CBSE Ctet Child Development And Pedagogy Practice Set 08 | बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र कक्षा (I-V) के महत्वपूर्ण प्रश्नों का संग्रह, पढ़ें

CBSE Ctet Child Development And Pedagogy Practice Set 08 : केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) द्वारा केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (Ctet Exam 2022-23) का आयोजन शुरू हो चुका है। सीबीएसई सीटीईटी परीक्षा (CTET 2022-23 Exam) का आयोजन 28 दिसम्बर 2022 से लेकर 07 फरवरी 2023 तक किया जायेगा। आपको बता दें कि CTET परीक्षा के लिये इस साल कुल 32.45 लाख उम्मीदवारों ने आवेदन कराया है तथा इस संख्या को देखते हुये आयोग ने 74 शहरों में 243 केंद्रों के माध्यम से दो पालियों में परीक्षा पूर्ण कराने का निर्णय लिया है।

ऐसे में आज हम इस लेख के माध्यम से CBSE CTET Exam 2021 के महत्वपूर्ण प्रश्नों का उत्तर सहित व्याख्या लेकर आये हैं तथा इस Ctet Previous Year Solved Questions कि मदद से परीक्षार्थी को सीटेट परीक्षा 2022-23 में अच्छे अंक प्राप्त करने और प्रश्नों के स्तर को समझने में मदद मिलेगी। अतः परीक्षार्थी इन प्रश्नों का एक बार अध्ययन अवश्य करें।

CBSE Ctet Child Development And Pedagogy Practice Set 08
CBSE Ctet Child Development And Pedagogy Practice Set 08

CBSE Ctet Child Development And Pedagogy Practice Set 08 (30 प्रश्न)

प्रश्न. शिक्षा के क्रियाशीलता के सिद्धान्त’ का क्या अर्थ है ?

  • शिक्षक को कक्षा में अत्यधिक क्रियाशील रहना चाहिए
  • जो छात्र क्रियाशील होते हैं, उन्हें करके सीखने का अवसर दिया जाना चाहिए
  • क्रियाशील छात्रों को काम में व्यस्त रखना चाहिए अन्यथा वे अनुशासनहीन बन जाते हैं
  • उपरोक्त सभी

उत्तर: 2

प्रश्न. छात्रों में मौखिक अभिव्यक्ति को विकसित करने का तरीका है?

  • परिचर्चाओं का आयोजन
  • भाषण प्रतियोगिता का आयोजन
  •   अन्त्याक्षरी का आयोजन
  • उपरोक्त सभी

उत्तर: 4

प्रश्न. वस्तुनिष्ठ प्रश्नों का उद्देश्य है?

  • छात्रों के लेखन कौशल की जाँच
  • छात्रों की अभिरुचि की जाँच
  • छात्रों की संगठनात्मक क्षमता की जाँच
  • छात्रों की कौशलता एवं ज्ञानोपार्जन की जाँच

उत्तर: 4

प्रश्न. गार्डनर के बुद्धि सिद्धान्त के अनुसार बुद्धि का एक प्रकार है?

  • भाषायी बुद्धि
  • स्थनिक बुद्धि
  • अस्तित्ववादी बुद्धि
  • यें सभी

उत्तर: 4

प्रश्न. मीरा ने अपनी कक्षा में एक छात्रा से पूछा कि 5 में 2 से गुणा करने पर क्या आएगा तो छात्रा अपने स्थान पर खड़ी होकर चिन्तन करने लगती है तथा मीरा को उत्तर बताती है। प्रश्न का उत्तर बताते समय छात्रा किस प्रकार का चिन्तन कर रही थी ?

  • सृजनात्मक चिन्तन
  • अपसारी चिन्तन
  • अभिसारी चिन्तन
  • आलोचनात्मक चिन्तन

उत्तर: 3

प्रश्न. अपनी कक्षा में एक बालक नए और अधिक साहचयों के निर्माण में निहित रहता है। शिक्षक होने की दृष्टि से आप उसे किस श्रेणी में रखेंगे?

  • प्रतिभावान
  • मन्द बुद्धि
  • सृजनात्मक
  • सामान्य

उत्तर: 3

प्रश्न. पूर्व बाल्यावस्था में बालक में जिन सामाजिक विशेषताओं का अविर्भाव और विकास होता है, उनमें से प्रमुख नहीं हैं?

  • अनुकरण
  • परिपक्वता
  • स्पर्धा
  • खेल

उत्तर: 2

प्रश्न. किसी छात्र के भावी जीवन की सफलता प्रसन्नता और कुशलता काफी हद तक समस्या समाधान पर निर्भर करती है। अतः शिक्षक को चाहिए कि वह छात्र को समस्या का समाधान कराते समय ध्यान रखे

  • समस्या के महत्त्व का
  • अव्यवस्थित तथ्यों के मूल्यांकन करने का
  • तथ्यों को असंगठित करने का
  • उपरोक्त सभी का

उत्तर: 1

प्रश्न. अपने विषय के शिक्षण को प्रभावी बनाने के लिए आप?

  • छात्रों को सम्बन्धित विषय से प्रश्न पूछने के लिए प्रोत्साहित करेंगे
  • छात्रों को सम्बन्धित पाठ को बार-बार दोहराने के लिए कहेंगे
  • विषय से सम्बन्धित प्रश्नों को गृहकार्य के रूप में देंगे
  • कक्षा में ही कार्य करने के लिए कहेंगे तथा उसका परीक्षण करेंगे

उत्तर: 4

प्रश्न. ‘टर्मन के बुद्धि-लब्धि के अनुसार सामान्य बुद्धि परीक्षण का IQ कितना है?

  • 120-129
  •   70-79
  •   90-109
  •   80-89

उत्तर: 3

प्रश्न. बाल विकास के मस्तकाधोमुखी सिद्धान्त के सम्बन्ध में कौन-सा कथन उचित है?

  • विकास सिर से पैर की तरफ होता है
  • विकास पैर से सिर की तरफ होता है
  • विकास केन्द्र से शुरू होकर आगे बढ़ता जाता है।
  • विकास बाएँ हाथ से दाएँ हाथ की तरफ होता है।

उत्तर: 1

प्रश्न. कक्षा-कक्ष में अनुशासन की बुनियादी कसौटी है

  • एक व्यवस्था क्रम का आभास
  • कक्षा में होने वाले अधिगम की मात्रा
  • कक्षा के सदस्यों द्वारा उत्तम व्यवहार का प्रदर्शन
  • छात्रों में स्वनिर्देशन प्रवृत्तियों का विकास

उत्तर: 4

प्रश्न. मानव विकास में वंशानुक्रम और वातावरण की भूमिका के सम्बन्ध में कौन-सा कथन सही है?

  • वातावरण की भूमिका लगभग स्थायी है, जबकि वंशानुक्रम के प्रभाव को बदला जा सकता है।
  • व्यवहारवाद’ पद आधारित सिद्धान्त मुख्य रूप से मानव विकस में प्रकृति की भूमिका पर आधारित है
  • वंशानुक्रम और वातावरण के सापेक्षिक प्रभाव विकास के विभिन्न क्षेत्रों में भिन्न-भिन्न हैं
  • भारत सरकार की क्षतिपूरक पक्षपात की नीति मानव विकास पर प्रकृति के प्रभाव पर आधारित है

उत्तर: 3

प्रश्न. प्रभावशाली अधिगम में मनोवैज्ञानिक शक्तियाँ शिक्षण को सहायता प्रदान कर शिक्षार्थियों के व्यवहार तथा अधिगम के लक्ष्यों को सुनिश्चित करती हैं। इन व्यवहारों तथा अधिगम का लक्ष्य नहीं है।

  • ज्ञानात्मक
  • संवेदात्मक
  • क्रियात्मक
  • भावात्मक

उत्तर: 2

प्रश्न. शिक्षार्थियों को उनके कार्य की प्रतिपुष्टि देने के साथ उन मानकों को स्थापित करना जिनको पाने के लिए वे प्रयासरत् रहे हैं, कार्य है

  • सुनियोजित मापन का
  • सुनियोजित अभिप्रेरणा का
  • सुनियोजित आकलन का
  • सुनियोजित प्रयोगशाला का

उत्तर: 2

प्रश्न. छोटे बच्चों में अवलोकनात्मक एवं गुणात्मक आकलन का आधार है।

  • बच्चों द्वारा दूसरों के माध्यम से सीखी गई गतिविधियाँ
  • बच्चों द्वारा स्वयं सीखी गई गतिविधियाँ
  • शिक्षक द्वारा बच्चों को सिखाई गई गतिविधियाँ
  • परिवार द्वारा बच्चों को सिखाई गई गतिविधिया

उत्तर: 2

प्रश्न. यदि आपकी कक्षा में कुछ शिक्षार्थी वार्षिक परीक्षा में फेल हो जाते हैं, तो वे दर्शाते हैं

  • अपने बुद्धि स्तर को
  • विद्यालय की असफलता को
  • परिवार की आर्थिक स्थिति को
  • अपनी सामाजिक बुराइयों को

उत्तर: 2

प्रश्न. बालकों में पाई जाने वाली मूल प्रवृत्तियों के विषय में सही कथन है?

  • मूल प्रवृत्तियाँ केवल विशिष्ट बालकों में पाई जाती हैं
  •   मूल प्रवृत्तियों की अभिव्यक्ति के लिए प्रशिक्षण की आवश्यकता पड़ती है
  • मूल प्रवृत्तियाँ जन्मजात तथा आन्तरिक होती हैं
  • प्रत्येक मूल प्रवृत्ति किसी लक्ष्य की ओर प्रेरित नहीं करती है

उत्तर: 3

इसे भी पढ़ें

  1. CBSE CTET Exam 2022 महत्वपूर्ण वन लाइनर GK
  2. सीबीएसई Ctet बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र प्रैक्टिस सेट 06
  3. सीबीएसई Ctet बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र प्रैक्टिस सेट 05

प्रश्न. बालको के विकास के सम्बन्ध में सही कथन है

  • विकास बालक में होने वाले सभी परिवर्तनों का योग है
  • विकास की एक अवस्था का प्रभाव, दूसरी अवस्था पर नहीं पड़ता है
  •   बालक का विकास जीवन पर्यन्त चलने वाली एक प्रक्रिया है।
  • बालक का विकास उसके शारीरिक, मानसिक तथा व्यावहारिक संगठन से सम्बन्धित है।

उत्तर: 2

प्रश्न. कुछ शिक्षाशास्त्रियों का विचार है कि बालक गणित और विज्ञान में आगे होते हैं, जबकि बालिकाएँ भाषा और सुन्दर हस्तलेखन में। आपके अनुसार इस विचार का मुख्य कारण है

  • संवेगिक भिन्नता
  • व्यक्तिगत भिन्नता
  • रुचि भिन्नता
  • तर्कनात्मक भिन्नता

उत्तर: 2

प्रश्न. शिक्षार्थी नैतिक शिक्षा को तब ही ग्रहण कर सकतव हैं जब –

  • नैतिक शिक्षा को पाठ्यक्रम से जोड़ दिया जाए
  • शिक्षक स्वयं उसका आचरण करें
  • परीक्षा में इससे सम्बन्धित प्रश्न पूछा जाए
  • नैतिक शिक्षा सबके लिए अनिवार्य कर दी जाए

उत्तर: 2

प्रश्न. प्रगतिशील शिक्षा के प्रमुख पक्षधर जॉन ड्यूवी के अनुसार शिक्षा एक

  • सैद्धान्तिक आवश्यकता है
  • वैयक्तिक आवश्यकता है
  • मनोवैज्ञानिक आवश्यकता है
  • सामाजिक आवश्यकता है

उत्तर: 3

प्रश्न. पाठ्यक्रम यदि समाज के प्रति अपने दायित्व की पूर्ति में सहायक है, तो विद्यालय को अनिवार्य रूप से होना चाहिए

  • शिक्षार्थियों की परिवर्तित आवश्यकताओं के अनुरूप, विद्यालय की शिक्षण व्यवस्था में भी तर्कसंगत परिवर्तन करें
  • पाठ्यक्रम का उचित चयन एवं निर्माण करें, ताकि शिक्षार्थियों की आवश्यकताओं की पूर्ति सम्भव हो सके
  • उन पाठ्य-पुस्तकों का चुनाव करें जो प्राथमिकता के आधार पर शिक्षार्थियों की बुनियादी आवश्यकताओं की पूर्ति में सहायक हों
  • शिक्षार्थियों की बुनियादी आवश्यकताओं का निर्धारण करें तथा उनके अनुकूल पाठ्यक्रम निर्माण करें

उत्तर: 3

प्रश्न. गैग्ने निम्न में किससे सम्बन्धित है?

  • अधिगम का श्रेणीक्रम
  • अधिगम के सिद्धान्त
  • अधिगम का मूल्यांकन
  • अधिगम का प्रबन्धन

उत्तर: 1

प्रश्न. जीन पियाजे द्वारा प्रतिपादित संज्ञानात्मक विकास सिद्धान्त की अन्तिम अवस्था है?

  • मूर्त संक्रियात्मक
  • इन्द्रीयजनित गामक अवस्था
  • अमूर्त संक्रियात्मक अवस्था अवस्था
  • पूर्व संक्रियात्मक अवस्था

उत्तर: 3

प्रश्न. बुद्धि परीक्षणों की उपयोगिता है?

  • वैयक्तिक भिन्नता के अध्ययन में
  • अनुशासन से सम्बन्धित समस्याओं को हल करने में
  • मन्द बुद्धि बालकों का अध्ययन करने में
  • उपरोक्त सभी अध्ययनों में

उत्तर: 1

प्रश्न. जब बालक अपने विचारों को मानसिक स्तर पर वातावरण के प्रति समायोजित करता है, तब यह प्रक्रिया जन्म देती है

  • आत्म सम्मान को
  • चिन्तन को
  • कल्पना को
  • स्वअभिलाषा को

उत्तर: 2

प्रश्न. जब समावेशी शिक्षा के अन्तर्गत अधिक-से-अधिक प्रतिभाशाली तथा 15 सामान्य बालकों की सीमाओं को समाप्त कर जन साधारण के मध्य शिक्षा ग्रहण करने के अवसर दिए जाते हैं, तो यह प्रक्रिया कहलाती है

  • व्यवहारीकरण
  • सामान्यीकरण
  • उत्तरदायीकरण
  • अमान्यीकरण.

उत्तर: 2

प्रश्न. एक बालक के विकास के सिद्धान्तों की समझ एक शिक्षक की किस प्रकार सहायता करती है?

  • छात्र के सामाजिक स्तर की पहचान करने में
  • छात्र की आर्थिक पृष्ठभूमि की पहचान करने में
  • यह समझने के लिए कि छात्र को किस प्रकार पढ़ाया जाए  सीखने के अनुसार छात्रों को पढ़ाने में

उत्तर : ?

इस प्रश्न का सही उत्तर क्या होगा? हमें अपना जवाब कमेंट सेक्शन में जरूर दें।

  1. Para sharma

    Reply
  2. 3

    Reply
कमेन्ट करें