शक्ति व तर्कशक्ति से प्रयोग का अभिप्राय क्या है?

  • प्राकृतिक संसाधनों का दोहन न किया जाए
  • इच्छा के अनुरूप प्रयोग किया जाए
  • न्यूनतम आवश्यकता के अनुरूप प्रयोग किया जाए
  • संरक्षण व संवर्द्धन की भावना के साथ मितव्ययतापूर्वक उपयोग करना

उत्तर : 4

प्रश्न. स्वर्ण युग से गाँधी जी का अभिप्राय क्या था?

  • देश के आर्थिक विकास का युग
  • साहित्य और कला के विकास का युग
  • सामाजिक मान्यताओं के परिवेश में आर्थिक व नैतिक विकास का युग
  • औद्योगिक विकास का युग

उत्तर : 3

प्रश्न. गाँधी जी को अग्रगामी चिन्तन क्यों कहा गया?

  • उन्होंने स्वाधीनता आन्दोलन का नेतृत्व किया
  • उन्होंने अपनी दूरदृष्टि से आधुनिकीकरण के खतरे को भाँप लिया था
  • उन्होंने ‘हिन्द-स्वराज’ पुस्तक की रचना की
  • उन्होंने हिन्दू-मुस्लिम एकता का बीड़ा उठाया

उत्तर : 2

प्रश्न. विकास का अनिवार्य लक्षण है कि

  • विकास सतत् व नैतिक हो
  • व्यक्ति की भौतिक आवश्यकताओं की पूर्ति करें
  • विकास भौतिक सम्पन्नता का आधार हो
  • विकास मूलय: पारम्परिक हो

उत्तर : 1

प्रश्न. कविता शिक्षण में मौन पाठ वर्जित है, क्योंकि

  • समय का दुरुपयोग होता है
  • छात्रों का अवधान बाधित होता है
  • इससे रसानुभूति में व्यवधान होता है
  • शिक्षण का प्रवाह समाप्त होता है।

उत्तर : 3

प्रश्न. प्राथमिक स्तर पर व्याकरण शिक्षण की सर्वोत्तम विधि है

  • सूत्र अथवा निगमन प्रणाली
  • आगमन प्रणाली
  • पाठ्य पुस्तक प्रणाली
  • समवाय अथवा अन्तयोंग प्रणाली

उत्तर : 2

प्रश्न. विद्यार्थियों के भाषा कौशलों के विकास को बढ़ावा मिल सकता है, जब उन्हें

  • आपस में वार्तालाप व खेल के अवसर प्रदान किए जाएँ
  • अपने सन्देशों के प्रतिपादन के लिए प्रोत्साहन दिया जाए
  • विभिन्न सन्दर्भों में शब्दों के अर्थों का प्रदर्शन किया जाए
  • उपरोक्त सभी कुछ किया जाए

उत्तर : 4

प्रश्न. “भाषा वह प्राथमिक माध्यम है जिसके द्वारा व्यक्ति अपने समाज को प्रभावित करता है तथा समाज से प्रभावित होता है।” यह कथन किसका है?

  • स्वीट
  • हरलॉक
  • एलिस
  • कोमास्की

उत्तर : 3

प्रश्न. हिन्दी भाषा में स्पर्श व्यंजनों की संख्या है

  • 22
  • 23
  • 24
  • 25

उत्तर : 4

प्रश्न. एक बच्चा अपनी मातृभाषा सीख रहा है व दूसरा बद
यही भाषा द्वितीय भाषा के रूप में सीख रहा है। दोनो निम्नलिखित में से कौन-सी समान प्रकार की त्रुटि क
सकते हैं?

  • अत्यधिक शुद्धता
  • अधिकाधिक सामान्यीकरण
  • सरलीकरण
  • विकासात्मक

उत्तर : 3

निर्देश-नीचे दिए पद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के सर्वाधिक उचित उत्तर वाले विकल्प का चयन
कीजिए।

आज क्यों तेरी बीणा मौन ?
शिथिल-शिथिल तन यकित हुये कर,
स्पन्दन भी भुला जाता डर
मधुर कसक-सा आज हृदय में
आन समाया कौन?
चित्रित निद्रित से तारक चल।
सोता पारावार दृगों
में भर-भर लाया कौन?
आज क्यों तेरी वीणा मौन?

प्रश्न. इस कविता के रचयिता है

  • मन्नू भण्डारी
  • महादेवी वर्मा
  • सुभद्राकुमारी चौहान
  • निर्मला गर्ग

उत्तर : 2

प्रश्न. अपठित पद्यांश में किस रस को

  • करूण
  • श्रृंगार
  • शान्त
  • अद्भुत

उत्तर : 1

प्रश्न. भाव व्यंजना की दृष्टि से यह कविता

  • दुर्बोध रचना है
  • श्रेष्ठ रचनाओं में से एक है।
  • आरम्भिक रचना है,
  • प्रकृति चित्रण की दृष्टि से बेजोड़ है

उत्तर : 2

प्रश्न. रचयिता के विषय में यह निर्विवाद सत्य है कि वह

  • सर्वोत्कृष्ट कवयित्री यो
  • साधना में दूसरी मीरा थी
  • छायावादीत्रयी में न होकर अपनी विशिष्ट पहचान रखती थी
  • सुप्रसिद्ध छायावादी कवयित्री थो

उत्तर : ??

कमेन्ट करें