CTET बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र प्रैक्टिस सेट 04 : CTET के पिछलें वर्षो में पूछे गए बेहद महत्वपूर्ण प्रश्नों का अध्ययन यहाँ से जरुर करें

CBSE CTET Child Development And Pedagogy Practice Set 04 : उत्तर प्रदेश में CTET 2022 Exam की परीक्षा को लेकर केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) द्वारा बड़ा ऐलान कर दिया गया है। CTET Exam 2022 का आयोजन दिसम्बर 2022 से जनवरी 2023 के बीच में किया जाएगा। ऐसे जो उम्मीदवार इस परीक्षा में अपनी सफलता सुनिश्चित करना चाहते हैं, उनके लिए CTET Practice Set हल करना एक उचित रणनीति है। इसलिए आज हम आपके लिए CTET Child Development And Pedagogy Practice Set लेकर आ चुके हैं।

ऐसे में इस लेख के जरिए बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र के विगत वर्षों में कराए गए बेहद महत्वपूर्ण प्रश्नों का संग्रह लेकर आए हैं ऐसे में सभी परीक्षार्थी इन प्रश्नों का अध्ययन जरूर करें ताकि परीक्षा में बेहतर अंको से सफलता हासिल कर सकें।

CBSE CTET Child Development And Pedagogy Practice Set 04
CBSE CTET Child Development And Pedagogy Practice Set 04

CBSE CTET Child Development And Pedagogy Practice Set 04

प्रश्न. पियाजे के नैतिक विकास सिद्धान्त में निहित नहीं है-

  • चार से सात वर्ष के बच्चों में बहारी सत्ता से प्राप्त नैतिकता के गुण दिखाई पड़ते हैं
  • चार से सात वर्ष के बच्चे न्याय और नियमों को संसार के परिवर्तनशील गुण धर्म के रूप में मानते हैं
  • सात से दस वर्ष के बच्चों का नैतिक चिन्तन पहली अवस्था से दूसरी अवस्था में मिलता है
  • दस से अधिक आयु के बच्चों में स्वायत्ता पर आधारित नैतिकता के गुण दिखाई पड़ते हैं

उत्तर: 2

प्रश्न. पूर्व प्राथमिक स्तर पर बच्चे को खोज की अनुमति देने से उसे संतोष मिलता है। वे व्यथित हो जाते हैं, जब उन्हें हतोत्साहित किया जाता है। वे ऐसा अपनी अभिप्रेरणा के कारण करते हैं?

  • अपनी उपेक्षा को कम करने
  • कक्षा में विकार पैदा होने
  • कक्षा के साथ सम्बद्ध होने
  • उनकी शक्ति का उपयोग होने

उत्तर: 1

प्रश्न. एक शिक्षक के लिए निम्नलिखित में से कौन-सी सर्वाधिक प्रभावी विधि हो सकती है जो उनकी इस अपेक्षा को पूरी कर सके कि वंचित विद्यार्थी भी अपनी भागीदारी में सफल हो?

  • उनकी सफलता के लिए उसके अंदर क्षमता के प्रति विश्वास भावना को अभिव्यक्त करना।
  • पढ़ाए गए विषयों में रुचि को विकसित करना।
  • उन्हें अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए अन्य बच्चों के साथ तुलना करना।
  • इस बात पर बल देना कि आपकी उनसे अधिक उम्मीदें हैं।

उत्तर: 1

प्रश्न. समस्या समाधान के आरम्भ से पहले एक प्रश्न को सामने रखे जाने के तरीके को क्या कहते हैं?

  • प्रतिनिधित्व
  • फ्रेमिंग (Framing)
  • ऊष्मायन (Incubation)
  • आधारभूत तत्व की परिभाषा

उत्तर: 2

प्रश्न. अन्तर्दर्शी, आकस्मिक या व्यक्तिगत सोच को-

  • आगमनात्मक (inductive) सोच कहते हैं.
  • निगमनात्मक (Deductive) सोच कहते हैं
  • तार्किक सोच कहते हैं।
  • असंगत सोच कहते हैं

उत्तर: 4

प्रश्न. एक शिक्षक पाठ पढ़ाने में फलों और सब्जियों की कुछ तस्वीरों का उपयोग कर छात्रों के साथ एक चर्चा आयोजित करता है। छात्र अपने पूर्व ज्ञान के साथ पोषण की नई अवधारणा को जोड़ने का प्रयास करते हैं। यह तरीका निम्न में से किस उपागम पर आधारित है।

  • अधिगम का शास्त्रीय अनुबंधन
  • पुनर्बलन का सिद्धान्त
  • अधिगम का सक्रिय अनुबंधन
  • ज्ञान का निर्माण

उत्तर: 4

प्रश्न. मानकीकृत जाँच परीक्षाओं के फायदेमन्द होने पर तर्क दिया जा सकता है क्योंकि

  • यह प्रतिभाशाली और उच्च बौद्धिक स्तर वाले व्यक्तियों को उनका स्थान दिलाने में सहायता करता है।
  • मानकीकृत जाँच परीक्षा और शैक्षिक प्रदर्शन के बीच श्रेष्ठ सहसम्बन्ध है
  • ये भविष्य में पेशे में सफलता की भविष्यवाणी करते हैं
  • वे दाखिला अधिकारी के निर्णयों की अपेक्षा अधिक निष्पक्ष और यथार्थवादी होते हैं।

उत्तर: 4

प्रश्न. यह तथ्य कि साधारण भाई बहनों की तुलना में जुड़वा भाई बुद्धि में एक जैसे होते हैं, क्या दर्शाता है?

  • समान आनुवंशिक कारक
  • समान वातावरणीय कारक
  • वंशानुक्रम के प्रभाव को
  • इनमें से कोई नहीं

उत्तर: 2

प्रश्न. अन्तर्भूत अभिप्रेरणा घटित होती है जब

  • आभार या अनुमोदन कारक हो
  • किसी के व्यवहार के लिए प्रत्यक्ष बाह्य पुरस्कार न हो
  • व्यवहार को नियन्त्रित करने वाले प्रत्यक्ष बाह्य कारक हो
  • बाह्य अभिप्रेरणा भी अधिक हो

उत्तर: 2

प्रश्न. बालक के समाजीकरण का उद्देश्य होता है

  • एक सामाजिक समूह के प्रतिमानों को विकसित करना
  • व्यक्तिगत सामाजिक समायोजन में वृद्धि करना
  • समूह मानकों को ग्राह्मशील बनाना
  • बालक की अभिवृत्तियों, पसन्दों तथा विश्वासों का विकास करना

उत्तर: 1

प्रश्न. पाठ्य सहगामी क्रियाओं का प्रमुख उद्देश्य होता है-

  • शिक्षार्थी को विद्यालय छोड़ने से बचाना
  • शिक्षार्थी को उन्नतशील विद्यालयी वातावरण प्रदान करना
  • शिक्षार्थी अनुशासनहीनता की समस्याओं का निदान करना
  • शिक्षार्थियों के विकास को संवर्द्धित करना

उत्तर:

प्रश्न. अभिप्रेरण-

  • परीक्षण का परिणाम है।
  • अभिप्रेरणा और सीखने की इच्छा दोनों एक बात है
  • बालकों को नई बातें सीखने को उकसाता है
  • उस अनुकूल परिस्थिति को कहते हैं जिसमें बच्चे सीखते हैं।

उत्तर: 3

प्रश्न. सफल अधिगम के लिए आवश्यक है कि-

  • शिक्षक बीच-बीच में शिक्षार्थियों का मनोरंजन भी करता रहे
  • शिक्षार्थियों के मानसिक स्तर एवं रुचि को ध्यान में रखकर उन्हें पढ़ाया जाए
  • शिक्षक को अपने विषय पर पूर्ण अधिकार हो
  • धनी परिवार के शिक्षार्थियों हेतु अलग कक्षा-कक्ष की व्यवस्था की जाए

उत्तर: 2

प्रश्न. आप यदि किसी ऐसे विद्यालय में पढ़ा रहे हैं जहाँ शिक्षार्थी आदिवासी हैं, तो आप इन शिक्षार्थियों को अनुशासन में रखने के लिए क्या उपाय अपनाएँगे?

  • आप उन्हें खुली छूट देंगे कि वे विद्यालय में आएँ या न आएँ आप उनकी पृष्ठभूमि को ध्यान में रखकर उनसे बहुत बचकर रहेंगे
  • आप उनकी पाठ्यचर्या को इस प्रकार सुसंगठित करेंगे कि वह उनकी आवश्यकताओं की पूर्ति में सहायक हो।
  • ऐसा करने से अनुशासनहीनता की समस्या स्वतः कम हो जाएगी
  • उनकी पारिवारिक पृष्ठभूमि को ध्यान में रखकर आप उन्हें गलती करने पर कठोर दण्ड देंगे

उत्तर: 3

प्रश्न. निम्न में से कौन-सा प्रतिभाशाली बालक का लक्षण नहीं है?

  • अमूर्त रूप से सोच विचार करने की योग्यता
  • नवीन परिवेश में स्वयं को समायोजित करने की योग्यता
  • प्रवाहपूर्ण तथा उचित सम्प्रेषण करने की योग्यता
  • लम्बे निबन्धों को जल्दी रट लेने की योग्यता

उत्तर: 4

प्रश्न. “सभी के लिए एकसमान परीक्षा पद्धति” आकलन की दृष्टि से उपयुक्त नहीं है क्योंकि यह

  • शिक्षक-केन्द्रित नहीं होती है
  • बाल-केन्द्रित नहीं होती है
  • रचनात्मक होती है
  • सांगठनिक रूप से ठीक नहीं होती है।

उत्तर: 2

प्रश्न. शिक्षण प्रक्रिया के अन्तर्गत प्राप्त हुए अनुभव और अनुभव के बाद की गई गतिविधियाँ स्कूली शिक्षा के किसी भी स्तर पर, में और कारगर हो सकती हैं। मूल्यवान

  • आकलन
  • मापन
  • स्कूली भाषण
  • लिंग-भेद

उत्तर: 1

यह भी पढें

प्रश्न. पूर्वानुभूति सिद्धान्त की मान्यता है-

  • बालक खेलों में भावी जीवन की झलक देखता है
  • बालक पैदाइशी खेलने वाला होता है।
  • बालक की यह जन्मजात प्रवृत्ति है।
  • बालक खेलों को मनोरंजन मानता है।

उत्तर: 1

प्रश्न. निम्नलिखित में से बालक की कौन-सी प्रवृत्ति उन्हें खेल खेलने में प्रवृत्त करती है?

  • बाल चपलता
  • बाल सुलभता
  • बालकों की स्वाभाविक प्रवृत्ति
  • बालकों की प्ररेणाएँ

उत्तर: 3

प्रश्न. “वह हर बच्चा जो अपने आयु स्तर के बच्चों में किसी योग्यता में अधिक हो और हमारे समाज के लिए कुछ महत्त्वपूर्ण नई देन दे, प्रतिभाशाली बालक है।” उक्त कथन है

  • मौरनो का
  • कॉल्सनिक का
  • स्किनर का
  • वुडवर्थ का

उत्तर: 3

प्रश्न. बाल्यावस्था की प्रमुख विशेषता नहीं है।

  • प्रबल जिज्ञासा प्रवृत्ति
  • संचय की प्रवृत्ति
  • अन्तर्मुखी व्यक्तित्व
  • अनुकरण की प्रवृत्ति

उत्तर: 3

प्रश्न. किसी 6 वर्ष के मानसिक आयु के बालक की बुद्धि-लब्धि 150 हो, तो उसकी वास्तविक आयु होगी-

  • 12 वर्ष
  • 8 वर्ष
  • 4 वर्ष
  • 10 वर्ष

उत्तर: 3

प्रश्न. निम्न में से कौन-सा वाक्य असत्य है?

  • लिंग भेद का बुद्धि पर प्रभाव पड़ता है।
  • वंशानुक्रम का बुद्धि पर प्रभाव पड़ता है।
  • वातावरण का बुद्धि पर प्रभाव पड़ता है।
  • मानसिक क्रियाओं का बुद्धि पर प्रभाव पड़ता है

उत्तर: 1

प्रश्न. बालक जो……….से ग्रस्त है वह विभिन्न ध्वनियों के बीच अन्तर महसूस न कर पाने की समस्या महसूस करता है।

  • ऑडिटरी प्रोसेसिंग डिसऑर्डर
  • डिस्फेज्या
  • डिस्ग्राफिया
  • डिस्लक्सिया

उत्तर: 1

प्रश्न. आंशिक पुनर्बलन के विषय में सही कथन है

  • सतत् पुनर्बलन की अपेक्षा अधिक प्रभावशाली होता है
  • सतत् पुनर्बलन की अपेक्षा कम प्रभावशाली होता है
  • कक्षा-कक्ष में प्रयोग करने हेतु उपयुक्त नहीं है
  • उपरोक्त में से कोई नहीं

उत्तर: 1

प्रश्न. बुद्धि के वैयक्तिक परीक्षण की विशेषता है

  • सामान्य योग्यता वाला व्यक्ति इसका आयोजन कर सकता है
  • यह परीक्षण केवल वयस्कों के लिए उपयुक्त है
  • इस परीक्षण में परीक्षक, परीक्षार्थी के गुण-दोष का पूर्ण अध्ययन कर
  • सकता है
  • इस परीक्षण के प्रश्नों को कम परिश्रम तथा योग्यता के आधार पर भी बनाया जा सकता है

उत्तर: 3

प्रश्न. ‘कोई भी नाराज हो सकता है यह बहुत आसान है लेकिन सही उद्देश्य के लिए, सही समय पर, सही मात्रा में सही तरीके से और सही व्यक्ति पर गुस्सा होना इतना आसान नहीं है।’ यह निम्न में से किससे संबंधित है?

  • सामाजिक विकास
  • संज्ञानात्मक विकास
  • संवेगात्मक विकास
  • शारीरिक विकास

उत्तर: 3

प्रश्न. जब बालक किसी कार्य को अपनी स्वयं की इच्छा से करता है तथा उस कार्य को करने पर उसे सन्तोष की अनुभूति होती है, तो इस स्थिति में शिक्षक द्वारा उसे प्रदान की गई अभिप्रेरणा कहलाती हैं

  • आन्तरिक
  • बाह्य
  • नकारात्मक
  • सामान्य

उत्तर: 1

प्रश्न. निबन्धात्मक परीक्षण, सर्वाधिक प्रचलित उपलब्धि परीक्षण है किन्तु फिर भी इसका मुख्य दोष है

  • बालकों की विभिन्न योग्यताओं का परीक्षण
  • उत्तर व भाव प्रकाशन की स्वतन्त्रता
  • विश्वसनीयता का अभाव
  • बालकों की प्रगति का वास्तविक ज्ञान

उत्तर: 3

प्रश्न. वैयक्तिक भिन्नता का क्षेत्र नहीं है

  • शारीरिक
  • मानसिक
  • आर्थिक
  • संवेगात्मक

उत्तर : ?

इस प्रश्न का सही उत्तर क्या होगा? हमें अपना जवाब कमेंट सेक्शन में जरूर दें।

  1. 3

    Reply
कमेन्ट करें